एडवांस्ड सर्च

Advertisement

स्वप्न, साजिश और स्त्री: स्त्री मन की पड़ताल

गीताश्री की किताब स्वप्न, साजिश और स्त्री में औरतों की जिंदगी से जुड़ी कहानियां हैं. इस किताब की खासियत है कि हर किरदार के साथ महिलाएं खुद को जोड़ती चलती हैं.
 स्वप्न, साजिश और स्त्री: स्त्री मन की पड़ताल स्वप्न, साजिश और स्त्री
मेधा चावलानई दिल्ली, 21 October 2016

महिलाओं के विषयों पर पकड़ रखने वालीं गीताश्री की किताब 'स्वप्न, साजिश और स्त्री' में 12 कहानियां हैं. हर कहानी आपको महिलाओं की मौजूदा स्थिति और उसके साथ चल रहे एक नए अंतर्द्वंद्व के पहलू दिखाती है.

अगर मां इंडिपेंडेंट हो और पति के सामने झुकने से इनकार कर दे तो समाज के तय किए कायदे शायद उस मां को एक महिला के तौर पर देखना नहीं चाहते. जब बेटी कुछ साल बाद  महिला बनती है तो उसे समझ में आता है कि मां और उसके हालात में कोई खास अंतर नहीं है. उजड़े दयार में इसी थीम पर लिखी गई है. जितनी बार इसे पढ़ेंगे, उतनी ही अलग बातें और घटनाएं जेहन में चलती रहेंगी, जो कमोबेश उसी पड़ाव पर जाकर रुकती हैं, जहां इस कहानी का अंत  होता है.

इस किताब की खासियत है कि हर किरदार के साथ महिलाएं खुद को जोड़ती चलती हैं. मेकिंग ऑफ बबीता सोलंकी, डायरी, आकाश और चिडिय़ा, ड्रीम्स अनलिमिटेड शहरी कहानियां हैं, जिनके किरदार जाने-पहचाने लगेंगे. किशोर बेटी रात भर घर से बाहर रह जाए तो आज भी उसकी ओर सवालिया निगाहें ही उठेंगी. कोई उसके पीछे की वजह जानकर किशोर मन की घुटन नहीं समझेगा. उसके चरित्र पर प्रश्नचिन्ह सभी अपना हक समझकर ही उठाएंगे.

हालांकि इन कहानियों की गहराई में उतर पाना सतही पाठक के लिए थोड़ा मुश्कि‍ल रहेगा लेकिन महिलाओं की जिंदगी, संघर्ष और सपनों की तह तक पहुंच पाना भी तो इतना सहज नहीं है...

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay