एडवांस्ड सर्च

डाइट चार्टः अच्छी सेहत का फॉर्मूला

भोजन में बड़ा हिस्सा सब्जियों, फलों और सूखे मेवों का होना चाहिए. गेहूं की जगह मल्टीग्रेन रोटी, सलाद, दही की मात्रा बढ़ाकर भोजन को पौष्टिक बनाया जा सकता है. विभिन्न आयुवर्ग के लिए पेश है एक आदर्श डाइट चार्ट.

Advertisement
aajtak.in
मानसी शर्मा माहेश्वरी नई दिल्ली, 11 April 2016
डाइट चार्टः अच्छी सेहत का फॉर्मूला

जब मेरी प्लेट में खाना कम होता है तो मैं अच्छा महसूस करती हूं." यह कहना है ईट, प्रे, लव की लेखिका एलिजाबेथ गिलबर्ट का. उनके इस अनुभव से दिल्ली के बीएलके हॉस्पिटल की चीफ डाइटिशियन डॉ. सुनीता रॉय चौधरी भी इत्तेफाक रखती हैं, ''चार बार ज्यादा मात्रा में भोजन करने से अच्छा है छोटी-छोटी मात्रा में छह से आठ बार खाना." इस तरह खाने से बेहिसाब खाने की संभावना कम हो जाती है, भरपूर पोषण मिलता है और शुगर लेवल भी नियंत्रित रहता है. विभिन्न आयुवर्ग के लिए भोजन और पोषण की जरूरत भी अलग होती है. खान-पान में पोषण बढ़ाने का एक नुस्खा क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट और होल फूड्स इंडिया की फाउंडर ईशी खोसला भी बताती हैं, ''भोजन में बड़ा हिस्सा सब्जियों, फलों और सूखे मेवों का होना चाहिए. गेहूं की जगह मल्टीग्रेन रोटी, सलाद, दही की मात्रा बढ़ाकर भोजन को पौष्टिक बनाया जा सकता है." विभिन्न विशेषज्ञों की राय पर आधारित अलग-अलग आयुवर्ग के लोगों के लिए एक आदर्श डाइट चार्ट बनाया गया है.


















































आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay