एडवांस्ड सर्च

Advertisement

एशियाई खेलों में हिंदुस्तानियों ने बढ़ाया रुतबा

18वें एशियाई खेलों की हलचल के बाद एक बात तो तय है कि हिंदुस्तानियों के खेलों के शब्दकोश में खासा इजाफा हुआ है.
एशियाई खेलों में हिंदुस्तानियों ने बढ़ाया रुतबा फ्रेड ली/गेट्टी इमेजेज
इंडिया टुडेजकार्ता, 12 September 2018

दो हफ्तों तक चली 18वें एशियाई खेलों की हलचल के बाद एक बात तो तय है कि हिंदुस्तानियों के खेलों के शब्दकोश में खासा इजाफा हुआ है. अब वे कुराश, सेपक टकरा, वुशु, सांबो और पेंचक सिलाट सरीखे लफ्ज जान गए हैं. ये उन खेलों के नाम हैं जिनमें हिंदुस्तानी खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया.

भारत ने इन खेलों में अपना अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन किया और नए खेल सितारों की खोज की, तो इसके पीछे इन नए खेलों की भी भूमिका थी. किशोर निशानेबाज मनु भाकड़ और अनीश भानवाला अगर कॉमनवेल्थ खेलों की कामयाबी को नहीं दोहरा पाए, तो 15 वर्षीय शार्दुल विहान और 19 वर्षीय लक्ष्य शेरॉन की शक्ल में नए सितारे उभरकर सामने आए.

यह इस बात का सबूत था कि 2020 के तोक्यो ओलंपिक में भारत निशानेबाजी से अच्छे पदकों की आस कर सकता है.

हॉकी, कबड्डी, कुश्ती और बैडमिंटन को लेकर जितना भी हो-हल्ला रहा हो, भारत के लिए सबसे यादगार लम्हे ट्रैक ऐंड फील्ड स्पर्धाएं ही लेकर आईं.

धाविका दुती चंद का 100 मीटर की दौड़ में आखिरी लम्हों में बेहद मामूली अंतर से गोल्ड से चूक जाना हो या भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा के दौडऩे और फिर नाटकीय ढंग से लाइन के नजदीक गिर जाने के बावजूद नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड कायम करने तक एथलीटों ने यह पक्का कर दिया कि हिंदुस्तान पदक तालिका में शीर्ष 10 देशों में शुमार हो.

मुक्केबाज और तीरअंदाज उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए, पर एशियाई खेलों में मुकाबले कॉमनवेल्थ खेलों से कहीं ज्यादा मुश्किल होते हैं और पैमाने तथा प्रतिस्पर्धा में इनसे ऊपर केवल ओलंपिक खेल ही हैं. यहां पेश हैं भारत के एशियाई खेल अभियान के कई उतार और चढ़ाव, कई आशाएं और निराशाएं.

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay