एडवांस्ड सर्च

चीन के पार्कों में दुलहन-दूल्हों की तलाश

बीजिंग के पार्कों में हर हफ्ते हजारों माता-पिता अपने बच्चों के लिए जीवनसाथी की तलाश में आखिर क्यों जुट रहे हैं?

Advertisement
अनंत कृष्णनबीजिंग, 16 August 2016
चीन के पार्कों में दुलहन-दूल्हों की तलाश बीजिंग के द टेंपल ऑफ हेवन पार्क में अपने बच्चों के लिए जीवनसाथी की तलाश में पहुंचीं महिलाएं

गर्मियों में एक इतवार की सुबह श्रीमती झाओ एक पार्क में लकड़ी की बेंच पर बैठकर आराम कर रही हैं. बीजिंग में स्थित फॉरबिडेन सिटी से लगे इस झोंगशान पार्क में एकाध घंटे बाद माहौल मछलीबाजार से भी बदतर हो जाएगा. श्रीमती झाओ वैसे तो यहां कारोबारी काम से आती हैं लेकिन यह कारोबार उतना सीधा नहीं है. वे अपनी बेंच के सामने जमीन पर एक लैमिनेटेड ए4 आकार का कागज बिछाती हैं जिस पर कुछ पंक्तियां लिखी हुई हैं, ''जन्म 1989, काम एक सरकारी कंपनी में. मुझे एक ऐसा पुरुष चाहिए जो 1.8 मीटर लंबा हो और जिसके पास अपना मकान हो. जन्म 1982-86 धूम्रपान नहीं, खेल का शौकीन.'' अपने आदर्श दामाद का विवरण वे इन चार संक्षिप्त वाक्यों में दे देती हैं. श्रीमती झाओ चीन के उन 3000 माता-पिताओं में एक हैं जो इस पार्क में हर हफ्ते आते हैं. वे सभी यहां केवल एक ही काम से आते हैं—अपने संकोची बच्चों के लिए जोड़ीदार खोजने के लिए. वे दुखी मन से कहती हैं, ''मेरी लड़की ने अगर खुद यह कर लिया होता तो मैं यहां नहीं होती. अब उसकी शादी कराना और मुश्किल होता जा रहा है, इसलिए हर इतवार यहां आने के अलावा मेरे पास कोई और विकल्प नहीं है.''

शादी का बाजार एक विशिष्ट चीनी परिघटना है. आरंभ में ये '80 के दशक की शुरुआत में फलना-फूलना शुरू हुए थे जब सुधारों का दौर आया था और सांस्कृतिक क्रांति समाप्ति की ओर थी. यही वह दौर था जब लोग शहरों की ओर आने लगे थे और उन्हें अपना जीवनसाथी चुनने के मामले में ज्यादा आजादी हासिल होने लगी थी. चीन का युवा जैसे-जैसे ज्यादा आत्मनिर्भर होता गया और मां-बाप की इच्छा के मुताबिक शादी करने से संकोच करने लगा, शादी का बाजार कमजोर पडऩे लगा. आज एक बार फिर इस बाजार में उम्मीद के संकेत दिख रहे हैं जिसकी कई सामाजिक वजहें हैं: जनसांख्यिकीय संतुलन का संकट, एक ऐसे देश में नियंत्रण से बाहर जा चुका आवासन बाजार जहां शादी करने की पूर्वशर्त कुछ के लिए अपना मकान होना है और महिलाओं पर जल्दी शादी करने का बना नया दबाव.

साठ की उम्र पार कर चुकीं श्रीमती वांग (अपना पहला नाम बताने से इनकार कर दिया) यहां पार्क में इसलिए आई हैं क्योंकि वे अपने लड़के के लिए दुलहन नहीं खोज पाई हैं. वे कहती हैं, ''मेरा लड़का 40 का हो गया है. वह खुद तो अपने लिए लड़की खोजने में काबिल नहीं दिखता, इसलिए जब तक कोई मिल न जाए, मैं यहां आती रहूंगी.'' माता-पिता आमने-सामने मिलकर जोड़े खोजने में ज्यादा यकीन रखते हैं बजाए ऑनलाइन माध्यमों के, जहां उनकी शिकायत है कि फर्जी लोग होते हैं. इसके अलावा वे अपने संभावित रिश्तेदारों को बेहतर नाप-जोख भी सकते हैं.

झोंगशान पार्क में केवल बीजिंग से ही नहीं बल्कि तियांजिन जैसे पड़ोसी शहरों से भी लोग आते हैं. चीन की राजधानी में यह सबसे बड़ा शादी का बाजार है. टेंपल ऑफ  हेवन जैसे पार्क में भी छोटे-मोटे जुटान होते हैं, लेकिन इस पार्क में तो चीन के बहुचर्चित शंघाई का पीपुल पार्क से भी ज्यादा बड़ा बाजार लगता है. श्रीमती वांग जैसे लड़कों के अभिभावकों की शिकायत है कि लड़कियों के परिवार ''आजकल बहुत उम्मीद करते हैं.'' वे कहती हैं कि सबसे बड़ा अवरोध बीजिंग में मकानों के बढ़ते दाम हैं जहां 60 वर्ग मीटर का अपार्टमेंट 1-2 मिलियन युआन (1 से 2 करोड़ रुपए के बीच) से कम का नहीं आता. उनके मुताबिक, कई ऐसे अभिभावक हैं जिनके लिए मकान नहीं होने का मतलब सौदा नहीं पटना है. लड़कियों की आम मांग है कि लड़का ऐसा हो जिसके पास अपना मकान हो.

चीन के वैवाहिक विज्ञापन भारत के विज्ञापनों से सरल होते हैं. उनमें जाति और धर्म की बंदिश नहीं होती. इसके बावजूद कुछ समानताएं हैं. मामला सिर्फ पैसे का नहीं है बल्कि आश्चर्यजनक रूप से चीन में अब भी जोडिय़ां बनाने के लिए ज्योतिष का सहारा लिया जाता है जबकि सरकार ने दशकों तक 'पुरानी आदतों' से मुक्त करने का प्रचार चलाया है. सबसे जरूरी चीनी राशिफल होता है जो जन्मतिथि से तय होता है. इसी से पता चलता है कि जोड़ी ठीक है या बेमेल. भारत की तरह यहां भी गोरी चमड़ी को लेकर आग्रह है. एक सामान्य से पोस्टर पर लिखा था, ''बीजिंग ब्यूटी! हुनर और सुंदरता एक साथ. गोरा रंग. मास्टर्स डिग्री. स्कूल शिक्षिका. 1989, निजी मकान वाला लड़का चाहिए.''

चीन में 2020 तक 20 से 45 आयुवर्ग में पुरुषों की संख्या महिलाओं के मुकाबले कम से कम 2.4 करोड़ ज्यादा होगी. चीन में लिंगानुपात की स्थिति बहुत खराब है जिसका श्रेय कठोर परिवार नियोजन नियमों और लाखों गर्भपातों को जाता है. यह असंतुलन गांवों में ज्यादा है. चीनी मीडिया 'बैचलर गांवों' की रिपोर्टों से भरा पड़ा है, जहां दर्जनों नौजवान लड़के हैं लेकिन उनके आयुवर्ग की एक भी लड़की नहीं है. अक्सर चीन के अखबारों में बढ़ती हुई 'दुलहन की कीमत' का जिक्र होता है. यह उलटे दहेज जैसी एक चीज है जिसमें गांवों के परिवार बहू के लिए दसियों हजार युआन अदा करते हैं. हेबेई प्रांत के कुछ गांवों में मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक, यह दहेज औसतन 1,50,000 युआन (15 लाख रु.) से भी ज्यादा है.

चीन में महिलाओं ने भारत के मुकाबले कई मोर्चों पर अच्छा प्रदर्शन किया है, चाहे वह शिक्षा हो या स्वास्थ्य. हालांकि संकेत इस बात के मिल रहे हैं कि वैश्विक दबावों में इस तरक्की पर आंच आई है जिसके चलते लड़कियों को परिवार के नाम पर अपने करियर को त्याग कर जल्दी शादी करनी पड़ रही है. समाजशास्त्री और लेक्रटओवर विमेनः दि रिर्सर्जेंस ऑफ जेंडर इनिक्वलिटी इन चाइना की लेखिका लेता हांग फिंचर कहती हैं, ''एक नया कारक राज्य और राजकीय मीडिया द्वारा जल्दी शादी करने का महिलाओं पर बनाया गया दबाव है.'' बीते कुछ वर्षों के दौरान लेफ्टओवर विमेन का इस्तेमाल चीनी मीडिया में आम हो चला है. यह उम्र के दूसरे दशक के आखिरी पड़ावों पर चल रही महिलाओं के लिए प्रयोग में लाया जाता है, जिसे फिंचर 'राजकीय मीडिया का कलंकित करने वाला अभियान' करार देती हैं ''जो महिलाओं और उनके माता-पिता को इस बात का एहसास कराने के लिए है कि इस उम्र तक उनकी शादी हो जानी चाहिए.''

यही उत्तेजना तमाम अभिभावकों को हर इतवार की दोपहर पार्कों में खींच लाती है. अधिकतर माता-पिता यहां अपने बच्चों की मंजूरी से ही आते हैं. फिंचर कहती हैं, ''कहने का आशय यह है कि एक लड़की को 30 साल की उम्र से पहले शादी कर लेनी चाहिए वरना उसे शादी का मौका नहीं मिलेगा, यह आबादी के संकट से जुड़ी सरकारी प्राथमिकताओं और महिलाओं की बढ़ती हुई शिक्षा के बीच सीधा टकराव है.'' अपनी पुस्तक में फिंचर चीन में शादियों और रियल एस्टेट के बीच एक आश्चर्यजनक संबंध की पड़ताल करती हैं जहां वे इस व्यापक धारणा को पंक्तिबद्ध करती हैं कि ''एक लड़की तब तक शादी नहीं करेगी जब तक कि लड़के के पास अपना मकान न हो.'' गांवों के इलाके में तो यह बात मोटे तौर पर सही है लेकिन फिंचर ने पाया है कि शहरों में यह बात एक मिथक जैसी है—जिसे सरकारी मीडिया और रियल एस्टेट कंपनियां अपनी ओर से थोप रही हैं. फिंचर एक सर्वे का हवाला देते हुए कहती हैं कि वास्तव में चार महानगरों में महिलाओं ने 70 फीसदी मकानों की खरीद की है. ऐसा करने के बावजूद उनके नाम केवल 30 फीसदी मकानों के स्वामी के बतौर कागजात में दर्ज हैं जिससे ''जायदाद के स्वामित्व में भारी लैंगिक अंतर पैदा हो गया है.'' 

झोंगशुन पार्क में लगे पोस्टरों में कुछ बेहद योग्य महिलाएं हैं, मसलन बीजिंग में एक महिला जज है तो एक अन्य अमेरिका में कैंसर की शोधकर्ता है. एक महिला शीर्ष अर्थशास्त्री है तो दूसरी भारी कमाई वाली वकील है जो जापान में रहती है. इनमें से दो के माता-पिता ने बताया कि शादी के बाजार में दूल्हा खोजने को लेकर उन दोनों की ''न तो सहमति है और न ही असहमत'' लेकिन दोनों पर जल्दी शादी करने का दबाव जरूर है इससे पहले कि ''बहुत देर न हो जाए.''

हाल ही के एक इतवार की दोपहर पार्क में जुटी अभिभावकों की भीड़ में एक शख्स अलग से खड़ा दिख रहा थारू 26 वर्षीय जैक झांग हाथ में अपने ही नाम का पोस्टर लिए हुए था और एक कोने में चुपचाप खड़ा था. इंटरनेट पर कई नाकाम प्रयासों के बाद वह इस पार्क में पहुंचा था. उसका पोस्टर संक्षिप्त था, ''मैं 7000 युआन कमाता हूं (करीब 70 हजार रु.). मेरे पास अपना मकान नहीं है. मेरी अपनी दुलहन से कोई मांग नहीं है. मुझे केवल एक अच्छा व्यक्ति चाहिए.'' एक संभावित वर को खुद बाजार के बीच खड़ा देख अचंभित अभिभावकों का एक समूह झांग से बातचीत के लिए कतार में खड़ा इंतजार कर रहा था. बाजार उठने का समय होने लगा है. क्या उसे कोई मिला? उसने निराशा में कहा, ''ज्यादा नहीं.'' कुछ अभिभावकों ने उससे कहा है कि एक बार वह मकान खरीद ले तब वे उससे संपर्क करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay