एडवांस्ड सर्च

मध्य प्रदेशः फिर मामा का राज

कमलनाथ के साथ अपने सौहार्धपूर्ण संबंधों का भी वे आनंद लेते रहे और चुनावों के दौरान शिवराज पर व्यापम घोटाले, खनन घोटाले में लिप्त होने के आरोप लगा रही कांग्रेस ने किसी जांच में कोई रुचि नहीं दिखाई.

Advertisement
aajtak.in
राहुल नरोन्हानई दिल्ली, 28 March 2020
मध्य प्रदेशः  फिर मामा का राज लो मैं आ गया राजभवन जाते मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव तो जीत लिया था लेकिन वह भाजपा से चंद सीटें ही आगे थी. विधानसभा में इस मामूली बढ़त के बीच 13 दिसंबर, 2018 को तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य के मुख्यमंत्री पद के दो दावेदारों—कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ अपनी एक तस्वीर ट्वीट की. तस्वीर के साथ उन्होंने लियो टॉलस्टॉय का लोकप्रिय उद्धरण भी लिखा, ''धैर्य और समय, दो सबसे शक्तिशाली योद्धा हैं.'' कमलनाथ और सिंधिया दोनों ने इस सलाह पर कोई ध्यान नहीं दिया. उनकी आपसी खींचतान इतनी तीखी हो गई कि बात तख्तापलट की योजनाओं तक पहुंची और अंतत: 15 महीने बाद मध्य प्रदेश की सत्ता से कांग्रेस की विदाई हो गई.

धैर्य धारण किए रखने का विकल्प किसी ने चुना तो वे शिवराज थे और उन्हें इसका ईनाम भी मिला. 13 साल सरकार चला चुके और तीन बार के मुख्यमंत्री को भाजपा ने 23 मार्च को फिर से राज्य की बागडोर देने के लिए चुना. एक समय ऐसा भी था जब चौहान को एहसास हो गया था कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का वरदहस्त उन्हें हासिल नहीं है तो उन्होंने धैर्य के साथ अपने समय का इंतजार किया. जब वक्त आया तो उन्होंने साबित किया कि वे सभी प्रतिद्वंद्वियों पर बीस पड़ते हैं.

चौहान ने दिल्ली में शीर्ष नेतृत्व का भरोसा कैसे वापस जीता? सत्ता से विदाई के बाद उनके बारे में पार्टी के रुख से शायद ही उनकी वापसी के कोई संकेत मिलते थे. अपनी चुनावी हार के तुरंत बाद दिसंबर, 2018 में चौहान ने जनता के साथ फिर से जुडऩे के लिए राज्यव्यापी दौरे की घोषणा की थी, लेकिन पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें इसे स्थगित करने के लिए कहा. पार्टी ने चौहान के पूर्व कैबिनेट सहयोगी गोपाल भार्गव को विधानसभा में विपक्ष का नेता नियुक्त किया, जिन्हें चौहान खेमे का नहीं माना जाता.

उसी वक्त भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और जबलपुर के सांसद राकेश सिंह (जो चौहान के करीबी नहीं थे) ने खुद को राज्य इकाई में मजबूती से स्थापित करना शुरू कर दिया और कांग्रेस सरकार के खिलाफ पार्टी की रणनीति तैयार की. जनवरी, 2019 में, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के रूप में तैनात कर भाजपा चौहान को राष्ट्रीय राजनीति में लाई. लेकिन उन्हें करीब छह महीने बाद जून में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली-पार्टी की सदस्यता अभियान की अगुआई करने की.

इस बीच, प्रदेश में भाजपा का एक धड़ा कथित तौर पर कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा था. इसमें राज्य के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्र और विश्वास सारंग शामिल बताए जाते थे, जो जल्द ही परेशानियों में घिर गए जब उनके ऊपर विजिलेंस ने केस दर्ज किए. चौहान ने कांग्रेस के साथ सीधे भिडऩे की जगह राज्य के दौरे पर ध्यान केंद्रित किया. इतना ही नहीं, कमलनाथ के साथ अपने सौहार्धपूर्ण संबंधों का भी वे आनंद लेते रहे और चुनावों के दौरान शिवराज पर व्यापम घोटाले, खनन घोटाले में लिप्त होने के आरोप लगा रही कांग्रेस ने किसी जांच में कोई रुचि नहीं दिखाई. चौहान को वह सुरक्षा दी गई जो वे चाहते थे और इस बात के कोई संकेत नहीं दिखे कि सरकार उनसे नाराज थी.

हालांकि, राज्य सरकार पर अस्थिरता का बादल मंडराने लगा था. नरोîाम मिश्र के नेतृत्व में भाजपा नेताओं के एक तबके ने कथित तौर पर कुछ ऐसे कांग्रेस विधायकों के साथ संपर्क किया, जिन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली थी. कांग्रेस ने पलटवार किया और भाजपा के दो विधायकों—नारायण त्रिपाठी और शरद कोल को अपने पाले में ले आई. चौहान ने कहा, ''हम सरकार को गिराने के लिए कुछ नहीं करेंगे, लेकिन अगर यह अपने भार से खुद ही कुचल जाती है, तो फिर जो उचित होगा हम उसी के अनुसार काम करेंगे.''

इस साल जनवरी में अध्यक्ष के रूप में जे.पी. नड्डा की नियुक्ति से चौहान की किस्मत बदल गई क्योंकि उनके साथ चौहान के रिश्ते मधुर रहे हैं. सिंधिया को उनके निष्ठावान विधायकों के साथ कांग्रेस से तोडऩे के लिए शुरू हुए ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभालने के लिए उन्हें चुना गया था. सिंधिया ने राजनैतिक आस्था बदली और अंतत: कमलनाथ के इस्तीफे ने मध्य प्रदेश में भाजपा की सत्ता में वापसी के लिए मंच तैयार किया. हालांकि, चौहान मुख्यमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार तो थे लेकिन एकमात्र दावेदार नहीं थे.

सूत्र बताते हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्य प्रदेश में नए नेतृत्व के पक्ष में थे, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, चौहान को राज्य में भाजपा के सबसे लोकप्रिय चेहरे के रूप में देख रहे थे. नड्डा ने भी चौहान का ही समर्थन किया. पार्टी के कुछ दिग्गजों ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के नाम पर भी विचार करने को कहा लेकिन उन्हें निर्वाचित विधायकों का ज्यादा समर्थन नहीं था. मध्य प्रदेश के लिए मुख्यमंत्री चुनने की कवायद में शामिल भाजपा के एक वरिष्ठ नेता बताते हैं, ''कुछ शीर्ष नेताओं ने चौहान के विकल्प के बारे में सोचा होगा, लेकिन सभी जानते थे कि वास्तव में उनका कोई विकल्प है नहीं. चौहान मौजूदा परिदृश्य में विधायकों को संभालने के लिए सबसे उपयुक्त हैं.'' एक अन्य पार्टी नेता का मानना है कि मुख्यमंत्री के रूप में चौहान का रिपोर्ट कार्ड उनकी बड़ी मदद करता है. वे कहते हैं, ''मुख्यमंत्री के रूप में, उनके पास हर क्षेत्र में बताने के लिए उपलब्धियां हैं.''

एक अन्य बात जो चौहान के पक्ष में गई वह थी सिंधिया के साथ उनके वफादार कांग्रेस के पूर्व विधायकों का भाजपा में आना. हालांकि सिंधिया ने इस पर कुछ नहीं कहा था कि मुख्यमंत्री के रूप में वे किसे देखना चाहते हैं, फिर भी वे चौहान के साथ अधिक सहज थे. यह कुछ हद तक इसलिए भी है क्योंकि सिंधिया की तरह तोमर भी ग्वालियर के हैं. एक अन्य दावेदार मिश्र, ग्वालियर के पास डबरा से हैं. चौहान के विरोधी इस आधार पर तोमर को कमान दिए जाने की बात कह रहे थे कि जिन 24 विधानसभा क्षेत्रों में से उपचुनाव होंगे, वे ग्वालियर और चंबल क्षेत्रों के हैं.

हालांकि, असंतोष की भावना को खारिज नहीं किया जा सकता, पर आधिकारिक तौर पर भाजपा चौहान के पीछे खड़ी है. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी कहते हैं, ''कांग्रेस की सरकार ने राज्य का जो नुक्सान किया है उसकी भरपाई शिवराज सिंह चौहान ही अपने नेतृत्व और अनुभव के बूते कर सकते हैं.''

चौहान के चौथे कार्यकाल की अपनी चुनौतियां होंगी. कोरोनावायरस संकट बढऩे के खतरे के साथ, उनकी प्रशासनिक क्षमताओं की परीक्षा होगी. महामारी रोकने के लिए केंद्र की तरफ से घोषित तीन सप्ताह के लॉकडाउन से आर्थिक तंगी आएगी. स्वास्थ्य, बिजली, महिला एवं बाल विकास और कृषि के क्षेत्र में शुरू की गई चौहान की कई महत्वाकांक्षी कल्याणकारी योजनाओं को कमलनाथ ने धन की कमी का हवाला देकर बंद कर दिया था. उन्हें फिर से शुरू करने के लिए चौहान को संसाधनों का जुगाड़ करना होगा. कांग्रेस सरकार की शुरू की गई कृषि ऋण माफी योजना मौजूदा स्थिति में चौहान के लिए वित्तीय चुनौतियां खड़ी करेगी. कुल मिलाकर उन्हें आर्थिक मोर्चे पर हवा में लटकती रस्सी पर चलने जैसा करतब दिखाना होगा. रस्सी पर वे चल सकेंगे या फिसल जाएंगे, वक्त बताएगा.

एक समय ऐसा भी था जब चौहान को एहसास हो गया था कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का वरदहस्त उन्हें हासिल नहीं है तो उन्होंने धैर्य के साथ अपने समय का इंतजार किया.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay