एडवांस्ड सर्च

गहराया स्वाइन फ्लू का संकट और हकीकत से मुंह चुराती सरकार

इस साल स्वाइन फ्लू के मामलों और उनसे होने वाली मौतों में बहुत ज्यादा बढ़ोतरी हुई है, लेकिन सरकारें उपायों की बजाए इसकी लीपापोती करती नजर आ रही हैं.

Advertisement
संध्या द्विवेदी 11 February 2019
गहराया स्वाइन फ्लू का संकट और हकीकत से मुंह चुराती सरकार

दक्षिण दिल्ली के मीठापुर गांव से आए प्रकाश सिंह अपनी पत्नी को भर्ती कराने के लिए सर गंगाराम अस्पताल के बाहर 3 फरवरी की शाम करीब 4-5 घंटों से खड़े हैं. वे मेडिकल स्टाफ के हाथ-पैर जोड़ रहे हैं लेकिन उन्हें अभी तक भर्ती नहीं किया जा सका. वहां मौजूद स्टाफ का कहना है कि मरीज की हालत गंभीर है, इन्हें वेंटिलेटर चाहिए और अस्पताल में कोई वेंटिलेटर खाली नहीं है. स्टाफ उन्हें बार-बार किसी दूसरे अस्पताल जाने की सलाह देता रहा.

स्टाफ का कहना है कि वेंटिलेटर अगर नहीं मिला तो मरीज को बचाना मुश्किल होगा. लेकिन प्रकाश सिंह पहले ही तीन अस्पतालों का चक्कर लगाने के बाद यहां पहुंचे हैं. वे पत्नी को 1 फरवरी को पास के एक निजी अस्पताल में ले गए. वहां सैंपल टेस्ट के बाद पता चला कि उनकी पत्नी को स्वाइन फ्लू है. उस निजी अस्पताल में वेंटिलेटर न होने के कारण उन्हें दूसरे अस्पताल में जाने को कहा गया.

यह हालत राजधानी दिल्ली के किसी एक अस्पताल की नहीं है, बल्कि अधिकतर सरकारी और निजी अस्पतालों के बाहर स्वाइन फ्लू के मरीजों की लंबी लाइन लगी है.

सर गंगाराम अस्पताल में सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन डॉ. एस.पी. बयोत्रा भी स्वाइन फ्लू के बढ़े मामलों को लेकर चिंतित हैं.

वे कहते हैं, ''पिछले 15 दिनों में जिस तरह से स्वाइन फ्लू के मामले बढ़े हैं वे परेशान करने वाले हैं. अमूमन इस मौसम में ज्यादातर लोगों को फ्लू होता है. पर अचानक स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ गए हैं.''

आलम यह है कि अस्पतालों को मरीजों को भर्ती करने के लिए भी जूझना पड़ रहा है. होली फैमिली अस्पताल के डॉ. पी.एन. सिंह स्वाइन फ्लू के साथ ही अन्य फ्लू के गहराते संकट को पलवल से इलाज के लिए आई एक बुजर्ग महिला की कहानी के जरिए बयान करते हैं.

वे बताते हैं, ''पिछले महीने एक शख्स अपनी बुजुर्ग मां को देर रात में लाया. उसने कई अस्पतालों में पता किया लेकिन कहीं वेंटिलेटर खाली नहीं था. हमारे यहां भी सारे बेड भरे हुए थे.

मां की गंभीर स्थिति का हवाला देकर उनका बेटा उन्हें यहीं पर भर्ती करने की जिद पर अड़ा रहा.'' आखिरकार, कुछ घंटों में होली फैमिली अस्पताल के आइसीयू में एक बेड खाली हुआ और उस बुजुर्ग महिला को भर्ती कर लिया गया.

डॉ. सिंह कहते हैं, ''खुशकिस्मती से वे बच गईं. पर कुछ घंटे और अगर उन्हें आइसीयू नहीं मिलता तो उन्हें बचाना मुश्किल था.''

अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के कुछ मरीज इतने गंभीर हैं कि उन्हें ऑक्सीजन देने के लिए वेंटिलेटर भी नाकाफी साबित हो रहा है. ऐसे में उन्हें एम्मो यानी एक्स्ट्राकॉरपोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजिनेशन (ईसीएमओ) की जरूरत पड़ रही है.

दरअसल, जब फेफड़े बिल्कुल काम करने की स्थिति में नहीं होते हैं तो फेफड़ों का काम इस मशीन के जरिए लिया जाता है. यह मशीन सीधे पूरे शरीर को खून में ऑक्सीजन पंप करने का काम करती है.

पिछले एक महीने में दिल्ली-एनसीआर के हर अस्पताल में ऐसे किस्सों की बाढ़-सी आ गई है. गाजियाबाद के यशोदा सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में जीएम ऑपरेशन्स ऐंड क्वालिटी, डॉ. सुनील डागर भी कहते हैं, ''बीते साल के मुकाबले इस साल स्वाइन फ्लू के मामलों और इससे होने वाली मौतों का आंकड़ा बढ़ा है.''

हकीकत से मुंह चुराती सरकार

नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के मुताबिक, राजधानी दिल्ली में पिछले साल स्वाइन फ्लू के 205 मामले सामने आए थे. लेकिन इस साल यह संख्या 3 फरवरी तक एक हजार पार कर चुकी है.

स्वाइन फ्लू के मामले में राजस्थान सबसे आगे है. राजस्थान सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में जहां पिछले साल 2,375 स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए थे वहीं इस साल 7 फरवरी तक यह आंकड़ा 2,606 तक पहुंच गया.

पिछले साल राजस्थान में जहां 221 मौतें हुई थीं, इस बार अब तक यह आंकड़ा 91 पहुंच गया है.

इस साल राजस्थान इसमें सबसे आगे क्यों है? एसएमएस मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल, जयपुर के डॉ. सुधीर भंडारी कहते हैं ''हम ईमानदारी के साथ स्वाइन फ्लू के मामले रिपोर्ट कर रहे हैं. इसी कारण दूसरे राज्यों के मुकाबले हमारे नंबर ज्यादा दिख रहे हैं.''

राजस्थान के स्वास्थ विभाग के कुछ वरिष्ठ अधिकारी राज्य में ज्यादा मामलों की वजह बड़े स्तर पर स्वाइन फ्लू की हो रही स्क्रिनिंग को मानते हैं. दरअसल, राजस्थान में घर घर जाकर स्वाइन फ्लू की स्क्रीनिंग करने का आदेश दिया गया है. सरकारी दावा है कि अब तक करीब 17 लाख लोगों की स्क्रीनिंग हो चुकी है. इनमें से 27 हजार लोगों को सामान्य फ्लू है.

इनमें से एक बड़ी संख्या को स्वाइन फ्लू टेस्ट करवाने के लिए कहा गया है. उनके मुताबिक, अगर इतने ज्यादा बड़े स्तर पर परीक्षण नहीं होते तो पता ही नहीं चलता कि बहुत सी मौतों की वजह स्वाइन फ्लू है. हालांकि, अधिकारियों का यह तर्क अटपटा है.

सरकार के रवैये से भी सवाल खड़े होते हैं. राजस्थान के स्वास्थ मंत्री रघु शर्मा के हालिया बयान ने हंगामा खड़ा कर दिया जिसमें उन्होंने मौतों को सामान्य बताने की कोशिश की. दरअसल, उन्होंने कहा, ''स्वाइन फ्लू से हर साल मौतें होती हैं.'' राज्य भाजपा ने इस पर उनके इस्तीफे की मांग कर डाली.

वहीं, एनसीडीसी के मुताबिक दिल्ली में पिछले साल दो मौतें हुई थीं, इस साल 3 फरवरी तक एक भी मौत नहीं हुई. हालांकि स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस), दिल्ली सरकार के मुताबिक, 5 फरवरी तक दिल्ली में एक मौत हो चुकी है.

लेकिन दिल्ली के सरकारी और निजी अस्पतालों की रिपोर्ट एनसीडीसी और दिल्ली सरकार के इन आंकड़ों को झुठला रही है. चार अस्पतालों के आंकड़े स्पष्ट करते हैं कि राजधानी में स्वाइन फ्लू और उससे हुई मौत के मामले कहीं  ज्यादा बढ़े हैं (देखें बॉक्स). वहीं सरकार अपने आंकड़ों के जरिए उन्हें झुठलाने की कोशिश कर रही है.

हालांकि, एडिशनल डायरेक्टर और दिल्ली के नोडल ऑफिसर डॉ. एस.एम. रहेजा कहते हैं, ''स्वाइन फ्लू के अचानक इतना ज्यादा बढऩे की वजह बार-बार बारिश से तापमान का लगातार गिरना और ठंड का बढऩा है. दिल्ली ही नहीं पूरे देश में इस बार स्वाइन फ्लू के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं.'' हाल ही में दिल्ली सरकार की राज्य स्तरीय बैठक में दावा किया गया कि राज्य के सभी सरकारी अस्पताल स्वाइन फ्लू से निपटने कि लिए तैयार हैं.

सरकार का दावा है कि टैमीफ्लू (दवा) और प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई किट्स) और मास्क एन-95 की पर्याप्त व्यस्था है. डीजीएचएस ने चौबीसों घंटे सुविधा वाला हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है. लेकिन, अस्पतालों के जमीनी हालात इन दावों को साफ तौर पर झुठला रहे हैं. दिल्ली में स्वाइन फ्लू का इलाज कर रहे एक निजी अस्पताल के डॉक्टर कहते हैं, ''दरअसल, सरकार समस्या का हल निकालने की जगह जमीनी आंकड़ों को नकारने पर आमादा है.''

अबकी बार और खतरनाक !

डॉ. डागर की मानें तो ऐसा नहीं है कि यह फ्लू इस बार और खतरनाक होकर आया है. दरअसल, हर साल इसके वायरस के स्ट्रेन्स में बदलाव आता है. इसीलिए हर साल नई वैक्सीन इस वायरस से बचाव के लिए बनती हैं. डॉ. डागर कहते हैं, ''हालांकि ऐसा नहीं है कि वैक्सीन लगने के बाद भी कोई पूरी तरह सुरक्षित हो जाता है.'' वैक्सीन नहीं लगे लोगों की संख्या बढ़ती है तो मामलों में वृद्धि हो जाती है. वहीं हर वायरस के स्ट्रेन्स में बदलाव आने से लोगों की प्रतिरोधी क्षमता पर भी असर पड़ता है.

विशेषज्ञों के मुताबिक, फ्लू से पीड़ित लोगों में मृत्यु दर महज एक फीसदी ही है, पर प्रतिरोधी क्षमता कम होने या कोई अन्य बीमारी की वजह से भी यह घातक हो जाता है. इस फ्लू के दो पीक-सीजन होते हैं—मॉनसून (अगस्त-अक्तूबर) और सर्दियां (जनवरी-मार्च).

तापमान का गिरना वायरस के लिए अनुकूल होता है, जिसकी वजह से उसका प्रकोप बढ़ जाता है. इसका असर इस बार ज्यादा है क्योंकि फरवरी में भी ठंड बढ़ी है. हालांकि सरकार भी इसको लेकर मुस्तैद नहीं रही और हालात बदतर हो गए.

कब आया सामने

स्वाइन फ्लू इन्फ्लुएंजा वायरस की अपेक्षाकृत नई स्ट्रेन है, जिसे एच1एन1 के नाम से जाना जाता है. इससे संक्रमित लोगों में सामान्य फ्लू जैसे ही लक्षण होते हैं. यह वायरस सूअरों से निकला और बाद में इनसानों को भी संक्रमित करने लगा. यह दुनियाभर में 2009 में सुर्खियों में आया.

मुख्य लक्षण

-तेज बुखार

-उल्टी आना या जी मिचलाना

-सांस लेने में दिक्कत होना

-मांसपेशियों में दर्द होना

-गला खराब होना

बचाव के उपाय

-भीड़ में जाने से बचें.

-स्वाइन फ्लू से पीड़ित किसी व्यक्ति की छींक से निकली ड्रॉपलेट के संपर्क में जैसे ही कोई दूसरा व्यक्ति आता है उसे उसे इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए मरीज को बिल्कुल अलग स्थान पर रखें. उसकी तीमारदारी के लिए घर के किसी एक ही व्यक्ति को तय कर दें.

-मरीज को बार-बार हाथ धुलवाते रहें.

-फ्लू का टीका लगवाएं.

—साथ में रोहित परिहार

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay