एडवांस्ड सर्च

मिराज-2000 के क्रैश होने से उम्मीदें चकनाचूर

साल 2011 तक 49 मिराज विमानों को उन्नत बनाकर डिलीवर करना है, पर अब तक सिर्फ 10 विमानों को उन्नत बनाया जा सका है.

Advertisement
संदीप उन्नीथननई दिल्ली, 13 February 2019
मिराज-2000 के क्रैश होने से उम्मीदें चकनाचूर बेंगलूरू के एचएएल एयरपोर्ट पर दुर्घटनाग्रस्त मिराज का मलबा

हाल ही में उन्नत बनाए गए मिराज-2000 प्रशिक्षण विमान का क्रैश होना भारतीय वायु सेना और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के बीच टकराव का नया मुद्दा है. उस विमान में वायु सेना के दो परीक्षण पायलट मारे गए.

दो सीटों के मिराज-2000 ने 1 फरवरी को एचएएल के हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी. इसे वायु सेना के विमान और प्रणाली परीक्षण प्रतिष्ठान (एएसटीई) के दो परीक्षण पायलट उड़ा रहे थे. यह विमान की क्षमताओं के मूल्यांकन के लिए स्वीकृति उड़ानों का हिस्सा थी, जिसके बाद इसे वायु सेना में शामिल किया जाता.

विमान उसके पहियों को अंदर खींचे जाने से पहले ही रनवे पर गोते लगाता हुआ आ गिरा. विमान को रोकने के लिए बनाए गए अवरोधकों और अंदरूनी बाउंड्री वॉल को तार-तार करता हुए यह जेट अपने जुड़वा ड्रॉप टैंकों पर घिसटता चला गया, जिनमें से हर टैंक में 1,700 लीटर ईंधन भरा था. स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल और उनके सह-पायलट स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी सुरक्षित ढंग से बाहर निकल आए, पर बदकिस्मती से वे धू-धूकर जलते हुए मलबे पर गिरे और उससे लगी चोटों की वजह से मारे गए.

शोक और तकलीफ में डूबे वरिष्ठ सैनिकों ने इस खौफनाक हादसे को सरकारी उद्यम, एचएएल की बेरुखी और लापरवाही के तौर पर देखा. पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल अरुण प्रकाश ने क्रैश के एक दिन बाद ट्वीट किया, ''सेना दशकों से एचएएल की खराब क्वालिटी की मशीनें उड़ाती आ रही है और अक्सर नौजवान जिंदगियों से इसकी कीमत चुकाई है, लेकिन एचएएल के मैनेजमेंट के लिए इसका कोई मोल नहीं है. इस विशाल सरकारी उद्यम के नेतृत्व और डायरेक्टरों पर ध्यान देने का वक्त अब आ गया है.''

वायु सेना ने एक बोर्ड ऑफ इन्क्वायरी गठित किया है जो क्रैश की वजहों की जांच कर रहा है. ज्यादा जानकारी तब सामने आएगी, जब विमान का फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉइस रिकॉर्डर, जो दोनों ही बुरी तरह तहस-नहस हो चुके हैं, जांच और विश्लेषण के लिए फ्रांस की रेसडा लैबोरेटरी को भेजे जाएंगे. यह लैबोरेटरी हवाई दुर्घटनाओं की जांच के लिए समर्पित एजेंसी है जो फ्रांस के रक्षा मंत्रालय की खरीद एजेंसी डीजीए के मातहत काम करती है.

लड़ाकू विमानों की जबरदस्त कमी—42 की स्वीकृत क्षमता के मुकाबले उसके पास सिर्फ 31 स्क्वॉड्रन हैं—का सामना कर रही वायु सेना ने हाल में एचएएल से मिलने वाले विमानों की डिलीवरी में देरी को लेकर सार्वजनिक नाखुशी जाहिर की है. इनमें उन्नत बनाए गए मिराज भी शामिल हैं. सभी 49 उन्नत मिराज साल 2021 तक डिलीवर किए जाने हैं, पर अभी तक सिर्फ 10 को उन्नत बनाया जा सका है. देरी की वजहें बताते हुए एचएएल का कहना है कि यह पेचीदा कार्यक्रम है जिसमें कई पार्टनरों—दासो, एचएएल और थेल्स—के बीच काम की साझेदारी के मुद्दे होते हैं और फ्रांस से अपग्रेड किट मिलने में भी देरी हुई है.

वायु सेना ने क्रैश की जांच के लिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दे दिया है जिसमें एचएएल भी हिस्सा लेगा. उन्नत बनाए गए मिराज 17,547 करोड़ रु. के उस ठेके का हिस्सा थे जिस पर भारत ने 2011 में लड़ाकू विमान निर्माता दासो के साथ दस्तखत किए थे और जिसके तहत 1984 में खरीदे गए 49 मिराज-2000 के बेड़े को उन्नत बनाया जाना था. इनमें से दो विमान फ्रांस में उन्नत किए गए और फिर 2015 में उड़ाकर भारत लाए गए.

क्रैश का शिकार हुए दो सीटों के विमान बचे हुए 47 मिराज विमानों में शामिल थे जिन्हें फ्रांस की मदद से एचएएल, बेंगलूरू में नई साज-सज्जा दी जा रही है. यह इनके जीवनकाल को बढ़ाने वाला कार्यक्रम है जिससे इनका साल 2040 तक सेवा में रहना सुनिश्चित हो सकेगा. उन्नत बनाए गए हर विमान को कांच के नए कॉकपिट, रडार, मिसाइलों और आत्मरक्षा के सुइट से लैस किया जाएगा. मगर इसकी बहुत भारी लागत आएगी—प्रति विमान 340 करोड़ रु. की कीमत तकरीबन बिल्कुल नए हल्के लड़ाकू विमान की लागत के बराबर है.

यही वजह है कि वरिष्ठ सैन्य अफसरों का कहना है कि इस क्रैश के कारणों का पता लगाने के लिए निष्पक्ष जांच बेहद जरूरी है. 1973 में वायु सेना टेस्ट पायलट स्कूल की स्थापना करने वाले विंग कमांडर जोसफ थॉमस (सेवानिवृत्त) कहते हैं, ''किसी स्वतंत्र एजेंसी मसलन सीइएमआइएलएसी—सेंटर फॉर मिलिटरी एयरवर्दीनेस—से निष्पक्ष जांच कराना बेहद जरूरी है क्योंकि उनके पास विशेषज्ञता है, वे डीआरडीओ के मातहत हैं तथा इसलिए वायु सेना और एचएएल दोनों से स्वतंत्र हैं.''

साल 1984 में खरीदा गया मल्टीरोल मिराज-2000एच वायु सेना की रीढ़ है जो कई तरह से उपयोगी है. इसकी मुख्य वजह यह है कि इसकी उपलब्धता बहुत ज्यादा है—इसका 80 फीसदी से ज्यादा बेड़ा उपलब्ध है जबकि एसयू 30 का महज 60 फीसदी बेड़ा ही उपलब्ध है. परमाणु हथियार ले जाने की उनकी भूमिका भी उन्हें स्ट्रैटजिक फोर्स कमान के लिए अहम बना देती है. सेना में उनके लंबे वक्त तक रहने की संभावना को देखते हुए वायु सेना जांच के जल्दी पूरा होने का इंतजार कर रही है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay