एडवांस्ड सर्च

Advertisement

उम्मीद और दुआ के भरोसे

भारतीय फुटबॉल प्रेमियों के लिए शुक्रवार 6 अक्तूबर का दिन बहुत महत्वपूर्ण अवसर होने जा रहा है.
उम्मीद और दुआ के भरोसे दिब्यांग्शु सरकार/गेट्टी इमेजेज
सौगत दासगुप्तनई दिल्ली, 16 October 2017

भारतीय फुटबॉल प्रेमियों के लिए शुक्रवार 6 अक्तूबर का दिन बहुत महत्वपूर्ण अवसर होने जा रहा है. इस दिन भारत की राष्ट्रीय टीम फीफा अंडर-17 विश्व कप में पहली बार हिस्सा लेने जा रही है. दो साल में एक बार होने वाले इस टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहे भारत ने स्वतः ही क्वालिफाइ कर लिया है. हमारे युवा खिलाड़ी अगर अपने ग्रुप में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उन्हें फुटबॉल की ताकतवर टीमों—ब्राजील, जर्मनी, इंग्लैंड, फ्रांस और स्पेन—के साथ खेलने का मौका मिल सकता है. लेकिन भारत के नौसिखुआ खिलाडिय़ों का एलिमिनेशन राउंड तक पहुंचना लगभग असंभव है.

भारतीय टीम के पुर्तगाली कोच लुइस नॉर्टन डि माटोस मानते हैं कि भारतीय टीम इस टूर्नामेंट में एक भी मैच जीतने की स्थिति में नहीं है. वे कहते हैं, ''मुझे इस टीम पर पूरा भरोसा है. लेकिन मैं यथार्थवादी भी हूं." डि माटोस—जो दस बार बेल्जियम की चैंपियन रही स्टैंडर्ड लीग समेत कई टीमों में खेल चुके हैं—पांच बार पुर्तगाल की ओर से खेल चुके हैं और उनका कोचिंग करियर उन्हें गिनी बिसाऊ तक ले जा चुका है. वे कहते हैं कि भारत के पास प्रतिभा है लेकिन अनुभव की कमी है. इस टीम के खिलाडिय़ों को कम उम्र में ही 2013 में गोवा में शुरू की गई ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (एआइएफएफ) इलीट एकेडमी में ट्रेनिंग दी गई है. वे अलग-अलग टीमों के खिलाफ खेलते हुए दुनिया का चक्कर लगाकर वल्र्ड कप के लिए तैयारी कर चुके हैं.

प्रतियोगिता में टीम काफी संघर्ष कर चुकी है. अगस्त महीने में उसने मेक्सिको में चार देशों के एक टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था, जिसमें विश्व कप की तैयारी करने वाले मेजबान मेक्सिको के अलावा कोलंबिया, चिली और भारत की टीमें शामिल थीं. उस टूर्नामेंट में मेक्सिको और कोलंबिया से बुरी तरह पिटने के बाद चिली के खिलाफ 1-1 की बराबरी करके भारत की युवा टीम ने अपना दमखम दिखाया और लोगों की तारीफ हासिल की. यह शायद उसका अब तक का सबसे अच्छा नतीजा था. इससे पहले मई में ''इटली" पर 2-0 की जीत ने सनसनी पैदा कर दी थी, लेकिन बाद में पता चला कि वह इटली के निचले स्तर के क्लबों में खेलने वाले खिलाडिय़ों की टीम थी, न कि अंडर-17 की राष्ट्रीय टीम जो किन्हीं कारणों से वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाइ नहीं कर पाई.

ग्रुप बनाने के लिए वल्र्ड कप का ड्रॉ भी भारत पर मेहरबान नहीं रहा है. उसके ग्रुप में अमेरिका, कोलंबिया और घाना की टीमें हैं. मेक्सिको के टूर्नामेंट में कोलंबिया ने भारत को 3-0 से हरा दिया था. घाना इस स्तर पर दो बार वर्ल्ड कप जीत चुका है, दोनों बार 1990 के दशक में. केवल ब्राजील और नाइजीरिया ही उससे ज्यादा बार यह टूर्नामेंट जीत चुके हैं. इस बीच अमेरिका दो बार विश्व चैंपियन रहे मेक्सिको से अपने महाद्वीप की प्रतियोगिता के फाइनल में हार चुका है. इसीलिए डि माटोस मानते हैं कि अपने ग्रुप में भारत अगर एक भी मैच जीतता है तो वह चमत्कार ही होगा.

डि माटोस ने टीम को कोचिंग देने का जिम्मा मार्च में लिया था. उससे पहले जर्मनी के निकोलाई एडम 2015 से टीम को कोचिंग दे रहे थे. लेकिन इस साल जनवरी में रूस के शर्मनाक दौरे पर खिलाडिय़ों ने जब उनके ऊपर मानसिक और शारीरिक उत्पीडऩ का आरोप लगाया तो उन्हें अपने पद से हटना पड़ा. इस दौरे में भारत एक मैच में मेजबान रूस से 8-0 से हार गया था और अन्य मैचों में भी उसे शर्मनाक हार झेलनी पड़ी थी.

एआइएफएफ के अधिकारी और भारत के पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी अभिषेक यादव ने बताया कि डि माटोस ने उनसे नए खिलाडिय़ों की खोज करने के लिए कहा. 2011 में अपना करियर खत्म करने वाले लंबे कद के यादव कहते हैं कि वे वर्ल्ड कप के लिए देश भर के विभिन्न कैंपों में 10,000 से ज्यादा युवा खिलाडिय़ों को देख चुके हैं. कुछ भी हो लेकिन फुटबॉल के प्रेमियों के लिए भारत के युवा खिलाडिय़ों को वर्ल्ड कप में खेलते हुए देखने का यह अभूतपूर्व मौका होगा. भारत के फुटबॉल के भविष्य के लिए यह टूर्नामेंट पहला कदम है और एआइएफएफ को यह सुनिश्चित करना होगा कि वह छह शहरों में होने वाले इस टूर्नामेंट को देखने के लिए बड़ी संख्या में दर्शक जुटाए. युवा खिलाडिय़ों के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने का बेहतरीन अवसर है. भारत के लिए सबसे अच्छा नतीजा यह नहीं होगा कि वह किसी मैच में बराबरी कर सके बल्कि विदेशी टीमों को अपने खेल से इतना प्रभावित कर सके कि वे उसे अपने यहां आने का न्यौता दें जहां ट्रेनिंग और सुविधाएं, दोनों मिल सकें.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay