एडवांस्ड सर्च

फुरसत-यथार्थ और उससे परे

ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता अमिताभ घोष का नया उपन्यास तर्क और ज्ञान में इंसान के आत्मविश्वास की पड़ताल करता है

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी नई दिल्ली, 26 June 2019
फुरसत-यथार्थ और उससे परे बंदीप सिंह

अमिताभ घोष ने 2016 की अपनी किताब द ग्रेट डिरेंजमेंट को लेकर नाखुशी जाहिर की थी और कहा था कि साहित्यिक उपन्यासकार जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने में नाकाम रहे हैं. अब उन्होंने अपनी बात को साकार करते हुए वह उपन्यास खुद लिखा है. गन आइलैंड बेहद कामयाब, धमाकेदार, विहंगम और नितांत सामयिक उपन्यास है जिसमें एंथ्रोपोसीन के प्रस्तावित नाम वाले उस युग की हिंसक उथल-पुथल बयान की गई है जिसमें इनसान ने पृथ्वी पर प्रलंयकारी असर डाला है.

पर इसे सिर्फ पर्यावरण की चिंता से प्रेरित उपन्यास के तौर पर पढऩा इसकी अहमियत कम करना होगा. इसमें घोष इनसानी अनिश्चितता के बारे में, विवेक, तर्कशक्ति, अनुभववाद और उस सबमें, जो हम सोचते हैं कि हम जानते हैं, हमारे भरोसे के बारे में सवाल उठा रहे हैं.

दीनानाथ दत्ता उपन्यास का 'विवेकवान पुरुष' है. एक अधेड़ पुस्तक विक्रेता. वह ब्रूकलिन और कलकत्ता के बीच खामोश जिंदगी बसर कर रहा है. बहुत पुरानी गर्लफ्रेंड का भूत उसके पीछे पड़ा है जिसकी वह वजह नहीं समझ पाता. रोमांस की तलाश में वह खुद को कलकत्ता में पाता है, जहां अमेरिका की अपनी संत सरीखी जिंदगी के बिल्कुल उलट वह खुद को तमाम सामाजिक स्थितियों में झोंक देता है. एक पार्टी में उसकी मुलाकात 'चिकने-चुपड़े बातूनी, खोखले, वक्त से पहले बूढ़े और सब-पता-है'' रिश्तेदार (जिसे पाठक घोष के सुंदरबन पर केंद्रित उपन्यास द हंग्री टाइड से जानते हैं) से होती है और वह उसे बंदूकों के सौदागर से मिलवाता है.

दीनानाथ (ब्रूकलिन में दीन) ने अपनी डॉक्टरेट की थीसिस बंगाली लोककथाओं के नायक चांद सदागर पर लिखी थी, जो एक व्यापारी है और 'सांपों तथा तमाम दूसरे जहरीले जंतुओं पर हुकूमत करने वाली मनसा देवी की प्रताडऩा से बचने' की कोशिश करता है पर बच नहीं पाता. दीनानाथ को बंदूकों का सौदागर कुछ अलहदा जान पड़ता है और इतना रहस्यमयी भी कि वह दूसरी जगहों के अलावा सुंदरबन, वेनिस और लॉस एंजिलिस में नामुमकिन की खाक छान छानने के लिए अपनी जिंदगी खलास कर लेता है. ऐसा करते हुए वह तर्क और विवेक पर अपनी पूरी पकड़ तकरीबन खो बैठता है.

वह अपनी दोस्त और मशहूर प्रोफेसर जिआसिंता शिआवोन से कहता है, ''यह अजीब महसूसियत है, लगता है मानो मैं आपे में नहीं रहा...मानो मैं मिटता जा  रहा हूं, अपनी इच्छाशक्ति गंवा रहा हूं और आजादी भी.'' वेनिस की रहने वाली और फिजूलखर्च शिआवोन प्रमुख किरदार है. एक तरफ उसकी शान है तो दूसरी तरफ उसकी जिंदगी पर उसके शौहर और बेटी की मौत की अशुभ छाया. वही दीनानाथ को उसकी 'विवेकवान' बातों के लिए ललकारती है. वह उपन्यास की शुरुआत में ही उसे बता देता है कि ''मुझे अपने विवेकवान, धर्मनिरपेक्ष, वैज्ञानिक विचारों वाले शख्स होने पर नाज है. अगर यह हिंदुस्तानियों की दकियानूसी बातों के मुआफिक नहीं पड़ता तो मुझे अफसोस है, मैं अंधविश्वास से भरी उस तमाम बकवास से कभी राजी नहीं होऊंगा.''

दिल्ली के लक्जरी होटल के एक बिजनेस सेंटर के छोटे-से कॉन्फ्रेंस रूम में घोष से मिलने पर यह मान पाना मुश्किल हो जाता है कि यह दयालु, बकरदाढ़ी वाला, यहां तक कि लिपट जाने वाला यह शख्स वही है जो गन आइलैंड की किस्सागोई का जादूगर है. इतने ठस और नीरस माहौल में भी इंडिया टुडे ग्रुप के फोटो एडिटर बंदीप सिंह उनकी अनोखी, बेचैन करने वाली तस्वीर निकाल लाते हैं. यह उस तस्वीर की तरह थी जो घोष ने अपने फोन पर मुझे दिखाई थी और जो वेनिस का हवाई नजारा था जिसे सुंदरबन से अलग कर पाना मुश्किल था. फ्रायड ने इसे उन्हेंक्विलच कहा था, यानी जाना-पहचाना ही अजनबी लगने लगता है.

हम बड़े शहरों—लॉस एंजिलिस, वेनिस आदि को इंसानी कामयाबी का, आदमी की निर्माण क्षमता का शिखर मानते हैं. घोष हमें उनकी विलक्षण, अलौकिक खूबियों की, उनकी कमजोरियों की याद दिलाते हैं. और इस तरह दीनानाथ का जंगल की आग से घिरे लॉस एंजिलिस जैसे नारकीय दृश्य में आगमन होता है. वेनिस में वह ज्यादा गर्म माहौल से आए आगंतुक की तरह एक जहरीली मकड़ी से टकरा जाता है. गन आइलैंड में तकरीबन 100 पन्नों के बाद दीनानाथ एक हवाई जहाज में चढ़ता है, जो एक ''इनसान की बनाई हुई कोख है, जहां हर चीज मुझे उस कीचड़ की दुनिया और उसके रेंगते, घिसटते बाशिंदों से बचाने के लिए परोसी गई थी.''

तब कहीं जाकर उसे समझ में आता है कि यह उसका एक और भुलावा है. खुद अपने भीतर ही गायब हो जाने के जोखिम से गुजर रहा यह आदमी दीनानाथ बाहर की दुनिया से टकराने के लिए मजबूर कर दिया जाता है. उसे सांपों, सुंदरबन की तात्विक मिट्टी, लोकसाहित्य की अलौकिक खूबियों और वर्तमान की पारिस्थितिकीय तथा मानवीय आपदाओं के बीच संबंध तलाशने ही होंगे, जहां प्रवासियों को इतनी बड़ी तादाद में और ऐसे हालात में अपने घर छोडऩे के लिए मजबूर कर दिया गया है कि घर का विचार ही पुराना और बेकार हो गया है. गन आइलैंड हमेशा बहुत यकीनी नहीं है, मगर यह हमें सवाल पूछने पर मजबूर कर देता है कि वह क्या है जिसे हम यकीनी मानते हैं. और क्यों.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay