एडवांस्ड सर्च

उत्तराखंड में अपने ही नेताओं ने कांग्रेस की कोशिशों पर फेरा पानी

कांग्रेस राज्य इकाई ने पिछले दिनों उत्तराखंड में जनचेतना के लिए कुछ कार्यक्रम किए पर उसे लेकर दो बड़े नेताओं की नाराजगी के चलते मामला उलटा पड़ गया.

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर/ संध्या द्विवेदी नई दिल्ली, 13 February 2018
उत्तराखंड में अपने ही नेताओं ने कांग्रेस की कोशिशों पर फेरा पानी गफलत! पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत

उत्तराखंड में स्थानीय निकाय चुनावों की तैयारियों को लेकर दोनों प्रमुख राजनैतिक पार्टियां भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस सक्रिय हो उठी हैं. भाजपा की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार अपने कामों का संदेश जन-जन में पहुंचाने को दस माह के कार्यकाल में दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नजदीकी अधिकारियों और अन्य प्रभावशाली लोगों समेत 51 हस्तियों को केदारनाथ ले जाना चाहती है.

यह टीम केदारनाथ में पुनर्निर्माण के काम में जुटे लोगों का हौसला बढ़ाएगी और रिपोर्ट प्रधानमंत्री को देगी. दल की अगुआई प्रधानमंत्री के सचिव, उत्तराखंड मूल के भास्कर खुल्बे करेंगे. सरकार ने इस दौरे को केदारपुरी पुनर्निर्माण अभियान 2018 नाम दिया है.

उधर कांग्रेस राज्य इकाई ने पिछले दिनों जनचेतना के लिए कुछ कार्यक्रम किए पर उसे लेकर दो बड़े नेताओं की नाराजगी के चलते मामला ही जैसे उलटा पड़ गया. इस वक्त सत्ता से बाहर कांग्रेस स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा को टक्कर देने की तैयारी में है पर उसकी आंतरिक कलह है कि बार-बार सतह पर आ जाती है.

देहरादून की जन चेतना रैली में खुद को न बुलाए जाने को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने खासी नाराजगी जताई. उन्होंने अपनी फेसबुक पर लिखा, ''यदि मुझे कोई जिम्मेदारी दी जाती तो मुझे रैली में भाग लेकर खुशी होती." हालांकि उन्होंने इतने ''बड़े स्तर पर" और ''प्रभावशाली" रैली के लिए उत्तराखंड कांग्रेस को बधाई दी और पीसीसी अध्यक्ष प्रीतम सिंह से अनुरोध किया कि वे भविष्य में इस प्रकार के कार्यक्रमों के बारे में उन्हें भी पूर्व जानकारी दें.

उत्तराखंड कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सफाई दी कि पार्टी के वरिष्ठ नेता रावत को सूचित न किए जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता. लगता है, उनके बुलावे का संदेश उन तक नहीं पहुंचाया गया. रावत ने प्रीतम को सचेत किया कि कांग्रेस सचेत न रही तो उसके सरकार में रहते, खासकर केदारनाथ में किए गए कामों का श्रेय भाजपा उससे छीन लेगी.

इसी तरह नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने हल्द्वानी में आइएसबीटी निर्माण राज्य सरकार के रोकने के खिलाफ किए गए उपवास में उन्हें शामिल नहीं किए जाने को लेकर सार्वजानिक रूप से नाराजगी व्यक्त की. जाहिर है, इससे तो भद्द ही पिटेगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay