एडवांस्ड सर्च

सुशांत सिंह राजपूत-खुद को बेचने के लिए और भी रास्ते खोजने हैं !

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने क्यों कहा, खुद को बेचने के लिए और भी रास्ते खोजने हैं. जो कहानियां कर रहा हूं, वे एक तरह से इंडस्ट्री में बतौर अभिनेता मेरे इम्तहान की तरह हैं?

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर 07 March 2019
सुशांत सिंह राजपूत-खुद को बेचने के लिए और भी रास्ते खोजने हैं ! सुशांत सिंह राजपूत

सुशांत सिंह राजपूत, अभिनेता

फिल्मों, पसंदीदा निर्देशकों और इच्छित बायोपिक्स पर बात बातचीत

प्र. सोनचिड़िया में अपने किरदार के बारे में कुछ बताएं.

मैं अपने किरदार लखना को नहीं जानता पर मुझे लगता है, मैंने उसे ईमानदारी से जिया है. उससे ज्यादा मैं कर नहीं सकता था. मेरे हिसाब से यह मेरी अब तक की बेस्ट परफॉर्मेंस है.

प्र. कई ऐक्टर किसी रोल की तैयारी के वक्त कोई गाना सुनते रहने को पकड़ लेते हैं. आपने ऐसा कुछ...?

उस तरह के ट्रैक तलाशता हूं जो उस फिल्म वाला फील दें. इसके लिए मैं बैंडिट क्वीन का नुसरत फतेह अली का गाया छोटी-सी उमर सुनता रहा. इसका एक वर्जन इस फिल्म में भी है.

प्र.आप बैंडिट क्वीन के निर्देशक शेखर कपूर के साथ काम करने वाले थे.

जी, सोचा था साथ काम करेंगे (पानी में), पर न हो पाया. दिवाकर बनर्जी और अभिषेक चौबे के साथ कर रहा हूं. अभिषेक मेरे पसंदीदा फिल्ममेकर्स में से हैं. मेरी तरह वे भी दूर की कौड़ी खोजते हैं. दिवाकर मेरे लिए गूगल हैं. जो चीज विकीपीडिया पर भी न हो, उसके बारे में भी दो अतिरिक्त तथ्य उन्हें पता होंगे.

प्र.किताबों से रूपांतरित कई फिल्में की हैं आपने थ्री मिस्टेक्स ऑफ माइ लाइफ (काइ पो चे), ब्योमकेश बक्शी और अब फाल्ट इन ऑर स्टार्स (दिल बेचारा). कोई और ऐसे रूपांतरण वाला किरदार करना चाहेंगे?

कोई और ऐसी किताब के बारे में तो मुझे नहीं पता, पर स्वामी विवेकानंद या निकोला टेल्सा पर बायोपिक जरूर करना चाहूंगा.

प्र.2019 की तो हर तिमाही में आपकी एक फिल्म आ रही है.

खुद को बेचने के लिए और भी रास्ते खोजने हैं. जो कहानियां कर रहा हूं, वे एक तरह से इंडस्ट्री में बतौर अभिनेता मेरे इम्तहान की तरह हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay