एडवांस्ड सर्च

माहिर मौसीकार

रहमान के बारे में ढेरों बातें पता चलती हैं, फिर भी हम उन्हें रत्ती भर भी नहीं जान पाते

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर चेन्नै, 23 October 2018
माहिर मौसीकार अलामी

रहमान ने अभी-अभी मणिरत्नम की चेक्का चिवांथा वानम और ए.आर. मुरुगादोस की सरकार के लिए बिक्री के चार्ट में शीर्ष पर काबिज दो तमिल फिल्मों के साउंडट्रैक अपने खाते में दर्ज करवाए हैं और साबित कर दिया है कि वे आज भी उतने ही लोकप्रिय हैं. हार्मनी विद ए.आर. रहमान के साथ उन्होंने टेलीविजन के परदे पर पहला कदम रखा है जिसकी स्ट्रीमिंग स्वतंत्रता दिवस पर एमेजन प्राइम पर शुरू हुई है. हाल ही में उन्होंने अमेरिका के 10 शहरों का दौरा खत्म किया है. साथ ही, उनके दूसरे वेब शो पर काम चल रहा है—जो यूट्यूब पर एआरराइव्ड  नाम से एक टेलेंट कॉन्टेस्ट है.

कई आधिकारिक जीवनियों की तरह नोट्स आफ ए ड्रीम बाजदफा अपने केंद्रीय विषय के गुणगान और कसीदों में बदल जाती है. लेकिन इसकी सबसे खास बात यह है कि इसके लेखक त्रिलोकी कृष्णा रहमान की भीतरी मंडली का हिस्सा हैं. यही वजह है कि लेखक रहमान की पत्नी और बहनों, कारोबारी साथियों और निजी सहायकों, संगीत की दुनिया के दिग्गजों और विज्ञापन जगत के पेशेवरों और फिल्मकारों के भी इंटरव्यू ले सके हैं. बेशक इन सभी ने 'ए.आर.' या "सर'' के प्रति अपनी तारीफ ही जाहिर की है.

विवादों का भी जिक्र है—मसलन, कुछ निर्देशकों के साथ झगड़ा और रिश्ते टूटना—पर उनका सरसरी जिक्र ही है. इसके बजाए अधिकतर बातें उनके शानदार एलबमों के बनने की प्रक्रिया और मुंबई के उनके अपार्टमेंट की भीतरी झांकी के बारे में है, जहां वे उसी फ्लोर पर रहते हैं जिस पर "साउंड इंजीनियर, असिस्टेंट और घरेलू नौकर'' रहते हैं. मुरीदों को मणिरत्नम की रोजा (1992), शंकर की जेंटलमैन (1993), राम गोपाल वर्मा की रंगीला (1995) और इम्तियाज अली की रॉकस्टार (2011) के साउंडट्रैक के संगीत के पीछे की कहानियां जानने में मजा आएगा. एक शिकायत अलबत्ता यह हो सकती है कि लेखक ने मूलतः तमिल में रिकॉर्ड किए गए इन गानों के केवल तमिल मुखड़ों का ही जिक्र किया है.

यह किताब अंतरराष्ट्रीय पाठकों के लिए तैयार की गई है, ऐसे में बेहतर होता कि कोष्ठक में कम से कम उनके हिंदी नामों का जिक्र कर दिया जाता या आखिर में गानों की एक डिस्कोग्राफी दे दी जाती. इसमें रहमान के करियर के मील के पत्थरों का शुमार है, मसलन डैनी बॉयल की स्लमडॉग मिलिनेयर (2008) के "जय हो'' गाने और पृष्ठभूमि संगीत के लिए ऑस्कर जीतना; एंड्रयू लॉयड वेबर के साथ मिलकर बनिस्बतन कम कामयाब वेस्ट ऐंड म्यूजिकल बॉम्बे ड्रीम (2002) की रचना करना; और देशभक्ति का पॉप एलबम वंदे मातरम् (1997) लॉन्च करना.

कई अध्याय उनकी जिंदगी के ज्यादा निजी पहलुओं के बारे में हैं, मिसाल के लिए, कृष्णा विस्तार से बताते हैं कि उन्होंने इस्लाम को धीरे-धीरे कैसे अपनाया और साथ ही अपनी स्कूल की पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने सेशंस प्लेयर के तौर पर पार्ट-टाइम काम करते हुए कैसी-कैसी दुश्वारियां झेलीं. इत्तफाकन रहमान बताते हैं कि वे "मद्रास का मोजार्ट्'' कहलाया जाना क्यों नापसंद करते हैं.

कुल मिलाकर नोट्स ऑफ ए ड्रीम भारतीय और पश्चिमी प्रभावों के अपने मिश्रण से साउंडट्रैक के फलक पर क्रांतिकारी बदलाव लाने वाले इस दिग्गज का आलोचनात्मक विश्लेषण होने की बजाए सिंहावलोकन में मनाया गया जश्न है. कहा जा सकता है कि वे इस ग्रह पर सबसे बेहतरीन समकालीन—शास्त्रीय या क्लासिक के मुखालिफ के तौर पर—हिंदुस्तानी संगीतकार हैं और यह सब वे नई ध्वनियों और टेक्नोलॉजी को जज्ब करने और उनका इस्तेमाल करते हुए पूरी तरह अपना खुद का कुछ नया रच देने की अपनी स्पंज सरीखी काबिलियत की वजह से कर सके हैं.

हो सकता है कि दो-एक दशक और बीतने के बाद रहमान शायद खुद लेखन में हाथ आजमाएं जब उनके पास खोने के लिए कुछ न हो. तब वे शायद हमें इस जिल्द से बाहर छूट गई छोटी-छोटी बातें बताएं, इस आधिकारिक जीवनी के आखिर में हमें इस शख्स के बारे में ढेरों बातें तो जरूर पता चलती हैं, फिर भी हम इस संगीतकार को रत्ती भर भी नहीं जान पाते.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay