एडवांस्ड सर्च

Advertisement

अब क्रिकेट में चाइनीज तड़का

चीन को क्रिकेट खेलने वाले देशों में शुमार करने की महत्वाकांक्षी कोशिशों में बढ़-चढ़कर भूमिका निभा रही हैं महिलाएं.
अब क्रिकेट में चाइनीज तड़का
अनंत कृष्णन 21 October 2014

इस साल जुलाई में चीन की 20 युवतियों का एक दल लंदन पहुंचा. वे सभी लाल ट्रैकसूट पहने थीं और उनके बाल भी एक-जैसे करीने से कटे हुए थे. जल्दी ही वे वहां तमाम लोगों की उत्सुकता का विषय बन गईं. उनके ट्रैकसूट पर चीनी नेशनल विमेन क्रिकेट टीम का लोगो चमक रहा था. कइयों को तो पता भी नहीं था कि ऐसी कोई टीम भी है.

टीम में कई यूनिवर्सिटी छात्राएं थीं जिन्हें पहली बार क्रिकेट का बल्ला उठाए अभी साल भर भी नहीं हुआ था. पहला मैच बर्कशायर काउंटी में था. भले ही वहां सिर्फ अंग्रेज दर्शक आते रहे हों फिर भी मैच को लेकर खासी उत्सुकता थी. चीन की टीम को क्रिकेट खेलते देखना बिल्कुल नई बात तो थी ही. उनके खिलाफ बर्कशायर काउंटी लेडीज इलेवन ने अपनी सबसे मजबूत टीम भी नहीं उतारी थी और चीनी युवतियां विदेशी हालात में खुद को ढालने के लिए जद्दोजहद कर रही थीं. उन्होंने गर्म और शुष्क मौसम वाले उत्तर-पूर्वी चीन में कृत्रिम टर्फ मैदानों पर इस दौरे के लिए तैयारी की थी.

चीनी टीम ने 20 ओवरों में पांच विकेट पर 110 रनों का स्कोर बनाया. जब बर्कशायर की टीम बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर आई तो इस स्कोर का पीछा करना उतना आसान साबित नहीं हुआ जितना उन्होंने सोचा था. मेहमान टीम ने बहुत अनुशासन के साथ कसी हुई गेंदबाजी की और घास के मैदान पर गेंद लपकने के लिए जान लड़ा दी. बर्कशायर की टीम किसी तरह 109 रन बना सकी और अपने चीनी मेहमानों से एक रन से हार गई. अगले एक माह में चीन की टीम ने अव्वल दर्जे की अंग्रेज टीमों के खिलाफ खेलते हुए पूरे इंग्लैंड का दौरा किया. क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉड्र्स में भी उन्होंने मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) की विमेंस टीम के खिलाफ मैच खेला. उन्होंने नौ मैच खेले और उनमें से आठ में फतह हासिल की.
क्रिकेट के लोकप्रिय ठिकाने
बैन-चियो की खोज
चीन में क्रिकेट का कोई इतिहास नहीं है. ज्यादातर चीनियों ने बैन-चियो या बैट-बॉल के बारे में कभी सुना भी नहीं था. वे इससे मिलते-जुलते ‘बैंगचियो’ या बेसबॉल के बारे में तो जानते थे. आखिरकार 2005 में चीन का क्रिकेट से औपचारिक परिचय करवाया गया. तब नवगठित चाइनीज क्रिकेट एसोसिएशन (सीसीए) ने उसी साल बीजिंग में कोचिंग कोर्स आयोजित किया.

उस पहले कोर्स से ही क्रिकेट को बढ़ावा देने के अभियान से जुड़े रहे सीसीए के क्रिकेट मैनेजर टेरी झंग कहते हैं, “मैं जितने लोगों को जानता था उनमें से एक को भी उस जमाने में पता नहीं था कि क्रिकेट आखिर किस बला का नाम है.” फिर फिजिकल एजुकेशन देने वाले शिक्षकों ने अपने स्कूलों में इस खेल की शुरुआत की. अगले ही साल पहला राष्ट्रीय टूर्नामेंट आयोजित किया गया. इसमें से सीसीए ने अंडर-15 की पहली पुरुष राष्ट्रीय टीम का चयन किया.

आइसीसी से मिले जबरदस्त समर्थन के बूते पर चीनी प्रशासकों ने फौरन ऐलान कर दिया कि वे 2020 तक चीन को क्रिकेट विश्व कप में पहुंचा देंगे. यह दावा अलबत्ता थोड़ी जल्दबाजी में किया गया था. पुरुष टीम तभी से जीत के लिए खासी जद्दोजहद करती देखी गई. उन्हें कई अपमानजनक हारों का सामना करना पड़ा. उनकी सबसे बुरी हालत 2009 के एशियन क्रिकेट काउंसिल (एसीसी) टूर्नामेंट में हुई. उन्होंने ईरान, थाईलैंड और मालदीव सरीखे देशों के खिलाफ (जिनमें से एक भी क्रिकेट का दिग्गज देश नहीं है) तीन मैच खेले और तीनों हारे. पहले मैच में टीम ईरान से 307 रनों से हारी, थाईलैंड ने सिर्फ 37 रनों पर उनकी पूरी टीम को चलता कर दिया और 8 विकेट से हराया. मालदीव ने उन्हें 315 रनों से जबरदस्त शिकस्त दी.

सीसीए के सेक्रेटरी जनरल सोंग यिंगचुन ने एक इंटरव्यू में माना, “2006 में जरूर ऐसी योजनाएं थीं कि 2020 तक विश्व कप में दस्तक दी जाए. जैसा सोचा था वैसा हुआ नहीं.” क्रिकेट कार्यक्रम की कमान अब सोंग के हाथों में है और वे इसे ठीक करने की महत्वाकांक्षी योजनाओं पर काम कर रहे हैं. सोंग को सरकार ने पहले टेनिस और गोल्फ को प्रमोट करने का दायित्व सौंपा था और इन दोनों ही पहलकदमियों में उन्हें खासी कामयाबी मिली. यहां तक कि महिला टेनिस स्टार ली ना की खोज में भी उनका हाथ रहा. जब वे सिर्फ आठ साल की थीं तभी से वे उसके करियर के विकास में मदद करते आ रहे हैं. ली बाद में नंबर दो की वल्र्ड रैंकिंग तक पहुंचीं. चीन ने कई युवा गोल्फर भी तैयार किए हैं जो वल्र्ड टूर में अपनी छाप छोडऩे लगे हैं. सरकार को उम्मीद है कि सोंग क्रिकेट के विकास में भी ऐसी ही कामयाबी हासिल करेंगे.

सोंग ने इंडिया टुडे को बताया कि उनकी योजनाओं में बीजिंग में क्रिकेट के लिए समर्पित पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण सबसे ऊपर है. वे बताते हैं, “इसका काम चल रहा है. मैं बीजिंग में एक या मुमकिन हो तो दो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैदान बनाना चाहता हूं. हमने एसीसी से इस बारे में बात की है. वे हमें तकनीकी मदद देने को तैयार हैं. चीन में एक अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट आयोजित करना जरूरी है ताकि खेल के प्रति आकर्षण को बढ़ाया जा सके.” वे बिल्कुल जमीनी स्तर पर खेल को बढ़ावा देना और अंतरराष्ट्रीय कोचों को भी लाना चाहते हैं.

चीन में क्रिकेट के विकास के लिए सबसे बड़ी चुनौती संभवतः वह सरकारी नीति है जिसमें सारा ध्यान सिर्फ ओलंपिक खेलों पर दिया गया है. 1949 में पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की स्थापना के बाद से ही उसके रहनुमाओं ने इस बात को तवज्जो दी कि देश ज्यादा से ज्यादा ओलंपिक मेडल जीते. 2008 में बीजिंग में ओलंपिक खेलों के आयोजन के साथ मेडलों की यह दीवानगी और भी ज्यादा बढ़ गई. अब यह राष्ट्रीय जुनून बन चुका है कि चीन किसी भी हालत में अमेरिका से ज्यादा गोल्ड मेडल जीते. नतीजा यह हुआ कि गैर-ओलंपिक खेलों को पर्याप्त समर्थन और मदद नहीं मिल सकी. झंग कहते हैं, “अगर क्रिकेट ओलंपिक में आ जाता है तो हम चीन में इस खेल का कायापलट होते देखेंगे.” वे रग्बी की मिसाल देते हैं जो 2016 ओलंपिक से वापसी करेगा. क्रिकेट टीम जहां टर्फ मैदानों पर प्रैक्टिस करती है, वहीं रग्बी खिलाडिय़ों को घास के मैदानों पर प्रशिक्षण दिया जाता है.
चीन में क्रिकेट के नए सितारे
तय करने हैं कई मुकाम
क्रिकेट उन खेलों की जगह तो नहीं ले सकता जिन्हें चीनी जुनून की हद तक चाहते और खेलते हैं—टेबल टेनिस, बैडमिंटन, फुटबॉल और अब बेसबॉल. लेकिन चीनी अधिकारी मानते हैं कि एशिया का प्रमुख खेल होने की वजह से क्रिकेट सीखने से चीन को फायदा होगा. उसके क्रिकेट प्रोजेक्ट के लिए वास्तव में कई चुनौतियां सामने खड़ी हैं, लेकिन खेल के नौ साल के सफर के दौरान सबसे अच्छी बात यह हुई है कि चीनी महिला टीम ने बहुत तेजी से तरक्की की है.

2007 में शुरुआत करने वाली उसकी महिला टीम को अभी ज्यादा अरसा नहीं हुआ, लेकिन उसने बहुत तेजी से इस खेल को अपना लिया. चीनी पुरुष और महिला, दोनों ही टीमों के कोच और पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर राशिद खान कहते हैं कि उनमें सुधार की रफ्तार ‘सचमुच देखने लायक’ है. इंडिया टुडे से इंटरव्यू में उन्होंने कहा, “सात साल पहले उनमें से किसी को यह भी नहीं पता था कि बल्ला कैसे पकड़ते हैं या बॉल को कैसे ग्रिप करते हैं.” यह इंटरव्यू उनसे उत्तर-पूर्वी लियाओनिंग प्रांत के शेनयांग में टीम के एक प्रशिक्षण शिविर के दौरान पिछले महीने उस वक्त लिया गया था जब वे दक्षिण कोरिया में एशियाई खेलों के लिए रवाना होने वाले थे.

2011 से 2014 के बीच चीनी महिला टीम तीन एसीसी टूर्नामेंटों के फाइनल में पहुंची. खान बताते हैं, “कोई छह साल पहले जब हमने पहली बार हांगकांग के साथ मैच खेला था तब हम बड़े अंतर से हार गए थे. उसी टीम के साथ जब हमने पिछले साल मैच खेला तो हमने उन्हें उससे भी बड़े अंतर से हराया.” अक्तूबर की शुरुआत में दक्षिण कोरिया में हुए एशियाई खेलों में महिला टीम इतिहास बनाने और मेडल जीतने वाली पहली चीनी क्रिकेट टीम बनने के करीब पहुंच गई थी. टीम सेमी फाइनल में तो पहुंच गई लेकिन कांस्य पदक के लिए हुए मैच में श्रीलंका से हार गई.

चीन की युवा टीम को कोचिंग देने वाले पूर्व बांग्लादेशी क्रिकेटर मंजूरुल इस्लाम कहते हैं, “हमारी सबसे बड़ी मुश्किल घास के मैदानों पर सिखाने की सुविधा न होना है.” उनके मुताबिक, जो बात सबसे ज्यादा गौर करने लायक है, वह टीम का जुनून है.
क्रिकेट के मामले में चीन का कोई मददगार नहीं
क्रिकेट से प्यार की खातिर
चीनी महिला क्रिकेट की कहानी को सबसे जोरदार तरीके से अगर कोई बताता है तो वे हैं उसकी 29 वर्षीया कप्तान हुआंग झू. उत्तर-पूर्व के चांगचुन की रहने वाली हुआंग ने क्रिकेट खेलना उस वक्त शुरू किया था जब वे शेनयांग स्पोट्र्स यूनिवर्सिटी में पढ़ती थीं. यह उन थोड़े-से स्कूलों में से था जहां सबसे पहले क्रिकेट की शुरुआत की गई थी.

हुआंग कहती हैं, “मुझे पता नहीं था कि क्रिकेट क्या होता है. मैं वॉलीबॉल खेला करती थी. लेकिन जब मैंने पहले ट्रेनिंग सेशन में भाग लिया तो वह अलग ही तरह का अनुभव था—बल्ला घुमाना, शॉट खेलने के लिए अपनी कोहनी को उठाना सीखना...सचमुच बड़ी चुनौती की तरह लगता था. मुझे उसी समय क्रिकेट से प्यार हो गया और तभी से मैं लगातार क्रिकेट खेल रही हूं.”

एसएसयू को हुआंग में क्रिकेट की इस कदर प्रतिभा नजर आई कि उसने उन्हें छात्र के रूप में बनाए रखने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी. उन्हें पोस्ट ग्रेजुएट स्पोट्र्स कोर्स के लिए दाखिला दिया गया. हुआंग भी इस विश्वास की कसौटी पर खरी उतरीं और टीम को दो एशियाई फाइनल मैचों में पहुंचाकर ही मानीं. इंग्लैंड दौरे में उन्होंने कई दर्शकों के दिल में खास जगह बनाई, खासकर जब उन्होंने जर्सी के खिलाफ एक छक्के और 13 चैकों के साथ 145 नाबाद रन बनाए.

हुआंग और उनकी टीम की खिलाडिय़ों ने इत्तेफाकन क्रिकेट को अपनाया था, लेकिन फिर उन्होंने अपनी जिंदगी एक ऐसे खेल को समर्पित कर दी जिसके बारे में उनके देश के कम ही लोगों ने सुना था. उनकी टीम की साथी, 22 वर्षीय विकेटकीपर लिऊ शियाओनन बताती हैं, “मेरे परिवार और दोस्तों में किसी ने भी क्रिकेट के बारे में नहीं सुना था. मैं सबसे ज्यादा खुश तब होती हूं जब क्रिकेट खेल रही होती हूं. यह जेंटलमैन स्पोर्ट है. मुझे टीमवर्क और जिस तरह हम एक-दूसरे की मदद करते हैं वह अच्छा लगता है.”

लिऊ बताती हैं कि क्रिकेट के जरिए उन्हें दोस्त मिले. हुआंग और लिऊ को चीन की यूनिवर्सिटी लाइफ के दबावों से निजात पाने की जगह भी इस खेल में मिली. हुआंग की तरह लिऊ भी अगले एक साल में ग्रेजुएट हो जाएंगी और तब उनके लिए यह चुनना मुश्किल हो जाएगा कि वे अपने लिए एक नौकरी खोजें या अपना खेल जारी रखें. करियर के तौर पर क्रिकेट का विकल्प नहीं चुना जा सकता. देश के लिए खेलने पर भी क्रिकेटरों को महीने में महज 600 युआन (6,000 रु.) ही मिलते हैं.

हुआंग बताती हैं कि उनके माता-पिता को इस बात के लिए राजी करना आसान नहीं था कि वे अपना एकेडमिक जीवन उस खेल को समर्पित करने जा रही थीं जिसके बारे में उन्होंने कभी सुना भी नहीं था. जब चीन ने 2010 के एशियाई खेलों की मेजबानी की और पहली बार चीन की धरती पर अंतरराष्ट्रीय खेल के तौर पर क्रिकेट खेला गया, तो उनका हृदय परिवर्तन हो गया. वे कहती हैं, “गुआंगझू में हुए एशियाई खेलों में मेरा परिवार मेरा हौसला बढ़ाने आया. उनके लिए अपनी बेटी को देश के लिए खेलते देखना खास था.”

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद अपनी योजनाओं की बात करते हुए हुआंग कहती हैं, “मुझे कुछ-न-कुछ काम शुरू करना पड़ेगा. मैं चाहती तो जरूर हूं कि आगे भी खेलना जारी रखूं लेकिन क्या मुझे कोई ऐसा काम मिल सकता है जिसके साथ मेरा खेलना भी जारी रहे? कह पाना मुश्किल है.”

तो क्या उन्हें अब क्रिकेट को चुनने पर पछतावा है? वे कहती हैं, “अपनी जिंदगी और क्रिकेट, दोनों को एक साथ साध पाना मेरे लिए मुश्किल रहा है. मैंने इस खेल से इतना कुछ सीखा है, इसलिए मुझे कोई पछतावा नहीं है. देश के लिए खेलने के एहसास को मैं कभी भूलूंगी नहीं. गुआंगझू में जिस पल मैं अपने हाथ में बल्ला लिए खेलने आई और मेरा परिवार गर्व से मुझे देख रहा था—वह जिंदगी का गौरवशाली क्षण था.”

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay