एडवांस्ड सर्च

समाचार सार-नया पंखपुरुष

काम के इस भार को कम करने के लिए उन्होंने पूर्व विदेश सचिव को लाने का फैसला किया. अब जयशंकर यह पूरी जिम्मेदारी संभाल लेंगे, साउथ ब्लॉक में देखने वाली बात यह होगी.

Advertisement
संदीप उन्नीथननई दिल्ली, 12 June 2019
समाचार सार-नया पंखपुरुष एस. जयशंकर

दिल्ली की रायसीना हिल्स पर यह कानाफूसी लंबे वक्त से थी कि पूर्व विदेश सचिव एस. जयशंकर का नाम मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में किसी ओहदे के लिए चल रहा है—आला अफसर की मंदारिन भाषा की महारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भीतर ही भीतर इस कदर भरोसा जो है. मगर 30 मई को जयशंकर को विदेश मंत्री बनाए जाने पर हर कोई हैरान रह गया.

भारतीय जनता पार्टी के सूत्र इस फैसले की जड़ हाल ही की उस समीक्षा बैठक में बताते हैं जो प्रधानमंत्री के दफ्तर ने विदेश मंत्रालय के अफसरों के साथ की थी. ऐन चुनावों के दौरान हुई इस बैठक में मोदी ने पाया कि उनके कामों का तकरीबन 30 फीसदी हिस्सा विदेश नीति से जुड़े मामलों का है.

काम के इस भार को कम करने के लिए उन्होंने पूर्व विदेश सचिव को लाने का फैसला किया. अब जयशंकर यह पूरी जिम्मेदारी संभाल लेंगे, साउथ ब्लॉक में देखने वाली बात यह होगी कि क्या अपने दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री और भी ज्यादा भीतरी मामलों की तरफ केंद्रित होंगे.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay