एडवांस्ड सर्च

मध्य प्रदेश -कांग्रेस में कलह

दिग्विजय और सिंघार में पहले भी तकरार हो चुकी है. अपना नाम जाहिर न करने की शर्त पर एक मंत्री ने बताया कि ''केवल सिंघार नहीं, राहुल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद उनका करीबी होने का दावा करने वाले सभी मंत्री अब नया राजनैतिक गॉडफादर खोजने में लग गए हैं.’’

Advertisement
aajtak.in
राहुल नरोन्हा नई दिल्ली, 12 September 2019
मध्य प्रदेश -कांग्रेस में कलह सत्ता का खेल दिग्विजय सिंह के पत्र चर्चा में

राज्य के वन मंत्री उमंग सिंघार ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर एक विरोधी सत्ता केंद्र बनने और राज्य में पार्टी की सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को शिकायती पत्र लिखा है. प्रदेश में पार्टी के सत्ता में आने के बाद से ही कांग्रेस के नेताओं में नाराजगी चल रही थी, लेकिन यह पहली बार है जब किसी मंत्री ने पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के खिलाफ खुलकर आवाज उठाई है.

पत्र में सिंघार ने पूर्व मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया है कि वे सभी मंत्रियों (केवल अपने बेटे शहरी प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह को छोड़कर) को उनकी ओर से पत्र लिखकर विपक्ष को मौका मुहैया करा रहे हैं. सिंघार के अनुसार, दिग्विजय सिंह ने मंत्रियों से, अपनी ओर से भेजे राजनैतिक अनुरोधों की स्थिति के बारे में जानकारी मांगी थी. सिंघार ने 1 सितंबर को मीडिया को बताया, ''दिग्विजय के बारे में मैं इतना ही बता सकता हूं कि सभी जानते हैं परदे के पीछे से कौन सरकार चला रहा है. तो फिर वे क्यों मंत्रियों को पत्र लिख रहे हैं?''

3 सितंबर को सिंघार ने दिग्विजय पर सरकार से 'ब्लैकमेलिंग' और अफसरों के जरिये नीतियां प्रभावित करने का आरोप लगाया. इस बार उन्होंने जयवर्धन का नाम भी लिया, वे उन्हें भी लपेटना चाहते हैं. जयवर्धन को अक्सर प्रदेश कांग्रेस का उभरता सितारा करार दिया जाता है.   

पर्यवेक्षक मानते हैं कि खुला आरोप लगाने का मकसद सरकार में दिग्विजय सिंह का दखल रोकना है. यह राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोडऩे के बाद बदले राजनैतिक परिदृश्य का नतीजा भी है. धार जिले के आदिवासी विधायक सिंघार, दिवंगत जमुना देवी के भतीजे हैं. जमुना देवी 1990 के दशक के आखिरी वर्षों में दिग्विजय की कैबिनेट में उपमुख्यमंत्री रह चुकी हैं. दिग्विजय सिंह बुआजी के नाम से मशहूर जमुना देवी का सम्मान करते थे लेकिन उन्हें उनके खेमे का नहीं माना जाता था.

2018 के दिसंबर में कांग्रेस के सत्ता में वापसी करने के बाद उमंग को कैबिनेट मंत्री बनाया गया और वन मंत्रालय सौंपा गया. मंत्रिमंडल में उन्हें लेने के पीछे राहुल गांधी से उनकी नजदीकी मानी गई न कि कमलनाथ, दिग्विजय या ज्योतिरादित्य सिंधिया का पसंदीदा व्यक्ति होना. तीनों नेताओं ने अपनी पसंद के करीब आठ-आठ मंत्री बना लिए थे.

दिग्विजय और सिंघार में पहले भी तकरार हो चुकी है. अपना नाम जाहिर न करने की शर्त पर एक मंत्री ने बताया कि ''केवल सिंघार नहीं, राहुल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद उनका करीबी होने का दावा करने वाले सभी मंत्री अब नया राजनैतिक गॉडफादर खोजने में लग गए हैं.'' सिंघार पिछले कुछ समय से मुख्यमंत्री कमलनाथ से नजदीकी बढ़ाने की कोशिश करते रहे हैं. कमलनाथ भी इधर कैबिनेट की हर महत्वपूर्ण समितियों में सिंघार को नामांकित कर रहे हैं.

दिग्विजय और कमलनाथ में एक मजेदार संबंध चलता आ रहा है. दिग्विजय जब मुख्यमंत्री थे तो दिल्ली में आलाकमान के साथ संबंध दुरुस्त रखने में उन्हें कमलनाथ सहयोग करते थे. अब दोनों की भूमिकाएं उलट गई हैं और कमल नाथ सरकार चलाने में दिग्विजय के सहयोग पर निर्भर हैं. वे प्रतिद्वंद्वियों को शिकस्त देने में एक-दूसरे का साथ देते रहे हैं, पहले शुक्ल बंधुओं को और अब ज्यातिरादित्य सिंधिया को.

दिग्विजय खेमे को लगता है कि सिंघार का इस तरह खुलेआम विरोध जताने का मकसद दोनों नेताओं के बीच दरार पैदा करने की कोशिश है. एक और मामला भी है जिसे लेकर हर कोई कयास लगा रहा है. मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल में फेरबदल होने वाला है, जिसमें कुछ मंत्रियों को हटाया जा सकता है और उनकी जगह नए चेहरे लिए जा सकते हैं. जाहिर है, मौजूदा मंत्रियों पर दबाव बना हुआ है.

राहुल के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद, उनका करीबी होने का दावा करने वाले मंत्री अब नया गॉडफादर खोज रहे है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay