एडवांस्ड सर्च

Advertisement

''अब मैंने भी लोगों को गलियना छोड़ दिया''

उनकी खराब फिल्म भी कई फिल्मकारों की श्रेष्ठ फिल्मों से बेहतर होती हैं
''अब मैंने भी लोगों को गलियना छोड़ दिया'' रोहित चावला
सुकांत दीपकनई दिल्ली, 04 July 2018

कभी बॉलीवुड के सबसे गुस्सैल और तुनकमिजाज निर्देशक समझे जाने वाले अनुराग कश्यप अब बहुत शांत दिखते हैं. दिमाग ठंडा रखने के लिए वे रोज 80 मिनट तैरते हैं. सिगरेट से तौबा कर ही ली है. वे कहते हैं, "खाने के बाद सिगरेट की तलब जानलेवा है.'' उन्हें अब एहसास हुआ है और वे स्वीकारते भी हैं कि दुनिया को अपनी बात जबरन मनवाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. उन्हें यह बात 46 साल बाद समझ आई. खैर, देर आए दुरुस्त आए.

कश्यप अब खुद को खासा सक्षम महसूस करने लगे हैं. उनके शब्दों में, "दिमाग के सारे जाले साफ हो गए हैं. मैंने काम पर ध्यान देना शुरू कर दिया है. आप मेरे सोशल मीडिया प्रोफाइल को देख लीजिए. वहां अब क्लेश बहुत कम हो गया है.

मैंने भी लोगों को गलियाना बंद कर दिया है. अब मेरे दिमाग में सिर्फ काम से जुड़ी बातें ही आती हैं.'' अगले कुछ महीनों में उनकी तीन फिल्में रिलीज को तैयार हैं. नेटफ्लिक्स पर भी 15 जून को रिलीज लस्ट स्टोरीज में भी उनका काम है. यानी उनके पास बताने को काफी कुछ है.

2013 में आई बॉम्बे टॉकीज की तरह ही लस्ट स्टोरीज में कश्यप ने दिवाकर बनर्जी, जोया अक्चतर और करण जौहर के साथ फिर से एक ही शॉर्ट फिल्म में काम किया. बगावती तेवर वाली फिल्में उनकी पसंदीदा रही हैं. लस्ट स्टोरीज इससे हटकर है.

पर वे जानने को उत्सुक हैं कि मीटू कैंपेन के इस दौर में प्यार, सेक्स और रिलेशनशिप को लेकर लोगों की क्या धारणा है. "देखते हैं महिलाएं इस पर कैसी प्रतिक्रिया देती हैं. मैं पूरी गंभीरता से कह रहा हूं कि करण जौहर और जोया अख्तर का यह सबसे उम्दा काम है.

सबसे दिलचस्प बात, फिल्म बताती है कि वासना का दायरा शारीरिक संबंध बनाने तक सीमित नहीं, उससे परे भी है. हर कहानी से दर्शकों को कई नई परतों के भीतर झांकने में सहायता मिलेगी.''

विक्रम चंद्रा के रोमांचक उपन्यास सैक्रेड गेक्वस पर आधारित कश्यप की सीरीज 6 जुलाई को नेटफ्लिक्स पर शुरू हो रही है. यह भारत में किसी स्ट्रीमिंग चैनल पर खेला गया अब तक का सबसे बड़ा दांव होगा. उसके बाद पंजाब की पृष्ठभूमि वाली एक लव स्टोरी मनमर्जियां सितंबर में सिनेमाघरों में रिलीज होगी जिसमें अभिषेक बच्चन, विकी कौशल और तापसी पन्नू मुख्य किरदारों में दिखेंगे.

कश्यप कहते हैं, वह दौर पीछे छूट गया जब वे भारत के दर्शकों में कलात्मक फिल्मों के लिए रुझान और समझ विकसित करने की जद्दोजहद में जुटे थे. अपनी फिल्म बॉम्बे वेलवेट (2015) के बॉक्स ऑफिस पर धराशायी हो जाने से वे इतने हताश हो गए थे कि उन्होंने एक तरह से भारत में बोरिया-बिस्तर समेट लिया था और फ्रांस जाकर बसने को तैयार हो गए थे.

अब उन्हें इस सोच में सुकून है कि वे एक चुनिंदा दर्शक वर्ग के फिल्मकार हैं. पांच (2003, जो भारत में रिलीज भी न हो सकी), ब्लैक फ्राइडे (2007), अग्ली (2014) और इस साल आई मुक्काबाज ने बिजनेस भले बहुत अच्छा न किया हो पर उन्हें पहचान मिली है क्योंकि अब इंडस्ट्री में उक्वदा काम को यूं ही खारिज नहीं कर दिया जाता.

उनका दायरा व्यापक है. वे जोखिम उठाने से डरते भी नहीं. चाहे वह देव डी (2009) में दिल्ली का आश्चर्यजनक रूप से मनोविकृतिकारी चित्रण हो या फिर शेक्सपियर की कथाओं से प्रभावित उसी साल रिलीज गुलाल का अतियथार्थवादी बेवकूफाना किरदार.

उनके इस साहस की सुधीर मिश्र जैसे समकालीन फिल्मकार प्रशंसा करते हैं और वे कश्यप को उन चंद निर्देशकों में गिनते हैं जिनकी सबसे खराब फिल्म भी दूसरों के सबसे उक्वदा काम से बेहतर होती है. मिश्र के शब्दों में, "मुझे उनकी हर फिल्म उत्तेजनात्मक रूप से आकर्षक लगती है.''

लेकिन उनकी फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर हमेशा अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है. इस पर कश्यप टिप्पणी करते हैं, "मेरे लिए हमेशा ही यह एक समस्या रही है पर यह भी सच है कि अब मुझे संघर्ष कम करना पड़ता है. ब्लैक फ्राइडे वाले दिन अब लद चुके हैं.''

बेशक अब उनका अंदाज कुछ बदला-बदला सा है पर इसका यह मतलब नहीं कि उनका पुराना तेवर एकदम से गायब हो गया हो. वह उन निर्माताओं की मानसिकता की खिल्ली उड़ाते हैं जो उनकी फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर और विशाल भारद्वाज की ओमकारा को मिली बड़ी सफलता के बाद उसी प्लॉट की अंधी नकल करते हुए बिहार और उत्तर प्रदेश की पृष्ठभूमि पर आधारित बगावती तेवर की कहानियों पर फिल्में बनाने के लिए दीवाने हुए जा रहे हैं.

ऐसी मानसिकता पर तीखा प्रहार करते हुए वे कहते हैं, चार-पांच लोगों का एक गिरोह है जो "अर्थहीन फिल्म फेस्टिवल के नाम पर स्पॉन्सरशिप लाने और सरकारी फंड को निचोडऩे में माहिर है,'' वह इसी नकल में मारा-मारा फिर रहा है.

नेशनल फिल्म डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन जो कभी "सर्वश्रेष्ठ प्रतिरोधी सिनेमा'' के लिए जाना जाता था, उसको निष्प्रभावी करने की सरकारी कोशिशों पर भी वह जमकर बरसते हैं तो "अघोषित सेंशरशिप'' को लेकर फिल्मी इंडस्ट्री में मचाए जाने वाले हो-हल्ले को भी आड़े हाथों लेते हैं.

"हम इतनी शिकायतें क्यों करते हैं? हमारे यहां ईरान की फिल्म इंडस्ट्री से ज्यादा प्रतिबंध हैं? वहां जो काम हो रहा है उसे देखिए. लोगों को अपनी बात कहने के लिए चतुराई के साथ तैयार किए रूपकों का सहारा लेने की जरूरत है. मैंने मुक्केबाज में ऐसी कोशिश की थी.''

कश्यप फिलहाल तुषार हीरानंदानी को फिल्म वुमनिया के निर्देशन के लिए जरूरी गुरुमंत्र दे रहे हैं. अब वे पहले से ज्यादा मुस्कराते हैं. 17 साल की बेटी के पिता के रूप में जो चिंताएं दिमाग में उभरती हैं उसको सोचकर खुद पर हंसते हैं. अब वे धारा में बह ही नहीं रहे, उसमें तैरने के मजे भी ले रहे हैं.

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay