एडवांस्ड सर्च

Advertisement

शब्दशः: जिंदगी और मौत का टेस्ट मैच

उत्तर उपनिवेशवाद युग के सवालों को आसानी से हल नहीं किया जा सकता. अपेक्षाकृत अधिक तर्कसंगत रूप में अक्सर उथलपुथल होती रहेगी. व्यापक जनाधार और लोकप्रिय संस्थानों वाले धर्मतंत्रवादी अपने आपको आदर्शवाद के लबादे में लपेटकर आगे आएंगे.
शब्दशः: जिंदगी और मौत का टेस्ट मैच
एम.जे. अकबरनई दिल्‍ली, 09 October 2012

कहानी तो दिलचस्प है लेकिन उसमें उतना मजा भी नहीं है. पहले जुमे को दिल का गुबार निकालने की आजादी थी. पाकिस्तानी हुकूमत ने कारोबार और मौज-मस्ती को मिलाते हुए आम छुट्टी का ऐलान कर दिया ताकि इस्लाम के पैगंबर पर बनाई गई नफरतभरी और विवादास्पद फिल्म के खिलाफ नौजवान अपना गुस्सा निकाल सकें.

यह फिल्म ऐसे धोखेबाज अमेरिकी ने बनाई थी जिसे बैंक फ्रॉड का दोषी पाया गया था और रिहाई की शर्तों के उल्लंघन के इल्जाम में उसे फिर से गिरफ्तार कर लिया गया. गुनाह के प्रतीक-कराची और पेशावर के सिनेमा हॉलों को जला देने या फिर रास्ते में कुछ मोटर गाडिय़ों को फूंक देने पर लोग बस कंधा उचकाकर रह गए. लड़के तो लड़के ही ठहरे. सच्चाई तो यह है कि पेशावर का एक थिएटर वासना के भूखे सैकड़ों लोगों को पोर्न दिखाने के लिए मशîर था. उसके मालिक एक मंत्री थे, जिन्होंने प्रायश्चित के तौर पर फौरन उस फिल्म निर्माता के सिर की कीमत का ऐलान कर दिया.

अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास के अधिकारी अगले जुमे यानी 29 सितंबर को लेकर काफी चिंतित थे क्योंकि पुलिस उसी तरह की घटना के दोहराए जाने को लेकर जरा ढीली दिखती है. जुमे की नमाज के बाद लोग बड़ी संख्या में बाहर नहीं निकले लेकिन जो निकले उन्होंने विभिन्न दुश्मनों के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए. और फिर अचानक भीड़ छटने लगी, मानो उन्होंने कोई अदृश्य संकेत देख लिया हो. एक हैरान पत्रकार ने पूछा, ऐसा क्यों? जवाब ने कोहरे को साफ कर दिया. सारे लोग टीवी देखने अपने घर जाने लगे क्योंकि पाकिस्तान उस दोपहर को टी-20 वर्ल्ड कप का अपना मैच खेल रहा था. लेकिन यह साफ-सुथरी कहानी बड़ी तस्वीर को धुंधला कर रही है.

यहां किसी भ्रम की गुंजाइश नहीं है. पूरी दुनिया में मुसलमानों की बड़ी आबादी ने यह मान लिया है कि अमेरिका और उसके यूरोपीय सहयोगी एक हजार साल पहले हुए धर्म युद्ध के जमाने से ही मुस्लिम जगत पर प्रभुत्व जमाने के लिए संकल्पबद्ध हैं. मुस्लिम सरजीमन पर अमेरिकी और नैटो सैनिकों के बूट इसके खुले सबूत हैं. पश्चिमी हस्तक्षेप के मुलायम, एनएनजीओ वाली शक्ल को दोगलापन बताकर खारिज कर दिया जाता है. आलोचक बताते हैं कि ये एनजीओ फंड का 80 से 90 फीसदी हिस्सा अपने ऊपर ही खर्च करते हैं जो बहुत हद तक दुरुस्त भी है.

लेकिन क्या लीबिया, मिस्र और पाकिस्तान में इन आक्रामक भीड़ की समानांतर आवाज उनकी हुकूमतों तक पहुंच रही है: ये आवाज राष्ट्रीय एजेंडा तय करेगी, और उस उकसावे के अनुरूप जवाब देने के साथ ही देश की राजनीति और राजतंत्र को नया आयाम देगी. यह सत्ता के लिए अंदरूनी बहस का हिस्सा है न कि महज ‘ईसाई साम्राज्यवाद्य के विरुद्ध एक आवाज है. मीडिया इस नारे का सुर और बढ़ा देगी. आने वाले जमाने में यह बहस इतिहास का मुख्य आकर्षण होगी.

कोई राष्ट्र राज्य एक प्रक्रिया के जरिए विकसित होता है. बदलाव पूर्ण विकसित पेड़ की शक्ल में अचानक नहीं आ जाता है. अगर हम ब्रिटेन के इस दावे को नकार दें कि लोकतंत्र 13वीं सदी के मैग्ना कार्टा (वह ग्रेट चार्टर जिसके तहत राजा के निरंकुश शासन में कटौती करके सामंतों को कुछ अधिकार दिए गए थे) से शुरू हुआ था, तो भी आज हम लोकतंत्र को जिस रूप में समझते हैं उसे यहां तक आने में कम-से-कम दो सदियां लगी हैं. जब भारत में गांधी की कांग्रेसी योजना के तहत 1931 में लिखे जाने वाले देश के भविष्य के लिए वयस्क मताधिकार के बारे में निर्णय लिया जा रहा था, उस जमाने में फ्रांस की महिलाओं को वोट देने का अधिकार नहीं था.

लोकतंत्र हर चार या पांच साल बाद वोट देने के मौके से कहीं बढ़कर है. यह आजादी का एक ऐसा चेहरा है जो व्यक्तिगत और सामूहिक समानता के गिर्द बना है.

अरब का युवा विद्रोह रातोरात नहीं हो सकता. टिकाऊ होने के लिए इसे पूरे चार मौसम की दरकार है. अरब का बड़ा क्षेत्र उस्मानिया (ऑटोमन) साम्राज्य से ब्रिटेन के नव-उपनिवेशवाद में आ गया, जहां पश्चिम के साथ सैन्य समझौते के तहत शहजादों को नखलिस्तानों से उठाकर गद्दी पर बैठा दिया गया और वह भी निरंकुश अधिकारों के साथ. इस ढर्रे को पिछली सदी के पांचवें दशक में आंशिक तौर पर तोड़ा गया लेकिन समाजवाद का वादा करने वाले फौजी अफसरों ने अपने मुल्क को वंशवाद की निरंकुशता में फंसा दिया.

पाकिस्तान एक अलग हिसाब से बना और अभी वह बनने की प्रक्रिया में है और जैसा कि हमेशा दिखता है कि यह अपने पतन की ओर अग्रसर है. वह अभी तक ‘इस्लामी राज्य्य का अर्थ हासिल करने के लिए हाथ-पांव मार रहा है. जब चरमपंथी इस्लाम के नाम पर हर तरह के शासन और समाज के हर हिस्से में सारी हदें लांघ रहे हैं, तब ऐसे में आप लकीर कहां खींचेंगे? उलेमा की एक ‘पाक्य राज्य की तलाश ने अल्पसंख्यकों को बरेलवी, देवबंदी, शिया, कादियानी, मेमन और खुदा जाने कितने अन्य संप्रदायों में बांट दिया है. वे अपने फिरके के प्रति उतने ही वफादार हैं, जितने अपने सामूहिक धर्म के प्रति.

उत्तर उपनिवेशवाद युग के सवालों को आसानी से हल नहीं किया जा सकता. अपेक्षाकृत अधिक तर्कसंगत रूप में अक्सर उथलपुथल होती रहेगी. इस छोटी अवधि के खेल में व्यापक जनाधार और लोकप्रिय संस्थानों वाले धर्मतंत्रवादी अपने आपको आदर्शवाद के लबादे में लपेटकर आगे आएंगे, दूसरी ओर निरंतर कम होते उदारवादी रार मचाएंगे और इस खेल की पेचीदगियों से समझौता करेंगे. लेकिन यह फटाफट होने वाला टी-20 नहीं है; यह जिंदगी और मौत का टेस्ट मैच है जो आने वाले दशक में जारी रहेगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay