एडवांस्ड सर्च

मौसीकी में एक नई धुन

रचिता ने खुद को सिर्फ फिल्मों तक सीमित नहीं रखा, बल्कि वे डिस्कवरी चैनल की डॉक्युमेंट्री मुंबई पानी माफिया में भी म्युजिक दे चुकी हैं.

Advertisement
हरिश्रीनई दिल्ली, 13 November 2018
मौसीकी में एक नई धुन हरि श्री

बॉलीवुड में संगीत निर्देशन क्षेत्र में अभी तक पुरुषों का जलवा रहा है, और इक्का-दुक्का महिला संगीत निर्देशकों को ही अपना हुनर दिखाने का मौका मिला है. लेकिन मुक्काबाज और न्यूटन जैसी फिल्मों तथा सैक्रेड गेम्स और करणजीत कौर जैसी वेब सीरीज में अपने संगीत से सबका ध्यान खींचने वाली रचिता अरोड़ा इसका अपवाद हैं. वे कहती हैं, "जेंडर का क्वालिटी से कोई लेना-देना नहीं.'' इस बात को वे न्यूटन फिल्म के गाने चल तू अपना काम कर और अनुराग कश्यप की फिल्म मुक्काबाज के चार गाने कंपोज करके सिद्ध भी कर चुकी हैं. मुश्किल है अपना मेल प्रिये और बहुत हुआ सम्मान तो खासे लोकप्रिय भी हुए.

रचिता अरोड़ा ने दिखाया है कि उनके म्युजिक में विविधता है, और वे कुछ हटकर करने में यकीन करती हैं. इसी वजह से वे अपने दौर के बाकी संगीत निर्देशकों से कुछ अलग नजर भी आती हैं. रचिता ने आयुष्मान खुराना और भूमि पेडणेकर की सुपरहिट फिल्म शुभ मंगल सावधान का बैकग्राउंड म्युजिक भी दिया है.

अरोड़ा हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में प्रशिक्षित हैं और सधी हुई गायिका भी हैं. वे अपने सफर के बारे में बताती हैं, "नवीं क्लास में थी तो इंटरस्कूल कंपीटिशन में मुझे पहला पुरस्कार मिला था. इसके बाद घरवालों ने मुझे आगे बढ़ाने का फैसला लिया. इंदौर घराने के बलदेव राज वर्मा से मुझे म्युजिक की तालीम मिली. फिर मुझे कंसर्ट मिलने लगे. ऑल इंडिया रेडियो पर भी परफॉर्म किया. दो साल पहले मुंबई आई थी. आसानी से कुछ क्लिक नहीं कर रहा था.'' छह महीने बाद रचिता की पृथ्वी थिएटर में रंगमंच की दुनिया की जानी-मानी शख्सियत मकरंद देशपांडे से मुलाकात हुई. देशपांडे ने उसी वक्त उनके कंपोज किए कुछ गाने सुने और बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने अनुराग कश्यप से रचिता की मुलाकात तय करवा दी. इस मुलाकात का नतीजा थाः रचिता को  मुक्काबाज मिलना.

रचिता की मम्मी प्री-नर्सरी स्कूल चलाती थीं लेकिन अब वे काम से रिटायर हो चुकी हैं. उनके पिता ओरिगैमी आर्टिस्ट हैं और अच्छे सिंगर भी हैं. उन्होंने मुक्काबाज फिल्म में छिपकली शीर्षक वाला गाना गाया है. उनका भाई जल्द ही पायलट बनने वाला है. वे अपने पापा को अपनी प्रेरणा भी मानती हैं.

रचिता ने खुद को सिर्फ फिल्मों तक सीमित नहीं रखा है बल्कि वे डिस्कवरी चैनल की डॉक्युमेंट्री मुंबई पानी माफिया में भी बैकग्राउंड म्युजिक दे चुकी हैं. रचिता ने दुनिया भर के म्युजिक फेस्टिवल्स में अपनी मौजूदगी भी दर्ज कराई है. रचिता आमिर अली खान, भीमसेन जोशी, बीथोवन, मोजार्ट और आर.डी. बर्मन को पसंद करती हैं तो सलिल चौधरी, मदन मोहन भी उनके पसंदीदा संगीतकारों की सूची में शामिल हैं.

हाल ही में रचिता ने वोडाफोन का ऐड किया है और उनके दो-तीन प्रोजेक्ट पाइपलाइन में भी हैं. इसके अलावा उन्होंने हार्दिक मेहता की फिल्म कामयाब का भी म्युजिक दिया है और यह फिल्म दुनिया भर के फिल्म फेस्टिवल्स में हलचल मचा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay