एडवांस्ड सर्च

बौद्ध बढ़े, चुनावी चर्चे में चढ़े

जनगणना के ताजा आंकड़ों के मुताबिक कुछ राज्यों में दलित बौद्धों की संख्या में इजाफा हुआ है, तो ओबीसी में भी बौद्ध धर्म अपनाने का रुझान, वहीं यूपी चुनाव के सियासी दांव-पेच में दलित बौद्धों पर नजर.

Advertisement
सरोज कुमार 08 June 2016
बौद्ध बढ़े, चुनावी चर्चे में चढ़े जहानाबाद जिले में बौद्ध धर्म की दीक्षा से पहले लोगों को संबोधित करते भंते

तथागत यानी गौतम बुद्ध को  बोधगया में जिस बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई थी, उससे कुछ ही फासले पर स्थित कालचक्र मैदान में पिछली 21 मई को बुद्ध जयंती के मौके पर 28 वर्षीय विकास कुमार ने बौद्ध धर्म अपना लिया. मगध विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट विकास कुशवाहा (ओबीसी) समुदाय के हैं और बोधगया से करीब 30 किमी दूर खिजरसराय के पचरुखी गांव के हैं. ऐसा करने वाले वे अकेले नहीं हैं. इसी समारोह में उनके साथ 451 लोग बौद्ध बने, जिनमें करीब 200 ओबीसी समुदाय के और बाकी दलित थे.

बोधगया से 25 किमी दूर गया के खरखुरा मुहल्ले का नजारा तो पूरी तरह बुद्धमय नजर आता है. करीब पांच साल पहले बौद्ध बने अश्विनी के दोमंजिला पक्के मकान पर रंगबिरंगा बौद्ध झंडा फरहाता रहता है. उन्होंने अपने घर की बगल में ही जन सहयोग से बौद्ध विहार बना लिया है, जहां बौद्ध भिक्षु दीक्षा देते हैं. उनके इलाके के करीब 500 लोग बौद्ध बन चुके हैं, जिनमें करीब 300 ओबीसी थे.

दलित बौद्धों में 38 फीसदी का उछाल
दरअसल हाल ही में जारी धार्मिक जनगणना 2011 के आंकड़ों के मुताबिक बौद्ध आबादी में 2001 के मुकाबले बिहार, झारखंड, ओडिशा, गुजरात और तमिलनाडु जैसे राज्यों में उछाल देखने को मिला है. इसी तरह देश में कुल दलित बौद्धों में 38 फीसदी का उछाल आया है तो कुछ राज्यों में ओबीसी में भी ऐसे ही संकेत मिल रहे हैं. मिसाल के तौर पर बिहार की कुल बौद्ध आबादी में पिछले दस साल में 35 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, लेकिन दलित बौद्धों की संख्या 2,257 कम हो गई है. यहां एसटी बौद्ध महज 252 हैं. ऐसे में फिर यहां बढ़ते हुए बौद्ध कौन हैं? उत्तराखंड और ओडिशा में भी कुछ ऐसे ही रुझान हैं. ओडिशा में कुल बौद्ध आबादी 40 फीसदी बढ़कर 13,852 हो गई है, जबकि एससी-एसटी बौद्ध यहां क्रमशः 940 और 1,959 ही हैं. उत्तर प्रदेश में तो बीजेपी ने अऌागामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बौद्धों को लुभाने का दांव भी खेल दिया है.

देश में दलित बौद्धों की जनसंख्यापिछड़ों में मौन उभार
खिजरसराय प्रखंड के ही बिहटा गांव के 55 वर्षीय भगवान प्रसाद अब भंते संघबोधि नाम से जाने जाते हैं. दो साल पहले वे भी कुशवाहा थे. उन्होंने तो बाकायदा चीवर धारण कर लिया है और गौतम बुद्ध के उपदेशों के प्रचार-प्रसार में जुट गए हैं. भगवान प्रसाद और अश्विनी के जरिए ही विकास बौद्ध धर्म के करीब आए थे.

इसी तरह जहानाबाद जिले के मखदूमपुर निवासी 31 वर्षीय अशोक वंश गया, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद, आरा, सीवान, छपरा, बक्सर, कैमूर, पटना और नालंदा जिलों में घूम-घूमकर बौद्ध धर्म का प्रचार करते हैं और धर्म परिवर्तन कराते हैं. उनका कहना है, ''सम्राट अशोक के जमाने में हमारे वंशज बौद्ध थे, जो बाद में हिंदू हो गए. हम उन्हें बौद्ध धर्म में वापस लाने के लिए जुटे हुए हैं." वर्धा के अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय में बौद्ध अध्ययन विभाग के अध्यक्ष सुरजीत कुमार सिंह कहते हैं, ''उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश में मौर्य और कुशवाहा जैसे ओबीसी समुदायों की बड़ी आबादी बौद्ध है. कुर्मी कहा जाने वाला ओबीसी समुदाय बौद्ध ग्रंथों में वर्णित मल्ल हैं." सुरजीत बताते हैं कि 1967-68 के दौरान वित्त मंत्री रहे रामस्वरूप वर्मा तथा ललई सिंह यादव और चौधरी महाराज सिंह भारती जैसे नेताओं ने उन दिनों बौद्ध बनने का आंदोलन चलाया था. पर हालिया नव-बौद्ध आंदोलन की खासियत है कि यह बिना किसी बड़े नाम के अशोक और अश्विनी जैसे भिक्षुओं के जरिए चुपचाप जमीनी स्तर पर चल रहा है.

 महाराष्ट्र में सत्यशोधक ओबीसी परिषद के नेता हनुमंत उपरे ने दो साल पहले 2016 तक पांच लाख लोगों को बौद्ध धर्म में दीक्षित करवाने का लक्ष्य रखा था. डेढ़ साल पहले उपरे के देहांत के बाद परिषद का यह आंदोलन कमजोर पड़ गया है. वैसे उनके बेटे और परिषद के संयोजक संतोष उपरे का दावा है, ''हम नागपुर, नवी मुंबई, पुणे, कोल्हापुर, औरंगाबाद, महाड इलाकों में लोगों को जागरूक कर रहे हैं. हम इस साल करीब 30-40,000 लोगों को दीक्षा दिलाएंगे."

देश में बौद्ध बनने का जारी सिलसिलामहाराष्ट्र में भारी वृद्धि
वहीं 2011 की जनगणना के मुताबिक, महाराष्ट्र में बौद्ध दलितों की आबादी में करीब 60 फीसदी की धमाकेदार वृद्धि हुई है, जबकि वहां की कुल आबादी में 16 फीसदी और देश की कुल आबादी में 17.7 फीसदी ही वृद्धि हुई है. डॉ. भीमराव आंबेडकर के पोते और बौद्ध तथा दलित एक्टिविस्ट प्रकाश आंबेडकर कहते हैं, ''1990 में संशोधन के जरिए बनने वाले दलितों को आरक्षण का हक मिल गया था. इस वजह से भी "90 की दशक के बाद दलितों के बौद्ध बनने में अच्छी-खासी वृद्धि हुई है."

वेमुला के पर‍िवार ने भी अपनाया बौद्ध धर्म
हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दलित छात्र रोहित वेमुला के भाई राजा वेमुला ने मुंबई में 14 अप्रैल को बौद्ध धर्म की दीक्षा ली. राजा ने कहा, ''आज से मैं और मेरी मां पूरी तरह मुन्न्त हैं, शर्मिंदगी से मुक्त, रोज के अपमान से मुक्त और उस ईश्वर से मुक्त जिसके नाम पर हमारे लोगों पर सदियों से अत्याचार होते रहे." लेकिन मौजूदा रुझान बढऩे की वजहें क्या हैं? प्रकाश आंबेडकर कहते हैं, ''देश में जातिगत भेदभाव अभी भी मौजूद है. सो यह रुझान जारी है." उनके मुताबिक कट्टर हिंदूवादी ताकतें ही हिंदू धर्म को नुक्सान पहुंचा रही हैं और इस कट्टर नजिरए को देखते हुए ही दलित लगातार हिंदू धर्म छोड़ रहे हैं. वहीं आइआइटी, खडग़पुर में प्रोफेसर और मानवाधिकार कार्यकर्ता आनंद तेलतुंबड़े के मुताबिक, मौजूदा दौर में यह सांकेतिक विरोध है. हिंदुत्व के उस हमले के खिलाफ भी जो दावा करता है कि बौद्ध उसका ही एक धड़ा है. वे कहते हैं, ''दलितों और ओबीसी के बौद्ध बनने का निश्चित ट्रेंड है."

आंकड़ों में उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में बौद्ध आबादी में गिरावट दिखती है पर दलित और बौद्ध कार्यकर्ता इसकी दूसरी वजहें गिनाते हैं. वे कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में वाकई बौद्धों की संख्या घटी होती तो फिर बीजेपी जैसी पार्टियां उनको लेकर रणनीति न्न्यों बनातीं. सुरजीत कहते हैं, ''यूपी जैसे राज्यों में दलित बौद्ध इतने सशक्त नहीं हैं कि जनगणना अधिकारियों पर उनका कोई दबाव हो. अमूमन वे उनकी नई पहचान दर्ज नहीं करते. दरअसल महाराष्ट्र में 2011 की जनगणना के पहले दलित बौद्ध कार्यकर्ताओं ने घूम-घूम कर लोगों को जागरूक किया था कि धर्म के कॉलम में बौद्ध लिखवाएं क्योंकि जनगणना करने वाले दलित बौद्धों को हिंदू ही लिख देते थे." यूपी के बुलंदशहर के शिवाली के दलित बौद्ध मगन लाल गौतम इस पर मुहर लगाते हैं, ''आंकड़े इकट्ठा कर रहे कर्मचारी ने मुझसे धर्म के बारे में पूछा ही नहीं और मैं उनका तिकड़म समझ नहीं पाया."

वाराणसी के सारनाथ से धम्म चेतना यात्रा को रवाना करते राजनाथ सिंहसियासी बिसात पर
यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने बीएसपी समर्थक माने जाने वाले बौद्ध दलितों पर नजरें गड़ा दी हैं. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 24 अप्रैल को सारनाथ से धम्म चेतना यात्रा को झंडी दिखाकर रवाना किया. ऑल इंडिया भिक्षु संघ के बैनर तले शुरू हुई यह यात्रा प्रदेश के कुल 300 विधानसभा क्षेत्रों से होकर लखनऊ पहुंचेगी. यात्रा के दौरान डॉ. आंबेडकर और गौतम बुद्ध पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचार के बारे में बताया जाता है. वैसे बीजेपी एससी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष गौतम चौधरी कहते हैं, ''इस यात्रा से बीजेपी का कोई लेना-देना नहीं है. बस इसमें हमारी पार्टी के कुछ लोग शामिल हैं." यात्रा का नेतृत्व कर रहे 87 वर्षीय डॉ. धम्म वीरियो गुजरात में नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्रित्व काल में माइनॉरिटी कमिशन के सदस्य रहे थे. यात्रा के कोऑर्डिनेटर शील रक्षित भिक्षु कहते हैं, ''प्रधानमंत्री ने जिस तरह से डॉ. आंबेडकर और बौद्ध धर्म को सम्मान दिया है, उससे बौद्ध समाज गर्व महसूस कर रहा है." वे यह भी कहते हैं, ''इस यात्रा का लक्ष्य वंचितों को उन लोगों से सावधान करना है जो उनका शोषण करते आ रहे हैं." वहीं पूर्वी यूपी से आने वाले बीएसपी के एक दलित विधायक कहते हैं, ''बीजेपी की धम्म चेतना यात्रा के जरिए बरगलाने की कोशिश को दलित और बौद्ध समझ चुके हैं."

दूसरी ओर ऑल इंडिया भिक्षु संघ के महासचिव भिक्षु प्रज्ञादीप का कहना है, ''हमारे संघ का धम्म चेतना यात्रा से कोई लेना-देना नहीं है." जाहिर है, आंकड़ों में (महाराष्ट्र के 39 फीसदी के उलट) यूपी में भले ही दलित बौद्ध कुल दलित आबादी का महज 0.33 फीसदी हों पर वे सियासी तौर पर अहम होते जा रहे हैं.

—साथ में जितेंद्र पुष्प और आशीष मिश्र

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay