एडवांस्ड सर्च

पिच के पहलवान

टेनिस और बैडमिंटन की महिला खिलाडिय़ों ने भारत के बेहतरीन खिलाडिय़ों की सूची में शीर्ष पांच में जगह बनाई लेकिन देश में क्रिकेट के प्रति दीवानगी अब भी सिर चढ़कर बोल रही.

Advertisement
सुहानी ‌सिंहनई दिल्ली, 31 January 2019
पिच के पहलवान विराट कोहली

ऑस्ट्रेलिया को हाल ही अपनी पिचों पर संपन्न टेस्ट सीरीज में चेतेश्वर पुजारा का विकेट लेने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी और भारत ने पहली बार सीरीज जीतकर इतिहास रचा. वह टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में हराने वाली भारतीय उपमहाद्वीप की पहली टीम बन गई. पर इससे भी ज्यादा मुश्किल है विराट कोहली को इंडिया टुडे के 'देश का मिजाज' सर्वे में पहले पायदान से धकेलना. भारतीय कप्तान सीरीज में न केवल दूसरे सबसे सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहे बल्कि नेतृत्व कौशल और निरंतर बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत टेस्ट और एकदिवसीय मैचों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल की सबसे ऊंची रैंक वाला यह बल्लेबाज भारत का सबसे पसंदीदा खिलाड़ी बना हुआ है.

पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ट्वेंटी20 और वनडे मैचों में खेलने के लिए टेस्ट मैचों से रिटायर होने के बावजूद अपने स्थान से नीचे नहीं आए हैं. ऑस्ट्रेलिया में मैच जिताने वाली दो बेहतरीन पारियां खेलकर वनडे सीरीज में जीत दिलाने के साथ धोनी ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करने में वे अब भी एक भरोसेमंद खिलाड़ी हैं. उन्होंने 2011 के बाद से पहली बार मैन ऑफ द सीरीज अवार्ड जीता है.

37 वर्षीय धोनी ने अपने प्रदर्शन से दिखा दिया है कि वे फिलहाल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास नहीं लेने जा रहे, खासकर जब उनके संभावित उत्तराधिकारी ऋषभ पंत (21 वर्ष) ने गावस्कर-बॉर्डर सीरीज में शानदार 350 बनाए हों और 20 कैच लेने का कीर्तिमान हासिल किया हो. कोहली की गैर-मौजूदगी में कप्तानी संभालने वाले रोहित शर्मा, जो आइसीसी की वनडे रैंकिंग में दूसरे नंबर पर हैं, का स्थान धोनी के ठीक नीचे आता है. सूची में भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमरा की मौजूदगी दिखाती है कि देश में गेंदबाजों की अनदेखी नहीं की जाती है.

क्रिकेट के दबदबे को नकारते हुए तीन महिला खिलाडिय़ों ने अपनी जगह बनाई हैः सानिया मिर्जा, जो बच्चे को जन्म देने के बाद कुछ समय के लिए टेनिस से दूर हैं, के साथ ही बैडमिंटन खिलाड़ी पी.वी. सिंधु का भी नाम है जो इस समय सबसे ज्यादा महंगी महिला खिलाड़ी हैं और टोक्यो में 2020 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में पदक की तगड़ी दावेदार हैं. तीसरा नाम साइना नेहवाल का है जो बेहतर नतीजों के लिए एक बार फिर अपने पुराने कोच पुलेला गोपीचंद के पास लौट आई हैं.

सर्वे में महिलाएं भले ही चोटी पर न हों लेकिन उनकी उपलब्धियां कम नहीं हैं क्योंकि सर्वे के उत्तरदाताओं ने विभिन्न खेलों की खिलाडिय़ों को पहचानने में कोई गलती नहीं की, जैसे कि मुक्केबाजी (मैरी कॉम) और क्रिकेट (मिताली राज और हरमनप्रीत कौर). हालांकि क्रिकेट के पुरुष खिलाड़ी अब भी देश के लोगों में सबसे लोकप्रिय हैं. और अगर वे इसी तरह जीतते रहे, खासकर विदेशी धरती पर तो उनकी यह लोकप्रियता आगे भी कायम रहेगी.

***

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay