एडवांस्ड सर्च

ताज को बचाना हैः बेइंतिहा बदइंतजामी

पादशाहनामा के मुताबिक, बादशाह शाहजहां ने 1631 में ताज महल के प्रवेश द्वार के रूप में मुमताजाबाद (अब ताज गंज) की स्थापना की थी, जिसे उसी वर्ष खोला भी गया था. विचार कुरान से लिया गया था.

Advertisement
दमयंती दत्ता 12 September 2018
ताज को बचाना हैः बेइंतिहा बदइंतजामी नक्काशी किया संगमरमर का एक चोपड़ जिस पर बादशाह शाहजहां जैन विद्वान मुंशी बनारसी दास और अपने दरबार

इतिहास क्या खुद को दोहराता है, यह तो अभी देखा जाना बाकी है, लेकिन कभी-कभी फुसफुसाकर आने वाले खतरे से जरूर आगाह करता है. सर्वोच्च न्यायालय का अब संदेश स्पष्ट हैः इतिहास की चेतावनियों पर गौर करें. 29 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हमने एक वृहत परिदृश्य को ध्यान में रखकर ताज महल परिसर के एक सचित्र भ्रमण की तैयारी कीः यानी हम ताज की सैर को पहुंचे लेकिन रोजाना आने वाले आज के किसी दर्शक की तरह नहीं, बल्कि इस कल्पना के साथ कि 17वीं शताब्दी में कोई मेहमान यहां आया होगा तो उसे पूरा ताज परिसर कैसा दिखता होगा.

हमारा उद्देश्य है दृश्य प्रदूषण, ताज के क्षय के वर्षों, इसे बदरंग करने की कोशिशों, निगरानी में बरती जा रही बेपनाह लापरवाही और एक शानदार विरासत की उपेक्षा के सबूत, तस्वीरों के जरिए पेश करना. तो आइए ताज की यात्रा शुरू करें:

ताज महल पर रात घिर आई है. उसके पिछवाड़े 400 साल पुराने बाजार ताज गंज में सन्नाटा पसरा है. फेरीवालों, दुकानदारों, जानवरों, गाडिय़ों, ऑटोरिक्शा और ताज के स्मृति चिन्ह बेचने वाले दुकानदारों के शोर-शराबे की कर्कश आवाजें शांत हो गई हैं.

लोग अपनी बंद दुकानों के बाहर बैठे गप्पें लड़ा रहे हैं, बच्चे हंसी-ठिठोली कर रहे हैं, गृहिणियां रसोई में मसाले पीस रही हैं. पसीने, चारों तरफ फैले कचरे, गोबर और खुली नालियों से निकलती तेज दुर्गंध चारों तरफ फैली हुई है.

इसी बीच कहीं जलेबियां भी तली जा रही हैं और चाशनी में लिपटी ताजी जलेबियों की मीठी खूशबू भी हवा में तैर जाती है. पुरानी हवेलियां घुप्प अंधेरे में गुम हो गई हैं.

छतों के ऊपर बने रूफटॉप कैफे से चंद्रमा की चांदनी में मद्धिम चमकता ताज, बड़ा मनोरम दिख रहा है. यहां आने वाले कितने लोगों को यह पता है कि ताज गंज को ताज महल का एक अभिन्न अंग माना जाता है?

क्या 29 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का यही तात्पर्य था? जस्टिस मदन बी. लोकुर, एस. अब्दुल नजीर और दीपक गुप्ता की पीठ ने आदेश दिया, ''दिमाग में बड़ी तस्वीर' रखें.

उन्होंने दिल्ली के स्कूल ऑफ प्लानिंग ऐंड आर्किटेक्चर की प्रोफेसर मीनाक्षी धोते से कहा कि वे जाने-माने विशेषज्ञों के साथ मिलकर और जरूरी हो तो अदालत की मदद लेकर, एक महीने के भीतर ताज महल के विजन डॉक्युमेंट को अंतिम रूप दें.

पहले प्रोफेसर मीनाक्षी को स्मारक के चारों ओर के पर्यावरण संवेदनशील क्षेत्र में उद्योगों की संख्या को लेकर गलत जानकारी दी गई थी. न्यायाधीशों ने कटु सत्य फिर दोहराया, ''ताज महल खत्म हो जाएगा, तो इसे फिर से बनाने का दूसरा मौका नहीं मिलेगा.''

औपनिवेशिक ढर्रे का संरक्षण

पादशाहनामा के मुताबिक, बादशाह शाहजहां ने 1631 में ताज महल के प्रवेश द्वार के रूप में मुमताजाबाद (अब ताज गंज) की स्थापना की थी, जिसे उसी वर्ष खोला भी गया था.

विचार कुरान से लिया गया थाः भौतिक दुनिया की चहल-पहल से निकलकर रूहानी खामोशी के दायरे में पहुंचना; या जन्नत की ओर खुलता अफरा-तफरी से भरा एक बाजार. उन्होंने सड़कों, बाजारों और चार कटरे या सराय बनाने के लिए 50 लाख शाहजहानी रुपए दिए.

हर सराय में हजारों मेहमानों के ठहरने के इंतजाम थे. शाहजहां के इतिहासकार अब्दुल हमीद लाहौरी ने 1651 में लिखा था, ''सामने के आंगन के दक्षिणी तरफ एक चौकोना बाजार है...जहां सब कुछ मिल जाएगा, यह मुमताजाबाद नामक एक बड़ा शहर बन गया है.''

कला इतिहासकार एब्बा कोच अपनी किताब द कंप्लीट ताज महल में लिखती हैं अमीर व्यापारियों के साथ-साथ ताज बनाने वाले कारीगरों तक, बाजार में मकबरे के रखरखाव के लिए सबने आर्थिक रूप से योगदान दिया.

1899 और 1905 के बीच ताज गंज ने अपनी चमक खो दी, जब ब्रिटिश वाइसराय लॉर्ड कर्जन ने इसे ताज परिसर से अलग कर दिया, जो इसकी अहमियत से अनजान थे.

एक शताब्दी से अधिक समय तक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने वही औपनिवेशिक नीति अपनाए रखीः ताज परिसर का कुल क्षेत्र 896.13300.84 मीटर बताया गया है, जिसमें से केवल 561.23300.84 मीटर का क्षेत्र संरक्षित किया गया जबकि बाजार का 334.9 मीटर का क्षेत्र और कुछ थोड़ी और जगहें संरक्षण के दायरे से बाहर कर दी गईं.

2011 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद की एक टीम ने दो महीने तक लंबा शोध (इसे 'ताज गंजः टेकिंग आवर हेरिटेज फॉरवर्ड' नाम दिया) किया था. टीम ने शोधपत्र में लिखा है कि पर्यटकों को दिए जाने वाले सारे ब्रॉशरों, नक्शों से ताज गंज को बाहर रखा गया है.

साथ ही रास्ता बताने वाले संकेत चिन्हों (साइनेज) के जरिए, ताज संग्रहालय में, पूर्वी द्वार के पास शिल्पग्राम परिसर में और वार्षिक ताज महोत्सव के दौरान आयोजित प्रदर्शनी और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी, ताज गंज के बारे में कोई जानकारी नहीं दी जाती.

उन्होंने सिफारिश की कि ताज गंज को 'विरासत परिसर' के रूप में मान्यता दी जानी चाहिए और पर्यटकों को 'अनोखा आगंतुक अनुभव' प्रदान करने के लिए उन्हें इस 'ऐतिहासिक इंतजाम' से होकर ताज तक ले जाने की कोशिश की जानी चाहिए.

इसकी बजाए ताज गंज के ताबूत में आखिर कील इस साल फरवरी में तब ठोक दी गई जब एएसआइ ने मूल योजना में हेर-फेर करते हुए ताज के इतिहास में पहली बार दक्षिणी गेट से प्रवेश पर ही प्रतिबंध लगा दिया.

दृश्य प्रदूषण

पिछले 40 वर्षों के दौरान संरक्षणकर्ताओं, पर्यावरणविदों, वकीलों और इतिहासकारों ने ताज महल की सुरक्षा और संरक्षण पर ध्यान खींचने के लिए रिट याचिकाओं, जनहित याचिकाओं और आरटीआइ के जरिए बड़े पैमाने पर कोशिशें की हैं.

खासतौर से एम.सी. मेहता, राजकुमार सिंह, दिवंगत डी.के. जोशी, भीम सिंह सागर, सुरेंद्र शर्मा, रामनाथ ने इसके लिए बहुत सक्रियता दिखाई है. मेहता की ताज को वायु प्रदूषण से बचाने की जनहित याचिका (एमसी मेहता बनाम केंद्र सरकार, 1996) पर सुनवाई के बाद ऐतिहासिक निर्णय आया था.

उन्होंने एक नए आवेदन में आरोप लगाया कि तेजी से शहरीकरण और शहर में चलने वाले विकास कार्यों वगैरह से नए प्रकार के दृश्य प्रदूषण को जन्म दिया है और इससे ताज को बहुत नुक्सान पहुंच रहा है.

दरअसल ऐसा माना जाता है कि वायु, मिट्टी, पानी, ध्वनि, प्रकाश और जैव रासायनिक—ये सभी प्रकार के प्रदूषण मिलकर एक नए प्रदूषण 'दृश्य प्रदूषण' या देखने में बाधा पहुंचाने वाले कारण को जन्म देते हैं. प्रदूषण की इस नई अवधारणा के बारे में अभी ज्यादा चर्चा नहीं होती.

संरक्षण वास्तुकार और दिल्ली स्थित इंटैक हेरिटेज अकादमी के मुख्य निदेशक नवीन पिप्लानी कहते हैं, ''यह एक प्रकार का प्रदूषण है जो किसी मनोरम स्थान को देखने का आनंद प्राप्त करने में बाधा पैदा करता है.''

पिप्लानी 2002 से ताज महल कंजर्वेशन कलैबरेटिव के मुख्य सदस्य के रूप में काम कर रहे हैं. प्रशासनिक लापरवाही के कारण ताज के आसपास की गलियों में पड़े फर्नीचरों से लेकर, हवा में लटकते हाइ वोल्टेज बिजली के तारों, बड़े-बड़े साइनबोर्ड और चारों तरफ बिखरे प्लास्टिक कचरे, ताज के देखने के आनंद को बाधित करते हैं और पिप्लानी के दृश्य प्रदूषण की अवधारणा यहां कभी भी महसूस की जा सकती है.

संरक्षणवादी अब इस दृश्य प्रदूषण से लडऩे के प्रयासों पर मंथन कर रहे हैं. वे बताते हैं, ''आज, ऐसा माना जाता है कि सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण के लिए प्रामाणिकता की अवधारणा एक नैतिक आधार है.''

डिजाइन की प्रामाणिकता, सामग्री, शिल्प कौशल और अनुभव की सत्यता के आधार पर ही विरासत के मूल्यों और गुणों की प्रामाणिकता तय होनी चाहिए.

ताज महल विश्व धरोहर है इसलिए यहां तो इसका खास तौर पर ध्यान रखा जाना चाहिए. पिप्लानी इसका तरीका बताते हैं, ''ऐतिहासिक सार तत्व को संरक्षित करें, विरासत के मूल्यों को पहचानें और उसकी प्रामाणिकता को बचाए रखें.''

रख-रखाव में कोताही

ताज गंज की घुमावदार गली में कुछ कदम चलें तो आप एक गुफा जैसे प्रवेश द्वार के सामने खड़े होंगे. वहां एक नीले साइनबोर्ड पर लिखा हैः ''दखिनी दरवाजा. भारत का पुरातत्व सर्वेक्षण. संरक्षित स्मारक.''

ताज गंज, ताज के दक्षिणी प्रवेश द्वार से जुड़ता है, जिसे सीधी या सीढ़ी दरवाजा कहा जाता है. हर दरवाजे के सामने एक कटरा बनवाया गया था. एएसआइ आज केवल दरवाजों का संरक्षण करता है, कटरों का नहीं.

हालांकि 'संरक्षण' का उसका दावा भी बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है. दरवाजे की दीवारों का प्लास्टर उखड़ा हुआ है, छत टूट रही है और इसके चारों ओर बेतरतीब निर्माण हो गए हैं.

कुल मिलाकर ये दरवाजे उपेक्षित खड़े नजर आते हैं. दीवारों पर कीलें ठोकी गई हैं जिन पर टिन की प्लेट का एक बोर्ड लटक रहा है, जो किसी पैथ लैब का इश्तेहार है.

कुछ दूरी पर शानदार छतों वाली एक पुरानी दोमंजिला हवेली खड़ी है. उसके प्रवेश द्वार के ऊपर, दीवार पर ही 'पाश्र्वनाथ जैन मंदिर' उत्कीर्ण है. दूसरी मंजिल पर संगमरमर के छज्जे और उनकी सुनहरी सजावट में 17वीं शताब्दी की मुगल वास्तुकला की विशेषताएं झलकती हैं.

इस मिश्रित वास्तुकला के पिछले हिस्से में, दीवारों पर सजी तस्वीरें और प्रदर्शन के लिए लगाई गईं छोटी-छोटी मगर असाधारण मूर्तियां, 400 साल के अनगिनत किस्से सुनाती हैं.

आसपास किसी से पूछ लें, कोई भी बता देगा कि यह जैन दार्शनिक, व्यापारी और शाहजहां के दरबारी मुंशी बनारसी दास की हवेली है. उन्होंने अर्धकथानक की रचना की, जो विभिन्न जैन ग्रंथों के अलावा किसी भारतीय भाषा में लिखी गई पहली आत्मकथा है. यह वही घर है, जहां शाहजहां अपने मुंशी के साथ चैपड़ खेलने आया करते थे. चौपड़ बोर्ड, जिस पर पिट्रा डुरा फूल कढ़ाई है, अभी भी यहां मौजूद है.

सांस्कृतिक विरासतें किसी समाज के इतिहास और भविष्य के बीच सेतु का काम करती हैं. क्या कोई एएसआइ से पूछेगा कि आखिर यह 'संरक्षित स्मारक' क्यों नहीं है? जब यही एएसआइ किसी भी स्मारक के 300 मीटर के दायरे में आने वाली हर इमारत की मरम्मत तक की इजाजत नहीं देता.

बेहिसाब लापरवाही

1. मकबरे के कक्ष के प्रवेश के पास दाईं ओर जाली मटमैली हो चली है, स्टील की रेलिंग लगाई गई है जबकि बाकी दुनिया में शीशे का इस्तेमाल किया जाता है

2. मकबरे की बाहरी दीवार पर अलग तरह का पत्थर लगाया गया है.

3. मकबरे के कक्ष में हरली जाली दरवाजे पर शीशे टूटे हुए हैं

1. दृश्य प्रदूषण का स्पष्ट प्रमाणः पूर्वी गेट के सामने पड़े धातु के पिंजरे और टूटे हुए लैंपस्टैंड के कारण लाइन में खड़े किसी पर्यटक को कब, क्या तकलीफ हुई होगी यह भले ही छुप जाए, लेकिन ये ताज के द्वार को देखने के आनंद को तो निश्चित तौर पर खराब करते हैं

2. मेहमानखाने की एक पूरी दीवार पर लोगों की बेशऊरी के निशान हैं. लाल बलुआ पत्थर पर खरोंचकर लोगों ने नाम और प्रेम के संदेश लिखे हैं

3. झरझरे लाल पत्थरों पर फूलों की पेचीदा सजावटों से भरी मेहमानखाने की छतों को फूहड़ ढंग से मसालों से भर दिया गया है  

4. विशाल दरवाजों की दीवारें धूल और मकडिय़ों के जाले से भरी हैं

5. सफाई करने वाला लोहे के बने एक नुकीले स्क्रैपर से मकबरे के पास के मुलायम लाल बलुआ पत्थर की फर्श को खुरचकर साफ कर रहा है

6. जाली पर धूल और कालिख की परतें, नदारद डिजाइन, दरारों और टूटे पत्थरों में बेरंग सीमेंट भरा गया है जो उसकी सुंदरता बिगाड़ता है

7. पूर्वी गेट की बगल में एक कक्ष. कई अन्य कक्षों की तरह, इसका उपयोग आधिकारिक काम के लिए होता है; बिजली के खुले तार, 400 साल पुरानी दीवारों में ठोकी गईं कीलें और हुक

8. एएसआइ का दावा है कि बीच में लगे फव्वारे चालू हालत में हैं. फव्वारे के हौज की नीली सतह टूटी पड़ी है, इस पर धब्बे लगे हैं और सुरक्षा कर्मचारियों के न होने के कारण अक्सर आगंतुक इसमें छपाके लगाने लगते हैं

9. नक्काशीदार पत्थर वाला एक टूटा स्तंभ. यह स्मारक से अलग होकर नदी की ओर की छत के एक कोने में पड़ा है.

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay