एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सुशील कुमार: फुर्ती और शक्ति ही मेरी असली ताकत

''फुर्ती और शक्ति, ही मेरी असली ताकत हैं. अब मैं फिटनेस के अपने चरमबिंदु पर पहुंच चुका हूं इसलिए ओलंपिक खेलों में मेडल जीतने की मेरी काफी बेहतर संभावनाएं हैं.''
सुशील कुमार: फुर्ती और शक्ति ही मेरी असली ताकत सुशील कुमार
आजतक वेब टीमनई दिल्‍ली, 10 August 2012

सुशील कुमार, 29 वर्ष
कुश्ती, पुरुषों की 66 किलो फ्रीस्टाइल
बपरौला, हरियाणा
खेल की शैली उन्होंने अपने शरीर को हल्का-सा झुकाया और अपने प्रतिद्वंद्वी की आंखों में आंखें डाल दीं, जैसे यह जानने की कोशिश कर रहे हों कि आखिर उसके  दिमाग में चल क्या रहा है. रिंग में घूमते-घूमते जैसे ही वे अपने प्रतिद्वंद्वी से भिड़ते हैं, दोनों ही एक-दूसरे के चूक का इंतजार करते हैं. सुशील बिजली की तरह दांव चलते हैं और अपने प्रतिद्वंद्वी को धूल चटा देते हैं. उनकी यह असीमित ऊर्जा जबरदस्त शक्ति और दिमागी खेल का बेजोड़ संगम है.

उनकी कहानी राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित सुशील करियर के शुरू में अपने लिए एक जोड़ी ट्रेनिंग शूज तक नहीं खरीद सकते थे, उन्होंने 2008 में बीजिंग ओलंपिक खेलों में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर सबको हैरत में डाल दिया था. लेकिन कंधे में चोट के कारण 2012 खेलों के लिए क्वालिफाइ करने की उनकी पहली दो कोशिशें असफल रहीं.

आखिरकार अप्रैल में चीन के ताइयुआन में हुए वर्ल्ड क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में उनकी तीसरी कोशिश रंग लाई और उनका लंदन ड्रीम साकार हो गया. लंदन में खेलों के उद्घाटन समारोह में सुशील भारत के ध्वजवाहक होंगे. इस सम्मान से मेडल पाने के उनके इरादों को पंख लग जाने चाहिए.

खास है आक्रामकता और फुर्ती ही उनकी असली ताकत हैं. कुश्ती में गोल्ड मेडल जीतने की देश की सारी उम्मीदें उन्हीं पर टिकी हैं. ताइयुआन में उनके साथ ब्रॉन्.ज मेडल साझ करने वाले जॉर्जिया के ओतार तुशिशविले को वे क्वालिफाइंग मैच में हरा चुके हैं.

चुनौतियां हैं सुशील को ओलंपिक चैंपियन तुर्की के रमजान साहीन, वर्ल्ड चैंपियन ईरान के मेहदी टागरी और सिल्वर मेडल विजेता जापान के तात्सुहिरो योनेमित्सु से कड़ी टक्कर मिलेगी.

मिशन ओलंपिक अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स के ट्रेनिंग कैंप ने सुशील को यह जानने का अवसर दिया कि वे दूसरे देशों से आए अपने प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले कितने पानी में हैं. वहां उन्होंने खेल के तकनीकी और शारीरिक पहलुओं के बारे में भी बहुत कुछ जाना. वहां से उन्हें अपने धैर्य और फिटनेस लेवल को बढ़ाने का मौका भी बखूबी मिला. इन्हीं कमियों के कारण वे खेलों के लिए पहले क्वालिफाइ करने में सफल नहीं हो सके थे. यानी हमारा पहलवान तैयार है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay