एडवांस्ड सर्च

किताब समीक्षाः समाजवादी सपनों की जिद

आनंद कुमार शिक्षक होने के अलावा एक सक्रिय समाजवादी कार्यकर्ता भी रहे हैं. समय-समय पर वे देश के राजनैतिक, सामाजिक और आर्थिक हालात पर मीडिया में टिप्पणियां भी करते रहे हैं.

Advertisement
विमल कुमार 20 July 2018
किताब समीक्षाः समाजवादी सपनों की जिद समाजवाद की विरासत और राजनीति के सवाल, जनांदोलन और स्वराज की अर्थनीति

समाजवाद की विरासत और राजनीति के सवाल; जनांदोलन और स्वराज की अर्थनीति; शिक्षा स्वराज; आजादी, लोकतंत्र और पड़ोसी मुल्क के लेखक आनंद कुमार हैं, इन किताबों का संपादन प्रदीप कुमार सिंह और राम प्रकाश द्विवेदी हैं. इन किताबोें का प्रकाशकः अनामिका पब्लिशर्स ऐंड डिस्ट्रीब्यूटर्स, दरियागंज, नई दिल्ली से हुआ है.

प्रसिद्ध समाजशास्त्री आनंद कुमार अकादमिक जगत के उन गिने-चुने बुद्धिजीवियों में से हैं जो हिंदी में अपनी बात कहना अधिक पसंद करते हैं और इस तरह वे आम पाठकों से भी जुडऩे की कोशिश करते हैं.

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की अंग्रेजी परस्त दुनिया में वर्षों तक शिक्षक रहने के बावजूद उनके लेखन में एक देसीपन दिखाई देता है. इसका एक कारण यह रहा होगा कि उन्हें आचार्य नरेंद्रदेव जैसे प्रखर समाजवादी की विरासत भी पारिवारिक संपर्कों से मिली है.

आनंद कुमार शिक्षक होने के अलावा एक सक्रिय समाजवादी कार्यकर्ता भी रहे हैं. समय-समय पर वे देश के राजनैतिक, सामाजिक और आर्थिक हालात पर मीडिया में टिप्पणियां भी करते रहे हैं.

हाल ही में उनके यत्र-तत्र छपे लेखों के संग्रह के रूप में उनकी चार किताबें आई हैं. इनमें समाजवाद की विरासत और राजनीति के सवाल, जनांदोलन और स्वराज की अर्थनीति, शिक्षा स्वराज तथा आजादी के अलावा लोकतंत्र और पड़ोसी मुल्क शामिल हैं.

इन चारों किताबों में उनके कुल 115 लेख हैं, जिनमें समाजवादी सपनों को साकार करने तथा लोकतंत्र को बचाने की जिद दिखाई देती है. पहली किताब समाजवाद की विरासत और राजनीति के सवाल में चालीस से ज्यादा लेख हैं.

इनमें लोकतांत्रिक और राजनैतिक मूल्यों के लगातार क्षरण पर गहरी चिंता जताई गई है और वैकल्पिक राजनीति पर जोर दिया गया है. आनंद कुमार जड़ राजनीति के पक्ष में नहीं हैं. वे इसमें एक तरह का बदलाव देखना चाहते हैं.

उनका लेखन गैर-कांग्रेस गैर-भाजपा विकल्प की वकालत करता है, जो समाजवादी मूल्यों पर आधारित हो पर वे समाजवादी दलों के बने-बनाए ढांचे से भी अधिक उम्मीद नहीं करते हैं.

यही कारण है कि वे अण्णा हजारे आंदोलन से जुड़कर आम आदमी पार्टी में शामिल होते हैं पर उससे भी उनका मोहभंग हो जाता है.

आनंद कुमार ने इस पुस्तक से राजनीति के जातिकार्ड, वोटबैंक की राजनीति, विचारधारा को लेकर कथनी और करनी में अंतर पर भी तीखा प्रहार किया है. वे समाज के वंचित वर्ग के राजनैतिक सशक्तीकरण के पक्ष में हैं.

उन्होंने प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के समय किसी आदिवासी को देश के सर्वोच्च पद पर बिठाने की वकालत की. इससे पता चलता कि आनंद कुमार एक न्यायपूर्ण व्यवस्था के पक्ष में हैं और चाहते हैं कि इस लोकतंत्र में हर वर्ग को प्रतिनिधित्व मिले.

उन्होंने इस किताब की भूमिका में लिखा है, "वैसे भी भोगवादी वैश्वीकरण, लंगोटिया पूंजीवाद (क्रोनी कैपिटलिज्म), नवदौलतिया मध्य वर्ग, दबंग जातियों और सांप्रदायिकता के साझे दबाव में भारत में प्रजातंत्र की राजनीति का सिद्धांतविहीन और अस्वस्थ हो जाना, इस दौर का सबसे बड़ा संकट है.''

आनंद कुमार ने अपनी दूसरी किताब जनांदोलन और स्वराज की अर्थनीति में 30 से ज्यादा लेखों के माध्यम से जनांदोलनों की भी कड़ी समीक्षा की है और अन्ना के आंदोलन की भी गहरी पड़ताल की है.

उन्होंने साफ-साफ लिखा है कि "अन्ना गांधी कहकर न उलझाएं.'' इस किताब में उन्होंने व्यक्ति केंद्रित राजनीति का भी विरोध किया है और आम आदमी की आर्थिकी पर भी सवाल उठाए हैं और उसे "मार्गदर्शक'' नहीं माना है.

तीसरी किताब शिक्षा स्वराज में बीसेक लेखों के माध्यम से स्कूली शिक्षा, उच्च शिक्षा, छात्र राजनीति, शिक्षा में भ्रष्टाचार, निजीकरण के खतरों और वर्तमान चुनौतियों की चर्चा की है तथा नौकरशाहों की भूमिका की भी आलोचना की है.

उन्होंने जेएनयू को आतंकियों का अड्डा कहे जाने पर विरोध किया है पर वामपंथियों के वर्चस्व पर भी सवाल उठाए हैं. चौथी किताब में डेढ़ दर्जन लेख आजादी और लोकतंत्र को बचाने, चीन और पाकिस्तान जैसे पड़ोंसी देशों से भारत के रिश्तों और तिब्बत के सवाल से भी जुड़े हैं.

आनंद कुमार के सभी लेखों में एक गहरी चिंता जरूर दिखाई देती है और सत्ता की राजनीति का विरोध नजर आता है. दूसरी ओर एक समावेशी समाज बनने का स्वप्न भी दिखाई देता है. कुल 500 से ज्यादा पन्नों की इन किताबों की साझा कीमत 600 रु. है.

इस किताबों के ज्यादातर लेख सम-सामयिक विषयों को ध्यान में रखकर लिखे गए हैं पर उनमें वैसी तात्कालिकता नहीं है जो अक्सर अखबारी लेखन में दिखाई देती है. हां, कुछेक लेख जरूर सतही किस्म के हैं और उनमें पर्याप्त विश्लेषण नहीं है.

यह अखबारी लेखन की सीमा हो सकती है. लेकिन ये चारों किताबें युवा पीढ़ी के लिए जरूरी हैं ताकि वह बदलते भारत की तस्वीर से रू-ब-रू हो सके.

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay