एडवांस्ड सर्च

असली हीरोः कमजोरी को बनाया ताकत

अपनी लाचारी से दूसरों को मदद करने का संकल्प लिया और अब उनके प्रयासों से इलाके के दिव्यांगों को मिला सहारा

Advertisement
aajtak.in
अशोक कुमार प्रियदर्शीबिहार, 20 June 2018
असली हीरोः कमजोरी को बनाया ताकत अशोक कुमार प्रियदर्शी

बिहार के नवादा जिले के सदर प्रखंड मोतीविगहा गांव के 34 वर्षीय बाढ़ो यादव एक पैर से दिव्यांग हैं. दिव्यांग पेंशन के लिए सदर प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट रहे बाढ़ो की एक दिन सत्यदेव पासवान से भेंट हुई. सत्यदेव की पहल से न सिर्फ उन्हें, बल्कि एक पैर से लाचार उनकी पत्नी को भी दिव्यांग पेंशन मिलने लगी.

नवादा के सदर प्रखंड में गोपाल नगर के रहने वाले 32 वर्षीय सत्यदेव पासवान की कोशिशों से जिले के 500 से अधिक दिव्यांग और लाचार लोगों को मदद मिली है. सत्यदेव पासवान खुद भी दोनों पैर से लाचार हैं और इसी लाचारी से हुईं परेशानियां उनके लिए दूसरों के काम आने की प्रेरणा बन गईं.

सत्यदेव ने इंडिया टुडे को बताया, 14 साल पहले सदर प्रखंड में जाति, आय और दिव्यांग प्रमाणपत्र बनवाने के लिए काफी परेशानी उठानी पड़ी थी. प्रखंड कार्यालय के कर्मचारी कहा करते थे कि लंगड़ा फिर परेशान करने आ गया. अधिकारी भी नहीं सुनते थे. तभी मन में संगठित होकर काम करने का सवाल आया. कुछ साथियों के साथ संगठन बना और उसे कामयाबी मिली तो दूसरों की मदद में हाथ बंटाने लगा.

अब यही आंबेडकर अंजना विकलांग कल्याण समिति जिले के दिव्यांगों का सहारा बन गई है. समिति का काम 101 रु. के सदस्यता शुल्क से चलता है और इसी से आर्थिक रूप से कमजोर लोगों की मदद की जाती है. सत्यदेव का मानना है कि ज्यादातर लोग जानकारी के अभाव में सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पाते. सो, उनका संगठन जागरूकता अभियान भी चलाता है. इस तरह, बकौल सत्यदेव, अब उनका नेटवर्क बड़ा हो गया है और दूर-दराज के लोग भी जुडऩे लगे हैं.

संगठन बड़े मुद्दों पर आंदोलन भी करता है. मसलन, रेल में दिव्यांगों को रियायत के लिए जिले में ही व्यवस्था करने की मांग रखी गई है. बिहार सरकार के सामने भी दिव्यांगों के लिए पांच सूत्री मांग रखी गई हैं.

अब शादीशुदा सत्यदेव पत्नी मुस्कान के अलावा तीन संतान प्रशांत, पलक और प्रियांशी की जिम्मेवारी भी बच्चों को टयूशन पढ़ाकर उठा रहे हैं. सत्यदेव की दोनों पैरों से लाचारी भी एक लापरवाही की कहानी है. तीन साल के सत्यदेव को बिच्छू ने डंक मारा तो स्थानीय इलाज से दोनों पैरों में गहरा जख्म हो गया.

आखिर में दोनों पैर काटने पड़े. नालंदा के शक्तिसराय गांव के मूल निवासी सत्यदेव के परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी. लिहाजा, उनकी पढ़ाई-लिखाई बुआ के यहां नवादा में हुई. नवादा में ग्रेजुएशन के बाद नौकरी नहीं मिली तो ट्यूशन और दूसरों की मदद में हाथ बंटाना शुरू कर दिया.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay