एडवांस्ड सर्च

संदेश देने वाली किताबें उबाऊ होती हैं

फिल्मकार दीपा मेहता ने साहित्य और समसामयिक फिल्मों पर

Advertisement
जोआना लोबोनई दिल्ली, 01 October 2018
संदेश देने वाली किताबें उबाऊ होती हैं अर्नेस्टो रूस्कियो गेट्टी इमेजेज

फिल्मकार दीपा मेहता से साहित्य और समसामायिक फिल्मों पर जोआन लोवो की बातचीतः

साहित्य के लिए जेसीबी प्राइज में इस साल की लंबी सूची के बारे में आपको क्या बात रोमांचित करती है?

हम (जूरी) 61 से ज्यादा पुस्तकें पढ़ते हैं, या किसी की गिनती के मुताबिक करीब 1,50,000 पृष्ठ. उनमें से कुछ कहानियां अद्भुत थीं. शेक्सपियर ने कहा था कि दुनिया में तीन तरह की कहानियां होती हैं, लेकिन यह बात महत्वपूर्ण होती है कि आप उसे कैसे पेश करते हैं. इन पुस्तकों में विषय और उनकी प्रस्तुति बहुत अलग थी. चाहे वह भाषा हो, अनुवाद हो, एक बेहतरीन सामंजस्य था और साथ ही मानवता के प्रति गहरा प्रेम निहित था जिसने मुझे बहुत प्रभावित किया.

समसामयिक भारतीय साहित्य पर आपकी क्या राय है?

चुनी गई दस पुस्तकों के आधार पर मैं कह सकती हूं कि यह बहुत अच्छा है. अगर किसी ने मुझसे पूछा कि क्या मैं इनमें से किसी पर फिल्म बनाना चाहूंगी तो मैं यही कहूंगी कि इन सभी पर फिल्म बनाना चाहूंगी.

फिल्मों के माध्यम से आप क्या संदेश देना चाहती हैं?

जिज्ञासा कहानी में सबसे अच्छी बात होती है. कोई चीज कौतूहल पैदा करे तो वह मुझे प्रभावित करती है. फिर मैं उस पर फिल्म सोचने लगती हूं.

क्या आप मानती हैं कि हर कहानी का कोई संदेश होना चाहिए?

मैं कोई किताब पढऩे के बाद यह नहीं कहती हूं कि इसका संदेश बहुत अच्छा है. मुझे तो उसकी भाषा, उसकी कल्पना और कहानी ही प्रभावित करती है. संदेश मुझे बहुत ऊबाऊ लगते हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay