एडवांस्ड सर्च

हरियाणा मिशन सौ फीसदी

हालिया आम चुनाव में भाजपा हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों में से 79 पर आगे रही. जिन 11 सीटों पर वह पीछे रही वहां जाट-मुस्लिम वोटरों की तादाद अधिक, जो भाजपा की चुनौती.

Advertisement
aajtak.in
सुजीत ठाकुर नई दिल्ली, 05 August 2019
हरियाणा मिशन सौ फीसदी दो का दम-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा जब बीती 27 जुलाई को हरियाणा में आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर तीन दिन के दौरे पर रोहतक पहुंचे. वहां बैठक में उन्होंने सबसे पहला सवाल यह किया, ''इस बार कितना पार.'' उत्तर मिला, ''75 पार''. उन्होंने न में सिर हिलाया और मुस्कराते हुए कहा, ''सारा का सारा 90 हमारा.'' हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 10,000 बूथ कार्यकर्ताओं के साथ नड्डा का यह संवाद दरअसल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह की उस रणनीति का हिस्सा है. इसे मोदी-2 सरकार बनने के बाद होने वाले पहले विधानसभा चुनाव में पार्टी को सही साबित करना है: अर्थात् विधानसभा की सभी सीटें जीतने का लक्ष्य. भाजपा अगर ऐसा करने में सफल होती है तो शायद वह देश की पहली पार्टी होगी, जिसके नाम यह खिताब होगा.

हरियाणा के भाजपा प्रभारी और महासचिव अनिल जैन कहते हैं, ''लोकसभा चुनाव में भाजपा राज्य की सभी 10 लोकसभा सीट जीतने में सफल रही है. इतना ही नहीं, इन चुनावों में विधानसभा की 90 सीटों में से 79 पर भाजपा की बढ़त रही. ऐसे में कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं है.'' वहीं, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला कहते हैं, ''79 सीटों की लीड को 90 सीट तक बढ़ाने की कोशिश में पूरी पार्टी है और हम इसमें सफल होंगे.'' लेकिन विधानसभा की जिन 11 सीटों पर भाजपा बढ़त नहीं ले सकी, उनके सियासी समीकरण भाजपा के लिए बड़ी चुनौती हैं. दरअसल, रोहतक और सोनीपत जहां जाट-मुस्लिम निर्णायक वोटर हैं, वहां इस वोट बैंक में सेंध लगाना भाजपा के लिए आसान काम नहीं है.

खासकर तब जब भाजपा, जाट बनाम अन्य की रणनीति पर चल रही है. हालांकि, पार्टी के एक वरिष्ठ महासचिव कहते हैं, ''भाजपा को सभी समुदाय के वोट हासिल हुए हैं. अगर ऐसा नहीं होता तो फिर पार्टी सभी दस लोकसभा सीटें नहीं जीतती. लोगों के साथ-साथ दूसरी पार्टी के नेताओं का भी भरोसा भाजपा की ओर है. चुनाव आते-आते दूसरी पार्टियों के कई प्रमुख नेता भाजपा के साथ आएंगे.'' भाजपा सूत्रों का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल की पोती श्रुति चौधरी और बहू किरण चौधरी के अलावा दीपेंद्र सिंह हुड्डा पार्टी के संपर्क में हैं. इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता कि कुछ नेता भाजपा में शामिल होंगे.

लेकिन क्या विरोधी दलों का प्रदर्शन इतना खराब हो सकता है कि वे एक भी सीट नहीं जीतें? भाजपा मीडिया सेल के प्रमुख और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी कहते हैं, ''जरूर हो सकता है.

2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस कई प्रदेशों में खाता तक नहीं खोल सकी थी. आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की क्या गति हुई?'' लेकिन इन राज्यों में दूसरे दल (क्षेत्रीय दल) तो सीट जीतने में सफल रहे. हरियाणा में भी इंडियन नेशनल लोकदल (आइएनएलडी) और इसमें दो-फाड़ होने के बाद बनी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) प्रभावी तो हैं? भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला कहते हैं, ''जींद उप-चुनाव ने इस मिथक को भी तोड़ दिया.'' दरअसल, जाट बाहुल्य जींद सीट के लिए हुए उपचुनाव में भाजपा के कम जाने-माने गैर-जाट प्रत्याशी कृष्णा मिढ़ा ने दो कद्दावर जाट नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (कांग्रेस) और दिग्विजय चौटाला (जेजेपी) को हरा दिया.

भाजपा नेता यह मान कर चल रहे हैं कि हरियाणा में गैर-जाट वोटर भाजपा की तरफ हैं और ऐसे में सभी विधानसभा सीटें जीती जा सकती हैं. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ''हरियाणा में गैर-भाजपा दल कोई सीट नहीं जीते तो आश्चर्य की बात नहीं है. इसकी वजहें साफ हैं. पहली बात यह कि भाजपा का गैर-जाट वोट एकजुट है. दूसरी बात कि रोहतक और सोनीपत जैसे कुछ इलाको में जाट वोट कांग्रेस और जेजेपी के बीच बंटा हुआ है.

तीसरी बात कि दोनों ही प्रमुख विरोधी दल कांग्रेस और जेजेपी का संगठन कमजोर है और नेतृत्व को लेकर उनमें भीषण अंदरूनी टकराव है. यही नहीं, विरोधी दलों के जो भी नेता हैं वे परिवारवाद की पृष्ठभूमि से आते हंी और देश का माहौल परिवारवाद के खिलाफ है. सबसे अहम बात यह कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करिश्मा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के विकास कार्य भाजपा की जीत सौ फीसदी पक्की करने के लिए काफी हैं.''

क्या करेगा विपक्ष?

जाट लैंड के नाम से मशहूर हरियाणा में भाजपा के सत्ता में आने से राज्य में जाट प्रभाव कम हुआ है. 1970-80 के दशक में इस प्रभाव को पहली बार कांग्रेस नेता भजनलाल ने तोड़ा था. बाद में चौटाला और हुड्डा परिवार जाट प्रभाव को वापस लाने में सफल रहे. राज्य में करीब 25 फीसदी जाट, 20 फीसदी दलित और 7 फीसदी मुस्लिम वोटर हैं, जिनके दम पर इंडियन नेशनल लोकदल और कांग्रेस के बीच चुनाव में मुख्य मुकाबला होता रहा. तब भाजपा का प्रभाव नाम मात्र का था. लेकिन 2014 के लोकसभा और फिर विधानसभा चुनाव में भाजपा ने गैर-जाट वोट पर दांव खेला और जीत हासिल की. पार्टी ने किसी जाट की जगह राज्य में गैर जाट नेता मनोहर लाल खट्टर को मुख्यमंत्री बनाया. फरवरी 2016 में राज्य में जाट आंदोलन हुआ और गैर-जाट लोगों की संपत्तियों को भारी नुक्सान हुआ.

लेकिन कांग्रेस या आइएनएलडी जाट स्वाभिमान के मुद्दे को संभालने से चूक गए. जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला कहते हैं, ''भाजपा राज्य को जाट-गैर जाट में बांटकर राजनीति कर रही है जिससे राज्य का नुक्सान होता है. हमारी पार्टी सबको साथ लेकर चलती रही है. इस चुनाव में जेजेपी की जीत पक्की है.'' जेजेपी ने मिशन 46 का लक्ष्य रखा है. पार्टी के एक नेता कहते हैं, ''लोगों का मन, भाजपा से ऊब गया है. राज्य में लोग परेशान हैं. जाट इस बार एकजुट होकर हमें वोट करेंगे.'' वे कहते हैं कि लोकसभा चुनाव में भाजपा जहां कई सीट 6 लाख के अंतर से जीती, वहीं रोहतक और सोनीपत जैसे जाट बाहुल्य इलाके में सिर्फ 2 लाख वोट से.

इसका मतलब है कि जाट, भाजपा से कट रहे हैं. खासकर, भाजपा पिछले पांच साल से जिस तरह से गैर-जाट समुदाय पर पूरा फोकस कर रही है, उससे जाट भाजपा से नाराज हैं. जाट समुदाय की नाराजगी का आलम यह है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा को उन सीटों पर भी लीड नहीं मिली जिन पर पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के दो मंत्री कैप्टन अभिमन्यु (नारनौद से) और ओमप्रकाश धनकड़ (बादली से) चुने गए थे. दोनों जाट समुदाय से हैं, इसके बाद भी भाजपा इन सीटों पर बढ़त नहीं ले सकी.

जेजेपी जेजेपी के नेता यह मान रहे हैं कि भाजपा के मुकाबले कांग्रेस और जेजेपी का संगठन कमजोर है, पर वे कहते हैं कि चुनाव के नजदीक शायद यह स्थिति बने कि हम (कांग्रेस-जेजेपी) एक साथ लड़ें. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर इससे इनकार करते हैं, ''कांग्रेस अपने दम पर चुनाव लड़ेगी और भाजपा को हराएगी.'' लेकिन जेजेपी के साथ गठबंधन के सवाल पर कांग्रेस के एक अन्य नेता कहते हैं, ''भाजपा को रोकने के लिए हम किसी भी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं.'' जाहिर है, राज्य में फिलहाल विपक्ष की स्थिति नाजुक दिख रही है. दोनों प्रमुख विपक्षी दल अपने अंदरूनी मामलों को ही सही नहीं कर पाए हैं. अगर दोनों अलग-अलग चुनाव लड़े तो वे हरियाणा में भाजपा को एक तरीके से वॉकओवर देते नजर आएंगे. ऐसे में भाजपा का मिशन 75 प्लस 'सारा का सारा 90 हमारा' की ओर बढ़ जाए, इससे इनकार नहीं किया जा सकता.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay