एडवांस्ड सर्च

पुस्तक समीक्षाः भविष्य की झांकी

मिसाल के तौर पर वे कहते हैं कि हर सोच हमारे दिमाग में चल रही रासायनिक प्रतिक्रिया है, जिसे दिमाग के स्कैन में ऐसा होते देखा जा सकता है. हालांकि हरारी ने इसे महत्वपूर्ण आधार बनाया है लेकिन दिमाग के बारे में अभी बहुत जानकारी नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
मोहम्मद वक़ास नई दिल्ली, 05 September 2019
पुस्तक समीक्षाः भविष्य की झांकी होमो डेयसः आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास

उपलब्धि पर इनसान की सबसे सामान्य प्रतिक्रिया संतोष नहीं, बल्कि और ज्यादा की चाहत होती है; या, हम शांतिपूर्ण या समृद्ध जीवन जीकर संतुष्ट नहीं होते. इसके बजाए जब हकीकत हमारी आकांक्षाओं के अनुरूप होती है तभी हम संतुष्ट होते हैं. लेकिन बुरी खबर यह है कि हालात सुधरने के साथ ही हमारी आकांक्षाएं बढ़ जाती हैं; या, फिर असली खुशी हा‌सिल करने के लिए अपने सुखद एहसास की कोशिश कम कर देनी चाहिए, उसे बढ़ाना नहीं चाहिए.''

युवाल नोआ हरारी ने संतुष्टि, आकांक्षा और खुशी की कोशिश में दुनिया में हो रहे निरंतर बदलावों के मद्देनजर होमो डेयस: आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास रच डाला. इसमें वे इतिहास की घटनाओं और मौजूदा दौर में विभिन्न क्षेत्रों में हो रहे बदलाव के आधार पर ऐसी दुनिया की कल्पना—कपोल नहीं—करते हैं जो धीरे-धीरे हमारे सामने उभर रही है.

इससे पहले उन्होंने सेपियन्स: मानवजाति का संक्षिप्त इतिहास में पृथ्वी पर इनसानी जीवन को महज एक संयोग बताया, और जिन वजहों से उसकी तरक्की हुई उन्हीं वजहों से उसके खत्म होने का अंदेशा जताया है. उनकी तीसरी किताब 21 लेसंस फॉर 21 सेंचुरी पिछले साल अंग्रेजी में आ गई. (इसका एक अध्याय आप इस साल की इंडिया टुडे साहित्य वार्षिकी में पढ़ सकते हैं.)

बहरहाल, येरूशलम की हिब्रू यूनिवर्सिटी में विश्व ‌इतिहास के प्रोफेसर हरारी होमो डेयस में बताते हैं कि तीन वजहों से सबसे ज्यादा लोग मरते थे: अकाल, महामारी और जंग. अब इन तीनों की वजह से होने वाली मौत काफी कम हो गई है; वे ढेरों मिसालों के जरिए इसे स्पष्ट करते हैं. इनके पीछे कोई दैवीय शक्ति नहीं बल्कि इनसानी चूक दिखती है. फिर बताते हैं कि मौत तो तकनीकी समस्या है और सिद्धांतत: इससे पार पाया जा सकता है. जीवन का अधिकार मौलिक अधिकार है और मौत इसका हनन करती है.

कोई व्यक्ति महज दिल का दौरा पडऩे या किसी दुर्घटना में नहीं मरता बल्कि धमनियों के संकुचित होने से दिल का दौरा पड़ता है या किसी की गलती से दुर्घटना होती है. इसी तरह सुख तलाशने का भी अधिकार होता है. इन अधिकारों की रक्षा के लिए वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं में युक्तियां लगा रहे हैं और इसी का नतीजा है कि इनसान की औसत आयु निरंतर बढ़ती जा रही है. वे दलील देते हैं कि इनसान खुद में सुधार करके होमो डेयस या 'मानव देवता' या 'अतिमानव' बनने की कोशिश करेगा.

वे बताते हैं कि ऐसा तीन तरह से होगा: पहला, बायोलॉजिकल इंजीनियरिंग के तहत शरीर के पुराने और विकृत अंगों को बदल दिया जाएगा या फिर उन्हें जल्दी खराब नहीं होने दिया जाएगा. दूसरा, साइबोर्ग इंजीनियरिंग के तहत शरीर में गैर-जैविक हिस्से जोड़ दिए जाएंगे. तीसरा, गैर-जैविक चीजों की इंजीनियरिंग के तहत इनसानों जैसी सोच वाले आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को प्रोत्साहन. इन सबका मकसद इनसान को हमेशा के लिए ‌जिंदा रखना है और गुगल की कंपनी कैलिको इस दिशा में काम कर रही है.

वैसे, हरारी यह स्पष्ट कर देते हैं कि विज्ञान और टेक्नोलॉजी में तरक्की के बावजूद अभी इनसान की प्राकृतिक उम्र करीब 90 साल है. लिहाजा, कैलिको निकट भविष्य में गुगल के मालिकान को हमेशा के लिए जीवित रखने में कामयाब न हो, उनकी अगली पीढ़ी कुछ उम्मीद कर सकती है!

हरारी की दलील है कि इनसान और उनकी सोच अंतत: रासायनिक प्रक्रियाओं और एल्गोरिद्म में बदल जाएंगे. इन एल्गोरिद्म को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में तब्दील किया जा सकता है. मिसाल के तौर पर वे कहते हैं कि हर सोच हमारे दिमाग में चल रही रासायनिक प्रतिक्रिया है, जिसे दिमाग के स्कैन में ऐसा होते देखा जा सकता है. हालांकि हरारी ने इसे महत्वपूर्ण आधार बनाया है लेकिन दिमाग के बारे में अभी बहुत जानकारी नहीं है.

बायोलॉजिकल इंजीनियरिंग के कमाल दिख रहे हैं. इसके जरिए अमीर लोग महंगी से महंगी दवाओं या प्रक्रियाओं का इस्तेमाल करके दूसरे लोगों से अलग हो जाएंगे, एक तरह का एलीट वर्ग तैयार हो जाएगा.  

एक दुखद पेशनगोई: आने वाले समय में एक वर्ग किसी काम का नहीं होगा. उसे न सिखाया जा सकता है और न ही कहीं रोजगार में लगाया जा सकता है. वह यकीनन भयावह स्थिति होगी. एआइ इनसानों की जगह लेंगे. इसी की वजह से आर्थिक रूप से बेकार लोगों का वर्ग तैयार होगा. वाहन उद्योग का ऑटोमेशन इसका जीता-जागता उदाहरण है.

इसी तरह, डेटा युग में बुद्धि और चेतना अलग हो गए हैं. और हम ऐसी मशीनें बना रहे हैं जो हमसे जल्दी और बेहतर ढंग से सोच रही हैं और उसका परिणाम सामने ला रही हैं. इससे चेतना की जरूरत कम होती जा रही है. हमारी आदतों को डेटा के रूप में सिलिकॉन वैली में जुटाया जा रहा है और बहुत मुश्किल समझे जाने वाले मसलों का हल चुटकियों में पेश किया जा रहा है.

किताब में अनगिनत घटनाओं के मद्देनजर ये निष्कर्ष निकाले गए हैं. पाठक इनमें से कुछ से सहमत भले न हों पर हरारी की दलील को नजरअंदाज नहीं कर सकते. अनुवाद अच्छा है पर रीलिजन के लिए बार-बार मज़हब और एक जगह 'शायद एक धर्म के अनुयायी सही हैं' (पेज-196) में 'धर्म' का प्रयोग संभवत: हरारी ने भी नहीं सोचा होगा!

यह किताब उन सब लोगों के लिए पठनीय है, जिनका कोई भविष्य है! इससे उन्हें खुद को वक्त के साथ बदलने और बेहतर दुनिया में योगदान करने की सलाहियत मिल सकती है.

होमो डेयसः आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास

लेखकः युवाल नोआ हरारी

प्रकाशकः मंजुल पब्लिशिंग हाउस

कीमतः 450 रु.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay