एडवांस्ड सर्च

शहदाबा: आम आदमी की संवेदनाओं की शायरी

उर्दू के शायर मुनव्वर राना को उनके संग्रह शहदाबा पर साहित्य अकादेमी पुरस्कार की घोषणा हुई, तो सोशल साइट्स पर फुसफुसाहटें तेज हो गईं.

Advertisement
aajtak.in
ओम निश्चलनई दिल्ली, 20 January 2015
शहदाबा: आम आदमी की संवेदनाओं की शायरी

शायरी


शहदाबा
शायरः मुनव्वर राना
वाणी प्रकाशन
मूल्य  225  रु.


उर्दू के शायर मुनव्वर राना को उनके संग्रह शहदाबा पर साहित्य अकादेमी पुरस्कार की घोषणा हुई, तो सोशल साइट्स पर फुसफुसाहटें तेज हो गईं. कहा गया-मां पर गजलें लिख उन्होंने जज्बाती शायरी को बढ़ावा दिया है या वे पॉपुलर शायर बेशक हों लेकिन उर्दू की महान शायरी परंपरा में अहम स्थान नहीं रखते.

जज्बाती शायरी के आरोप पर मुनव्वर ने खुद ही कहा था कि उनकी शायरी ओल्ड एज होम के खिलाफ ऐलान-ए-जंग है. वैसे वे वाकिफ हैं कि मां पर लिखी शायरी ने उन्हें मकबूलियत दी है-कौन समझाए ये तनकीद के शहजादों को/ मां पे हम शेर न कहते तो ये शोहरत होती? रायबरेली में जन्मे मुनव्वर की कलम में अवध की मिट्टी की खुशबू है तो अंतःकरण में मां, बेटियों और बुजुर्गों के लिए हमदर्दी.

उनकी संवेदना का आंगन विशाल है. उनके भीतर कौमी शायर भी सांस लेता है, मुहाजिरनामा जिसकी एक उम्दा मिसाल है. 2012 में प्रकाशित शहदाबा उनकी गजलों, नज्मों और मुख्तसर शेरों का संग्रह है. इसमें ज्यादातर उनकी नई गजलें हैं. नज्में पहली बार सामने आई हैं. हालांकि जो कमाल उनकी गजलों में है, वह नज्मों  में नहीं. लेकिन उनकी समग्र शायरी का चेहरा उनकी गजलों, नज्मों और प्रचुर मात्रा में लिखे ललित और वैचारिक गद्य से बनता है.

न्न्गालिब और मीर से होती हुई उर्दू शायरी आज जिस मुकाम पर आ पहुंची है, मुनव्वर उसकी नई कलम हैं. उन्होंने यथार्थ को करीब से देखा है, जिसकी मिसाल उनकी शायरी में हर कदम पर मिलती है-घर की जरूरतों के लिए अपनी उम्र को/बच्चे ने कारखाने की चिमनी पे रख दिया.

वे सियासी शायर नहीं हैं, लेकिन इस संग्रह की एक कमजोर नस सोनिया गांधी पर एक गजल है तो सहाराश्री को समर्पित एक गीत भी है. तो क्या सत्ता का विपक्ष मानी जाने वाली शायरी ने अब सीकरी की चौखट पर अपना माथा रख दिया है? यह बात कुछ खटकती है.

आम आदमी उनकी संवेदना की जद से कभी बाहर नहीं रहा और यही बात उनकी शायरी को खास बनाने का काम करती है. वे बोलचाल वाली भाषा से अपनी शायरी को सजाते हैं, और इसलिए उसे किन्हीं मायनों में कमतर नहीं आंक सकते.

मुनव्वर की शायरी इनसानियत के उस जज्बे को हासिल करने की दिशा में बढ़ती है जहां जाति, नस्ल और कौम का फर्क मिट जाता है. गजल में उनका दस्तखत सबसे अलहदा है. बकौल मुनव्वर-मेरी गजल में मेरी महक बरकरार है/ हर शेर पर है मोहर-ए मुनव्वर लगी हुई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay