एडवांस्ड सर्च

शख्सियत-सफर पर एक अदाकार

कहानी लेखन, नाटक लिखकर अभिनय के साथ उनका निर्देशन, दूसरी ओर हिंदी फिल्मों में चुनौती भरे रोल. मानव कौल अपने रचनात्मक सफर के बीचोबीच, लेकिन अभी यूरोप यात्रा पर.

Advertisement
aajtak.in
शिवकेश मिश्र / संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 12 June 2019
शख्सियत-सफर पर एक अदाकार मानव कौल

अभिनेता, निर्देशक और लेखक मानव कौल पिछले एक महीने से यूरोप की यात्रा पर हैं. इटली से टच करता फ्रांस का चेमुनी गांव अभी उनका ठिकाना है. आल्पस का बर्फीली चादर से ढका खूबसूरत माउंट ब्लांक ठीक आंखों के सामने. ह्वाट्स अप पर भेजी उनकी आवाज के पीछे झींगुर जैसे किसी पतंगे की आवाज साफ सुनाई देती है. वे कहते हैं, ''माउंट ब्लांक के नीचे बैठ के देवनागरी में लिखने का मजा बहुत है क्योंकि एक अजीब तरीके का आकर्षण है हिंदी के अक्षरों में. कुछ लोग आते हैं, उसे देखते हैं, जिज्ञासा जताते हैं कि यह मैं क्या लिख रहा हूं.

इस बहाने कभी-कभी दिलचस्प लोगों से संवाद, मुलाकात भी हो जाती है.'' लेकिन वहां संवाद की उनकी भाषा तो अंग्रेजी ही होगी! ''देखिए, जर्मनी में  लोग मिल जा रहे हैं जो थोड़ी-बहुत अंग्रेजी बोल लेते हैं, वरना इससे पहले फ्रांस के मैकॉन, लियॉन और एनिसी की जो मेरी यात्रा रही, वहां बहुत ज्यादा मुश्किल हुई, क्योंकि वहां लोग बिल्कुल अंग्रेजी नहीं बोलते.''

असल में 42 वर्षीय कौल के कई पहलू हैं: कहानीकार, नाट्यलेखक, निर्देशक और मंच तथा परदे के अभिनेता तो वे हैं लेकिन सबसे पहले वे एक यायावर हैं, जब-तब देश-दुनिया के वस्तुत: किसी भी गांव-गली में बेमकसद जा पहुंचने वाले यात्री. इस पूरी घुमक्कड़ी के दौरान उनके भीतर बैठा लेखक चपल-चौकन्ना रहता है. पिछले पांच महीने से वे लगातार शूटिंग कर रहे थे. इस बीच मुंबई और जयपुर में नाटक के शो भी किए. ''अब लगातार इतनी शूटिंग और शो के बाद लिखने के लिए मुझे काफी समय चाहिए था, इसलिए पूरा एक सवा महीने का ट्रिप प्लान किया. पेरिस में सिर्फ तीन रहा. जितने छोटे और ज्यादा एकांत वाले गांव हो सकते हैं, वहां गया. एक लंबी वाक और कॉफी...बस.''

यात्रा के दौरान अभी तक वे तीन कहानियां लिख चुके हैं और यात्रा वृत्तांत भी अपनी गति से चल रहा है. राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने हिंदी के चर्चित लेखकों के रचना पाठ के अपने मासिक आयोजन श्रुति, जो लंबे अंतराल के बाद इसी साल फिर से शुरू हुआ है, में 28 जून को पाठ के लिए कौल को न्यौता है. इसमें वे अपने इस ताजा यात्रा वृत्तांत के कुछ हिस्से पढ़ेंगे. ''ताजा-ताजा लिखना और अचानक उसका पाठ लोगों के बीच करना. मेरे लिए थोड़ा एक्साइटमेंट है. दिल्ली में बहुत-से लोग हैं जो मेरा लिखा, मेरी किताबें पढ़ते हैं, कई कॉलेज हैं जो मेरा नाटक करते हैं. तो उन लोगों के बीच नए का पाठ करना एक गुदगुदी बनाए रखता है. आशा है, लोगों को अच्छा लगेगा.'' उनके हिसाब से यह एक नए तरीके की राइटिंग है. यह यात्रावृत्तांत छपकर भी जल्दी ही आ जाएगा.

उनके नाटकों में भी उनकी कहानियों जैसा नैरेशन मिलता है. उनकी शैली में एक स्तर पर हिंदी के दो मूर्धन्य कथाकारों निर्मल वर्मा और विनोद कुमार शुक्ल की झलक दिखती है. उनके नाटकों का ढांचा आज के दौर के ही दूसरे परंपरागत नाटकों से थोड़ा इतर कहानियों के लहजे वाला होता है. कौल के पुराने रंगकर्मी मित्र और दिल्ली के श्रीराम सेंटर रंगमंडल के निदेशक समीप सिंह उनके दूसरे कहानी संग्रह प्रेम कबूतर से गुजर रहे थे, तो उसमें उन्हें स्टेज के लायक एक मासूम-सी गुदगुदाती प्रेम कथा नजर आई. उसके कहानीपन को कायम रखते हुए पिछले साल अपने रंगमंडल के साथ उसे पेश किया तो दर्शकों ने खासा पसंद किया.

यह अस्सी के दशक की लवस्टोरी है, जब मोबाइल और सोशल मीडिया नहीं था. ऐसे में चिट्ठियां ही सहारा थीं. मानव इसमें दिखाते हैं कि नायक कैसे प्रेमपत्र लिखते-लिखते लेखक बन जाता है. अभी पिछले पखवाड़े भी उसके शो हुए. समीप कहते हैं, ''मानव छोटी-छोटी और असल-सी घटनाओं के जरिए कहानी बुनते हैं. मजे की बात है कि मानव ने खुद इस कहानी पर नाटक नहीं किया. मैंने करने के लिए पूछा तो वो खुश हो गए. अब प्रेम कबूतर देखने के बाद कई लोग मंचन के लिए उनकी कहानियां छांट रहे हैं.''

मानव के नाटक देखने के लिए दिल्ली या मुंबई कहीं भी पहुंच जाने वाले बरेली के सर्जन डॉ. बृजेश्वर सिंह उनकी प्रस्तुतियों में एक और बात पाते हैं: ''उनका नाटक देखते हुए आपको खालिस कहानी पढऩे का सुख मिलता है. और इस तरह वे अपने दर्शकों को साहित्य की गली में घुसने को ललचाते हैं.'' सिंह के साथ मानव का याराना कुछ ऐसा हो गया है कि वे अपने 6-7 नाटक बरेली में कर चुके हैं. अब एक सेलिब्रिटी बन जाने के बावजूद मानव की सरलता सिंह को अपील करती है.

हाल ही रिलीज़ हुई नेटफ्लिक्स फिल्म म्युजिक टीचर में कौल की बेनी माधव सिंह के रूप में अदाकारी की बड़ी सराहना हुई है. इस साल की शुरुआत में वे अमिताभ बच्चन के साथ बदला में दिखे और मारून (2016), तुम्हारी सुलु (2017) और घोल (2018) जैसी फिल्मों में भूमिकाओं के चलते उन्हें भारत के सबसे बहुमुखी अभिनेताओं में से एक के रूप में देखा जा रहा है. पर वे किसी एक खांचे में 'फिट' होकर रहना नहीं चाहते. वे जब बच्चे थे तो कई-कई दिनों तक नहाते नहीं थे ताकि झक गोरी त्वचा के कारण मध्य प्रदेश के होशंगाबाद, जहां उनका परिवार कश्मीर से आकर बसा था, में वे समाज में औरों से अलग न दिखें. उनका कहना है, ''विस्थापन हुआ था, और कम उम्र में जीवन के कई संघर्षों को देखा है.''

2016 में छपे कौल के पहले कहानी संग्रह ठीक तुम्हारे पीछे के कवर पर एक टूटी खिड़की की तस्वीर थी जो उन्होंने 27 साल बाद कश्मीर के बारामूला जाने पर वहां खींची थी. वे बताते हैं, ''अब भी याद है मैं टॉफी कहां छिपाया करता था.'' इस मासूमियत की झलक उनके पहले निर्देशकीय प्रयास हंसा (2012) में मिली, जिसमें एक लड़का और लड़की पहाड़ों में लापता पिता को तलाशते हैं.

मानव अपने रचनात्मक सफर के बीचोबीच और यूरोप की यात्रा के आखिरी चरण में हैं. खाने-पीने में कोई नखरा नहीं, जो मिला खा लिया. सबसे ज्यादा मिला, उनके लिए सबसे सुखकर एकांत. तो क्या फ्रेंच ओपन फाइनल (8-9 जून) देखकर लौटेंगे? ''ना, वो नहीं देख पाऊंगा. यहां से शायद स्विट्जरलैंड जाऊं, फिर वापस फ्रांस, फिर शायद जर्मनी, और फिर वहीं से भारत. और 28 को पक्के तौर पर दिल्ली.—शिवकेश और चिंकी सिन्हा

इस साल वे बदला में अमिताभ बच्चन के साथ दिखे. मारून (2016), तुम्हारी सुलु (2017) और घोल (2018) जैसी फिल्मों में भूमिकाओं के चलते वे सबसे बहुमुखी अभिनेताओं में से एक माने जा रहे हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay