एडवांस्ड सर्च

सेक्स सर्वेः दोधारी तलवार

पोर्न 'एडिक्ट' एक ऐसा व्यक्ति है जो साथी के साथ या अकेले यौन क्रियाएं तभी कर सकता है जब साथ-साथ पोर्न भी चले. उस व्यक्ति के लिए पोर्न देखना एक तरह की, 'कामोत्तेजक वस्तु' (फेटिश) यानी ऐसी 'जरूरत' बन जाता है जिसके बिना वह यौन संबंध बना ही नहीं सकता.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in 06 November 2019
सेक्स सर्वेः  दोधारी तलवार इन सबको नहीं पता था कि अपनी सेक्स लाइफ में रोमांच कैसे भरा जाए.

वर्खा चुलानी

वह कामोत्तेजना प्राप्त करने में असमर्थ था. उसे पार्टनर आकर्षक नहीं लगती थी. लेकिन वह उससे प्यार करता था और रिश्ता खत्म नहीं करना चाहता था. इसलिए उसने रास्ता निकाला- पहले खुद को उत्तेजित करना और फिर बिस्तर पर आना. इस तरह, उसे अपनी कमियों का सामना नहीं करना पड़ता था.

वह हमेशा अलग चीजें चाहती थी. उसने पाया कि वह एक यौन आनंद विहीन जीवन में धंसती जा रही थी. वह डीवीडी चालू करती और जो भी उसने वहां देखा था, उसे जितना संभव हुआ आजमाया. आखिरकार, कुछ नया खोजने से तो नकल कर लेना ही आसान था. इन सबको नहीं पता था कि अपनी सेक्स लाइफ में रोमांच कैसे भरा जाए. इसके लिए क्या करें, कैसे आगे बढ़ें, इन बातों पर ज्यादा दिमाग न लगाते हुए, उन्होंने खुद को 'शिक्षित' करने के लिए पोर्न का इस्तेमाल किया और समझा कि अपने यौन आनंद को बढ़ाने में यह किस प्रकार मददगार हो सकता है.

ये सभी लोग अपने फायदे के लिए पोर्न का इस्तेमाल कर रहे थे. यह सच है, पोर्न अच्छी भूमिका निभाता है जब कोई इसका प्रयोग अपने प्रदर्शन की चिंता घटाने के लिए करता है, जैसा कि पहले उदाहरण वाले व्यक्ति के मामले में रहा. या जब कोई इन फिल्मों में देखी विधियों का उपयोग आत्म आनंद के लिए करता है, जैसा कि महिला ने किया था. या जब युगल इसका उपयोग यौन जीवन से जुड़ी जानकारियां लेने के लिए करते हैं. लेकिन यह कब हानिकारक हो जाता है, कब यह स्वस्थ रिश्तों के रास्ते में आने लगता है? शब्दकोश किसी चीज के हानिकारक हो जाने के स्तर तक लगातार उपयोग को 'लत' (एडिक्शन) के रूप में परिभाषित करता है.

संज्ञानात्मक व्यवहारपरक चिकित्सा के क्षेत्र में विशेषज्ञता वाले नैदानिक मनोवैज्ञानिकों और मनोचिकित्सकों के रूप में हम एडिक्शन या लत को उस आदत के रूप में परिभाषित करते हैं जब यह जीवन का ऐसा 'अनन्य' हिस्सा बन जाता है जिसके बिना कोई व्यक्ति कार्य ही नहीं कर सके. पोर्न 'एडिक्ट' एक ऐसा व्यक्ति है जो साथी के साथ या अकेले यौन क्रियाएं तभी कर सकता है जब साथ-साथ पोर्न भी चले. उस व्यक्ति के लिए पोर्न देखना एक तरह की, 'कामोत्तेजक वस्तु' (फेटिश) यानी ऐसी 'जरूरत' बन जाता है जिसके बिना वह यौन संबंध बना ही नहीं सकता. बेशक, 'लत' के शिकार लोग अपने स्वयं के व्यक्तित्व सहित कई कारकों पर निर्भर हैं. हालांकि, कोई यह नहीं कह सकता है कि पोर्न या किसी अन्य चीज की प्राथमिकता को लत कहा जा सकता है. व्यसन का क्रियात्मक शब्द है उस वस्तु की मौजूदगी के बिना कार्य करने में शिथिलता या अक्षमता.

उसने किसी महिला को साथी मानना कठिन समझा. एक महिला को कैसा दिखना चाहिए और उसे कितना 'कामोत्तेजित' होना चाहिए, ये सारे विचार उसके दिमाग में युवा होने के वर्षों तक देखे पोर्न वीडियो से या महिलाओं की पत्रिकाओं से उपजे थे जिसमें बताया गया था कि कैसी महिलाओं को 'सेक्सी' माना जाना चाहिए. इस प्रकार कोई भी महिला उसके लिए वैसी 'अच्छी' नहीं थी और वह एक से दूसरे की ओर भागता रहा.

वह अपने पार्टनरों से हमेशा असंतुष्ट रहती थी. उसके लिए, उसके पार्टनरों के पर्याप्त 'लंबे' नहीं थे. वह भी उसी काल्पनिक फंतासी में फंस गई थी जो लंबे समय तक पोर्न देखने के कारण उसके दिमाग में घर कर गई थी और वह किसी भी पुरुष की मर्दानगी से जुड़े कुछ अतिरंजित ख्यालों में फंसी हुई थी.

कल्पना और मान्यताओं का दोहराव यही स्थिति पैदा कर सकता है. विशेष रूप से उन अनिच्छुक लोगों से जो उन चीजों पर सवाल नहीं करते जो वे देखते हैं या सुनते हैं. भले ही 'हाथ कंगन को आरसी क्या' की कहावत वाली बात यहां कुछ हद तक सही है लेकिन एक अनचाहा पोर्न देखने वाला, बढ़ा-चढ़ाकर पेश की गई चीजों पर सवाल ही नहीं उठाता है. वे यह मानकर खुद को कोसने लगते हैं कि उन्हें यह नहीं मिल रहा है जो वह देख रहे हैं! और यही तुलनाएं उनके सेक्स जीवन का संतुलन बिगाड़ देती हैं. अक्सर, नकल करने की अपनी जरूरतों में वे अपना नुक्सान कर लेते हैं और/या अपने पार्टनर के साथ उन 'स्टैंडडर्स' को पूरा न कर पाने के कारण इतने आक्रोशित हो जाते हैं कि अक्सर उनके जीवन का अस्तित्व खतरे में पड़ जाता है. क्योंकि उन्होंने अपने यौन मिलन को या तो सब या फिर कुछ भी नहीं के खांचे में सीमित कर लिया है!

एक महिला या पुरुष को कितना शानदार होना चाहिए, एक बकवास विचार है कि अच्छा सेक्स वह है जो असीमित समय तक चलता है और कई चरमोत्तेजना (ऑर्गाज्म) ही 'रास्ता' है, संभोग मृगतृष्णा है और सुख को बढ़ाने के लिए सेक्स में विभिन्न पोजिशन आजमाना जरूरी है और ऐसी कई भ्रांतियां हैं जो लोगों के दिमाग में हावी रहती हैं. और इस स्थिति में पोर्न देखना हानिकारक होना शुरू हो सकता है.

इसलिए, यह सीधे तौर पर पोर्न ही नहीं है जो हमारी धारणाओं को प्रभावित करता है बल्कि वह चीज है जिसे देखते हुए हम वे धारणाएं बनाते हैं. लेख के पहले भाग में लोगों ने अपने फायदे के लिए पोर्न का इस्तेमाल किया और इसके जरिए अपनी मदद की. दूसरे में, लोगों ने कुछ अवास्तविक धारणाएं बना ली थीं और उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा. हम कामसूत्र की धरती पर हैं, लेकिन शुद्धतावादी विचार अभी भी बहुत हावी हैं. कोई नैतिक आदेश पारित करने के बजाए, आइए हम पोर्नोग्राफी को उस नजरिए से समझें कि यह एक दोधारी तलवार साबित हो सकती है.

पोर्न की लत में उलझे लोग जैसा देखा वैसा करने के फेर में मनोबल गंवा देते हैं

वर्खा चुलानी लीलावती अस्पताल, मुंबई की क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट/साइकोथेरापिस्ट और न्यूयॉर्क स्थित एल्बर्ट एलिस इंस्टीट्यूट की एसोसिएट फेलो और सुपरवाइजर हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay