एडवांस्ड सर्च

यात्रा वृत्तांतः स्वप्न और यथार्थ के बीच

सगर बहुत उर्वर रचनाकार हैं. उन्होंने सात आसमान जैसी श्रेष्ठ कथाकृति हिंदी को दी, जिन लाहौर नहीं वेख्या...जैसे कालजयी नाटक से समकालीन रंगमंच को समृद्ध किया, फिल्में बनाईं और शाहआलम कैंप की रूहें जैसी विचारोत्तेजक कहानी लिखी.

Advertisement
aajtak.in
शिवकेश मिश्र नई दिल्ली, 27 August 2019
यात्रा वृत्तांतः स्वप्न और यथार्थ के बीच स्वर्ग में पांच दिन

महाकवि नाजि़म हिकमत की एक कविता में कुछ पंक्तियां इस तरह हैं: ''मेरे पास एक छोटी-सी पेंसिल थी/जिसे मैंने एक हफ्ते में घिस डाला/अगर तुम पेंसिल से पूछो, वह कहेगी, 'मेरी समूची ज़िंदगी'/ अगर तुम मुझसे पूछो, मैं कहूंगा/ 'कहां?...सिर्फ एक हफ्ता.' ज़िंदगी के बारे में भी ऐसा ही एक मुहावरा है—चार दिन की जिंदगी. इस निगाह से देखें, तभी हमारे दौर के हर-दिल अजीज अदीब असगर वजाहत के नए सफरनामे स्वर्ग में पांच दिन को सही अर्थों में समझा और सराहा जा सकता है.

असगर बहुत उर्वर रचनाकार हैं. उन्होंने सात आसमान जैसी श्रेष्ठ कथाकृति हिंदी को दी, जिन लाहौर नहीं वेख्या...जैसे कालजयी नाटक से समकालीन रंगमंच को समृद्ध किया, फिल्में बनाईं और शाहआलम कैंप की रूहें जैसी विचारोत्तेजक कहानी लिखी. वे राहुल सांकृत्यायन, नागार्जुन की घुमक्कड़ी को वर्तमान तक लाने वाले अविराम सैलानी भी हैं और ईरान, जॉर्डन आदि देशों के बहुत रोचक और ज्ञानवर्धक सफरनामे हमें दिए हैं. समीक्ष्य कृति भी एक सफरनामा ही है और इसके केंद्र में है पूर्वी यूरोप का देश हंगरी.

असगर 1989 से मुतवातिर हंगरी की यात्राएं करते रहे हैं और 1992-97 तक, पूरे पांच साल विजिटिंग प्रोफेसर के बतौर वहां रहे हैं. उन्होंने वहां के कोने-कोने को, रोएं-रेशे को एक जिज्ञासु और हार्दिक की दृष्टि से देखा और एक इतिहासान्वेषी, एक समाजशास्त्री की भांति उस सबको अपनी स्मृति में दर्ज कर कागज पर उतारा है. लेकिन हंगरी की जिस खूबी ने उन्हें गहरे तक प्रभावित किया वह है वहां की प्राकृतिक सुंदरता. कहते हैं, ''यदि मुगल सम्राट शाहजहां हंगरी आए होते तो निश्चित रूप से कहते कि गर बहिश्त बर रू-ए-ज़मीं अस्त/ हमीं अस्तो हमीं अस्तो हमीं अस्त. ऐसे स्वर्गोपम देश में अगर किसी दिलनवाज को पांच साल का अरसा महज पांच दिन जितना लगे तो हैरत क्या!

खुद लेखक के शब्दों में स्वर्ग में पांच दिन में ''हंगमी प्रवास के संस्मरण ही नहीं हैं, न वहां का इतिहास, न सामाजिक-राजनैतिक अध्ययन, न हंगेरियन साहित्य और कलाओं का कोई विशद विश्लेषण'', लेकिन एक पाठक की नजर से देखें तो इसमें वह सब है, और भी बहुत कुछ है, जो हंगरी को जिज्ञासु पाठकों के करीब लाता है, इतना करीब कि वह हंगरी को चाहने लगे, वहां के ख्वाब देखने लगे.

इस यात्रा पुस्तक के शुरू में ही एक 'अनजाना इतिहासकार' हमारे सामने आ खड़ा होता है. ''इस अनजाने इतिहासकार ने सनत्त 1200 से 1230 के बीच अपना इतिहास लिखा था, जिसे गेस्ता हुंगारोरुम कहा जाता है. अनजाने इतिहासकार की यह काल्पनिक मूर्ति हंगरी के कैसेल ऑफ वय्यदाहुन्यद के बाहर लगी हुई है.' मूर्ति में वह अनजाना इतिहासकार एक लंबा हुडकोट पहने है, जिसने उसके पूरे सिर और चेहरे को ढक रखा है. बस उसकी लंबी नाक ही नजर आती है. वह अनजाना इतिहासकार यूराल पहाड़ों और कैस्पियन सागर के पास बसे एक कबीले के सरदार प्रिंस ओनैदवैलिया की खूबसूरत शहजादी एमैशै और एक कबीले के सरदार के स्वयंवर की दिलकश दास्तान लेखक को सुनाता है और यह भी बताता है कि उन दोनों के संयोग से पैदा हुए आलमोश ने अलग-अलग सात कबीलों के सरदारों को एकजुट किया और कहा, ''हमारे शरीर में अलग-अलग खून दौड़ रहा है...हम सबका खून अलग है...हम अलग हैं...हमें एक होना चाहिए...जब तक हम एक नहीं होंगे, तब तक मैं तुम सबको लेकर आगे नहीं बढ़ूंगा...हमारा खून मिल जाना चाहिए, तब हम सात नहीं रहेंगे, एक हो जाएंगे.'' नौवीं सदी के एकता के इस संदेश के साथ जहां हंगरी का इतिहास आगे बढ़ता है, वहीं लेखक का सफरनामा भी रफ्तार पकड़ता है.

इस दास्तान के हवाले से अरसे से चली आ रही एक गलतफहमी भी दूर होती है. हंगरी को प्राय: हूणों से जोड़ा जाता रहा है और यह कि हंगरी नाम हूणों से पड़ा. लेखक के अनुसार, आठवीं-नौंवीं सदी के आसपास मध्य यूरोप के इस भूभाग में बस गई जनजाति का नाम मज्यर था. उन्हीं से जुड़कर हंगेरियन भाषा में हंगरी का नाम 'मज्यरा सांग' पड़ा. तुर्की जबान में भी हंगरी को मज्यरिस्तान कहा जाता है.

हंगरी की जिन खूबियों के कारण लेखक ने उसे स्वर्ग कहा है, उनमें किसिम-किसिम की वारुणियां हैं—सम्राटों की वाइन से लेकर आम लोगों की शराब तक-एशिया और यूरोप के सम्मिश्रण से पैदा हुई हूरें हैं, जिनकी ''सुंदरता आक्रामक सुंदरता नहीं है. उनमें सहजता और सरलता है.'' आम लोगों की जेब से चाबी का गुच्छा उड़ा लेने वाली जिप्सी वारांगनाएं हैं, कला संग्रहालय हैं, रचनाकारों के नाम से जुड़ी इमारतें हैं, खूबसूरत औरतों से दोस्ती करने में मददगार सुंदर कुत्ते हैं और है बर्फ, तरह-तरह के पैटर्न बनाती, तरह-तरह के रंगाभास देती बर्फ, धरती को आसमान से जोड़ती बर्फ. बर्फ के अनेक रंगारंग संस्मरण हैं इस बेहद पठनीय सफरनामें में.

स्वर्ग में पांच दिन में असगर वजाहत ने एक ऐसा हंगरी हमारे सामने उजागर किया है, जो जिंदगी जैसा जीता-जागता हुआ है और सपने जैसा सुंदर.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay