एडवांस्ड सर्च

पुस्तक समीक्षाः विसंगतियों पर चोट

पीयूष ने लंबे अरसे तक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में काम किया है, इसलिए वे टीवी मीडिया के अंदर-बाहर का सच जानते हैं. शायद यही वजह है कि संग्रह में पांच-छह व्यंग्य मीडिया केंद्रित हैं. 

Advertisement
aajtak.in
सईद अंसारीनई दिल्ली, 25 February 2020
पुस्तक समीक्षाः विसंगतियों पर चोट कबीरा बैठा डिबेट में

पेशे से मीडियाकर्मी पीयूष पांडे के नए व्यंग्य संग्रह कबीरा बैठा डिबेट में की भूमिका की पहली पंक्ति ही हिंदी किताबों के पाठकों पर एक कटाक्ष है. लेकिन इससे कहीं पैना कटाक्ष पहले व्यंग्य में है, जिसमें लेखक कबीरदास को टेलीविजन की डिबेट में बैठा देता है. इसके बाद जो कुछ होता है, उसमें कई विसंगतियां एक साथ एक मंच पर नग्न होती हैं. पीयूष ने लंबे अरसे तक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में काम किया है, इसलिए वे टीवी मीडिया के अंदर-बाहर का सच जानते हैं.

शायद यही वजह है कि संग्रह में पांच-छह व्यंग्य मीडिया केंद्रित हैं. वैसे कुल 65 व्यंग्य हैं इसमें. पीयूष ने इसमें पारंपरिक विषयों से इतर ऐसे विषयों पर व्यंग्य किया है, जो उन्हें नई पीढ़ी का एक सशक्त व्यंग्यकार साबित करते हैं. पीटीएम कथा में वे स्कूलों में होने वाली पैरेंट्स-टीचर मीटिंग के अंदर झांकते हैं तो कसरती काया की माया में जिम संस्कृति की परतें खोलते हैं.

पीयूष के व्यंग्य की भाषा सहज है. वे बड़ी बात कहने के लिए दुरुह भाषा का होना आवश्यक नहीं मानते. उलटा वे अंग्रेजी के शब्दों के इस्तेमाल से नहीं हिचकते. वे उस भाषा का इस्तेमाल करते हैं, जो पाठकों से सीधे संवाद करती है. हर तरफ हनीट्रैपिंग में वे लिखते हैं: ''कई बार हनीट्रैप होने के बाद बंदे का सीडी कांड भी हो जाता है. सामान्य परिभाषा के मुताबिक, ये वो कांड होता है, जिसमें फिल्म बनते हुए का नायक फिल्म रिलीज होते ही खलनायक में तब्दील हो जाता है.''

तमाशा व्यंग्य में वे लिखते हैं: ''सियासत जब तमाशे में तब्दील हो जाए तो जनता भी तमाशबीन हो जाती है. जनता तमाशे में इतनी तल्लीन हो जाती है कि आवश्यक मुद्दों पर बात ही नहीं करती. सवाल ही नहीं पूछती.'' जुए पर जुआरी का प्वाइंट ऑफ व्यू शीर्षक व्यंग्य में पीयूष लिखते हैं—जुआ बुराई कतई नहीं है, अलबत्ता हार्ट को मजबूत करने का शर्तिया टोटका है. जिस दौर में बैंक में रखा पैसा डूब रहा हो, बिल्डर लाखों रुपए लेकर घर नहीं दे रहे और ग्राहक ईएमआई भरने को मजबूर हैं, उस दौर में बंदे का हार्ट मजबूत होना चाहिए.''

विसंगतियों को देखने की पीयूष की अपनी अलग दृष्टि है. इसी दृष्टि से कई रोचक व्यंग्य पैदा हुए हैं. वैसे कुछेक कमजोर व्यंग्य भी हैं. पीयूष आज की तारीख में सबसे सक्रिय व्यंग्यकारों में एक हैं और यह उनका तीसरा संग्रह है.

पुस्तकः कबीरा बैठा डिबेट में

लेखक: पीयूष पांडे 

प्रकाशन: प्रभात प्रकाशन

कीमत: 250 रुपए.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay