एडवांस्ड सर्च

पाकिस्तान का नजरियाः रुख में नरमी और गरमी दोनों ही

भारत के मीडिया में युद्धोन्माद पैदा करने वाली खबरों पर इमरान ने कहा कि अगर भारत, पाकिस्तान पर हमला करने के बारे में सोच रहा हो, तो ''हम जवाबी कार्रवाई करेंगे. हमारे पास जवाबी कार्रवाई करने के सिवा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा होगा.

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 26 February 2019
पाकिस्तान का नजरियाः रुख में नरमी और गरमी दोनों ही लड़ाकू एसयू-30एमकेआइ मिराज 2000, जगुआर

जंग शुरू करना हमारे हाथ में है मगर खत्म करना नहीं... और कोई नहीं जानता कि यह हमें कहां लेकर जाएगी." पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का यह लहजा पुलवामा आतंकी हमले के बाद सीमा पार से जंग छेडऩे की आवाजों पर नरम और गरम दोनों तरह के संकेत दे रहा था. नई दिल्ली से आतंकी हमले में इस्लामाबाद के हाथ होने के आरोप के बाद इमरान ने जांच की पेशकश की मगर यह भी कहा कि 'कार्रवाई योग्य ठोस खुफिया जानकारियां" मुहैया कराएं.

इमरान ने पिछले मंगलवार को कहा, ''अगर आपके (भारत) पास कार्रवाई योग्य ठोस सबूत हैं, तो हमसे साझा करें. हम कार्रवाई करेंगे. इसलिए नहीं कि हम दबाव में हैं, बल्कि इसलिए कि यह हमारी नीति है." उन्होंने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान को इस हमले से कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है और किसी भी संगठन ने अगर हमले की योजना या उसे अंजाम देने के लिए ''पाकिस्तानी सरजमीं का इस्तेमाल किया है" तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

इमरान ने आतंकवाद के मसले पर भारत के साथ बातचीत फिर शुरू करने की पेशकश की. नई दिल्ली बातचीत की यह पूर्व-शर्त रख चुकी है. उन्होंने कहा, ''भारत हमेशा बातचीत की पूर्व-शर्त रखता आया है कि उसे दहशतगर्दी पर बात करनी है. आज, मैं कहता हूं कि हम दहशतगर्दी पर बात करने को तैयार हैं."

भारत के मीडिया में युद्धोन्माद पैदा करने वाली खबरों पर इमरान ने कहा कि अगर भारत, पाकिस्तान पर हमला करने के बारे में सोच रहा हो, तो ''हम जवाबी कार्रवाई करेंगे. हमारे पास जवाबी कार्रवाई करने के सिवा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा होगा."

दोनों देशों के बीच एक-दूसरे के खिलाफ एक प्रकार की कूटनीतिक जंग शुरू हो चुकी है. पाकिस्तान ने नई दिल्ली से अपने उच्चायुक्त को वापस बुला लिया और पाकिस्तान का विदेश मंत्रालय विभिन्न देशों के राजदूतों के साथ बैठकें करके भारतीय आरोपों के खिलाफ अपना पक्ष रख रहा है.

विदेश सचिव तहमिना जांजुआ ने इस्लामाबाद में पी-5 देशों के स्थायी सदस्यों के साथ भी बैठकें की हैं, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान की स्थिति से अवगत कराया.

इस बीच, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव को पत्र लिखकर तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की. पत्र में लिखा गया है, ''मैं भारत द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ बल प्रयोग के खतरे की ओर आपका तत्काल ध्यान दिलाना चाहता हूं."

पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद पर पुलवामा घटना की खुली और विश्वसनीय जांच के लिए भारत पर दबाव बनाने की गुहार लगाई है, ''भारत भी ऐसा मान रहा है कि भारत अधिकृत कश्मीर क्षेत्र में हुआ हमला किसी कश्मीरी का काम था."

जबकि दोनों देश एक-दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं, पाकिस्तान ने किसी भी सैन्य कार्रवाई के मुकाबले के लिए नियंत्रण रेखा और वर्किंग बाउंड्री (डब्ल्यूबी) पर तैनात फौज के लिए रेड अलर्ट जारी किया है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay