एडवांस्ड सर्च

शराब की दुनिया की सैर

समाजवादी भारत में जिंदगी के उच्च स्तर को ऊंची सरकारी नौकरी के रूप में देखा जाता है यानी डिप्लोमैट. डायरेक्टर्स स्पेशल की चाह बहुत ज्यादा है, ऐसा इसलिए क्योंकि समाजवादी भारत में निजी क्षेत्र कम थे इसलिए कंपनियों के डायरेक्टर भी कम थे. फिर ऑफिसर्स च्वाइस और एरिस्टोक्रेट भी हैं.

Advertisement
aajtak.in
पलाश कृण्ण मेहरोत्रानई दिल्‍ली, 16 December 2012
शराब की दुनिया की सैर

शराब कारोबारी पोंटी चड्ढा की मौत के बाद ही मुझे पता चला कि आखिर हम लोग लंबे समय से व्हिस्की पर छपी एमआरपी से ज्यादा पैसा क्यों दे रहे हैं—जिसे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में ‘मायावती टैक्स’ के नाम से जाना जाता है. ज्यादा बिकने वाले मैकडॉवल्स प्लेटिनम जैसे ब्रांड की हर बोतल पर 40 रु. ज्यादा देने पड़ते थे. शराब की दुकानों पर होने वाली बहस मुझे याद है. वे या तो खामोश रहते या कहते कि कीमतें बढ़ गई हैं या दो टूक कह देते कि अगर आपको इस कीमत पर शराब नहीं लेनी है तो दूसरा ठेका देख लें.

पोंटी चड्ढा के पास महसूल जुटाने वाली कुशल निजी पुलिस थी. इसका काम दूसरे राज्यों से शराब की तस्करी को रोकना था. दूसरे शब्दों में शराब से भरा कोई ट्रक पंजाब से पोंटी के इलाके में न आ जाए. पोंटी ने अपना ब्रांड रैफल्स रम निकाला था जिसने काफी अच्छा धंधा किया. इसने कुछ पुराने क्लासिक ब्रांड जैसे सेलीब्रेशन, ओल्ड मौंक और सिक्किम के बाजार में भी सेंध मारी. चूंकि शराब के धंधे में पोंटी का एकाधिकार था इसलिए उन्होंने सुनिश्चित कराया कि रैफल्स रम सुलभ हो और दूसरे ब्रांडों की कीमत में ही उपलब्ध हो.

यह दुनिया का सबसे ज्यादा मुनाफे वाला बिजनेस है. इसीलिए सरकार से लेकर नेता, साकी से लेकर बिचैलिए तक, सभी इसमें हिस्सा चाहते हैं. शराब पीने के मामले में हमारा व्यवहार वैसा ही है जैसा कि सेक्स के प्रति है. हम यह दिखाते हैं कि हम नहीं करते. चूंकि शराब के विज्ञापन पर प्रतिबंध है इसलिए विजय माल्या ने अपनी एयरलाइंस का नाम किंगफिशर रखा जो उनके बियर के विज्ञापन का तरीका था. शराब का विज्ञापन सीधे-सीधे नहीं किया जा सकता इसलिए कंपनियां इसके नए तरीके निकालती हैं जो कई बार बड़े हास्यास्पद होते हैं. मुझे 8पीएम (मूल रूप से व्हिस्की का एक ब्रांड) एपल जूस का एक विज्ञापन याद आता है जिसमें एक आदमी जैसे ही उस जूस का एक घूंट पीता है, उसके साथ अजीब चीजें होने लगती हैं. विज्ञापन की टैग लाइन थी—8पीएम एपल जूस. कुछ भी हो सकता है. शायद यह अब तक का सबसे ज्यादा मिलावट वाला एपल जूस रहा होगा जिसमें शायद खमीर तक उठ गई हो.

बाजार में हर महीने शराब का नया विदेशी ब्रांड आ रहा है लेकिन भारत के आम शराबी के लिए जमीनी स्तर पर कुछ नहीं बदला. अगर आप उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जैसे शहर में हैं तो आपके लिए विकल्प बहुत कम हैं. ज्यादातर लोग बियर की दुकान की बगल में खड़े-खड़े गटक जाते हैं. वे रात के अंधेरे में गंदे नाले पर खड़े होकर बियर पीते हैं. यह भी एक कारण है कि भारत में पौवा ज्यादा बिकता है. यहां बात पैसे की नहीं है बल्कि ज्यादातर लोग 750 एमएल की बोतल को घर नहीं ले जा सकते. इलाहाबाद में लोग आधे घंटे के लिए रिक्शा लेते हैं और फिर चलते हुए रिक्शे पर पौवा खत्म कर लेते हैं. बड़े शहरों में देखे जाने का डर बहुत कम ही होता है फिर यह बहुत महंगा भी पड़ता है. जैसा कि डेव बेसेलिंग अपनी नई किताब द लिक्विड रिफ्यूजेज टू इग्नाइट में कहते हैं कि दिल्ली के पब में साफ हो जाता है कि या तो आप बहुत अमीर हैं या बहुत गरीब. ‘‘अगर आप इसके बीच में आते हैं तो बेहतर होगा कि अपने घर में ही पीजिए.’’ हां याद रखें, घर में पीना मना है.

लेकिन फिर भी इंसान जो करना चाहता है उसका रास्ता निकाल ही लेता है. चलिए हम आपको जाने-पहचाने देश में बने विदेशी शराब के (आइएमएफएल) ब्रांड की सैर को ले चलते हैं. अब ज्यादातर उच्च मध्य वर्ग के लोग इस ब्रांड को हाथ नहीं लगाते लेकिन मैं उच्च मध्य वर्ग से नहीं हूं इसलिए मेरे लिए तो यही ब्रांड बचा है, जिसे मैं जानता.

यह सस्ती व्हिस्की की दुनिया है जिसमें 220 रु. से लेकर 500 रु. तक की व्हिस्की मिलती है. यह एरिस्टोक्रेट और बैगपाइपर और डिप्लोमैट से शुरू होकर पीटर स्कॉट पर खत्म होती है. समाजवादी भारत में जिंदगी के उच्च स्तर को ऊंची सरकारी नौकरी के रूप में देखा जाता है यानी डिप्लोमैट. डाइरेक्टर्स स्पेशल की चाह बहुत ज्यादा है, ऐसा इसलिए क्योंकि समाजवादी भारत में निजी क्षेत्र कम थे इसलिए कंपनियों के डायरेक्टर भी कम थे.

इन व्हिस्की के साथ खास बात यह है कि इसे पीने से ऐसा लगता है कि यह रम का हल्का रूप है. ये शीरे से बनती हैं. इसके बाद आता है मैकडॉवेल्स नं.1 और इसकी सबसे आला किस्म प्लैटिनम है. यह धर्म की तरह सफल है हालांकि यह ऐसी व्हिस्की है जिसमें सबसे ज्यादा मिलावट है. यही वजह है कि सुनहरे रंग के कैरी बैग में आती है. आप और 50 रु. दें और आपको इसका प्लैटिनम अवतार मिल जाएगा जिसके ऊपर कुछ रोचक जुमले लिखे होते हैं जिसमें पांस, शाहबलूत की लकड़ी, वैनिला और ‘अजीब-सा बसंती फूल’ का बखान होता है. फिर ऑफिसर्स च्वाइस है जिसका दावा है कि यह ईमानदार और सच्चे आला अधिकारियों का पेय है. रैडिको का 8पीएम है जिसने पहली बार डिप्लोमैट जैसी आकांश्राओं वाले बड़े नामों को तोड़ा और उसकी जगह उस समय को महत्व दिया जब आम तौर पर मध्य वर्ग के भारतीय पीने बैठते हैं.

और अंत में पीटर स्कॉट है जो कामयाब हाइकोर्ट के वकीलों का पसंदीदा ब्रांड था लेकिन अब वह इस झूठी शान वाली फेहरिस्त में लुढ़क गया है. मैं तो महंगी शराब के पास भी फटकने वाला नहीं और न उससे परे की दुनिया की तरफ रुख करने वाला. मेरे लिए यह ऐसा है जैसे चीन जिसके बारे में सुना बहुत है लेकिन देखा नहीं है. उम्मीद है कि मैं एक दिन उसे देखूंगा. 

लेखक फिलहाल ट्रैंकबारके लिए शराबनोशी पर एक संकलन का संपादन कर रहे हैं

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay