एडवांस्ड सर्च

किस्सागो की कलाएं

मुजफ्फर अली की कई पहचान हैं—फिल्मकार, फैशन डिजाइनर, सूफी और चित्रकार. चित्र-प्रदर्शनी न लग पाने से अब वे उसे ऑनलाइन पेश कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
शेख अयाजनई दिल्ली, 19 May 2020
किस्सागो की कलाएं मुजफ्फर अली

शेख अयाज

• द अदर साइड पिछले 15 साल में आपकी पहली चित्र प्रदर्शनी है. इतना वक्त क्यों लिया आपने?

पेंटिंग हमेशा से मेरी जीवनशैली का एक हिस्सा रही है. उसे प्रदर्शित करने का दबाव कभी नहीं महसूस किया. पर तरह-तरह से उसे रचता जरूर रहा. कभी-कभी आप किसी से मिलते हैं जो आपको प्रेरित करता है, जो आपमें यकीन करता है. यह सब कला का हिस्सा है.

• चित्रकला किस्सागोई का ही रूप है या इसे फिल्मकार की अपनी पहचान से अलग रखकर देखते हैं?

देखिए, कलाएं तो सारी एक ही हैं. एक कला आपको दूसरे की ओर ले जाती है. आप अनायास एक से दूसरे में गति कर सकते हैं. यह एक जीवनशैली बन जाती है—एक पर्यावरण, एक परिवेश, देखने-दिखाने, सुनने-सुनाने का जरिया. यह अर्थहीन चीजों में से अर्थ खोज लेने का एक रास्ता है.

• आपमें कई तरह के हुनर हैं लेकिन सबसे ज्यादा आप किस कला में सुकून पाते हैं?

मैं अपने हाथों से करते-करते सीखता हूं. कहावत भी है न अपना हाथ जगन्नाथ (हंसते हुए). अपने हाथों से खूबसूरती रचने वालों की मैं बड़ी इज्जत करता हूं. देखिए उर्दू सिर्फ एक स्टेट ऑफ माइंड है, और शायरी हमारी रूह के लिए मौसिकी है. इनसे हमारे एहसास को बयान करने में मदद मिलती है. लेकिन चित्रकला कहीं गहरी चीज है. यह आपको अभिव्यक्ति के और ऊपर के स्तर के लिए तैयार करती है.

• प्रवासी मजदूरों के मौजूदा संकट को देखते हुए आपकी फिल्म गमन (1978) फिर से मौजूं हो उठी है.

शिद्दत से महसूस की गई चीजें हमेशा मौजूं रहती हैं. गमन को एक बड़े सामाजिक-सांस्कृतिक कलात्मक यथार्थ में रखकर देखता रहा हूं. पहले तो यह बतौर एक सवाल तारी हुआ: संवेदनहीन महानगरों में दोहरी जिंदगी जीने के लिए लोग अपने गांव क्यों छोड़ देते हैं?

गमन का माध्यम कलकत्ता से मिला, प्रेरणा अलीगढ़ से और इसकी रूह अवध के केंद्र से और विविध रंग मेरी पेंटिंग से आए.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay