एडवांस्ड सर्च

मध्य प्रदेश-वजनदार चुनाव

कांग्रेस को पूरा एहसास है कि झाबुआ में जीत बेहद जरूरी है. 230 सदस्यीय विधानसभा में उसके 114 विधायक हैं और सरकार चार निर्दलीय, दो बसपा तथा एक सपा विधायक के समर्थन पर टिकी है.

Advertisement
aajtak.in
राहुल नरोन्हा नई दिल्ली, 15 October 2019
मध्य प्रदेश-वजनदार चुनाव थोड़ी बेचैनी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ

मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले में 21 अक्तूबर को होने वाला विधानसभा उपचुनाव सत्तारूढ़ कांग्रेस के लिए करो या मरो का चुनाव है. भाजपा के जी.एस. डामोर ने रतलाम से लोकसभा का सदस्य बनने के बाद यहां के विधायक पद से इस्तीफा दे दिया, जिससे यह सीट खाली हुई. कांग्रेस इस चुनाव में पूरा जोर लगा रही है.

उसने अपने दिग्गज नेता कांतिलाल भूरिया को भाजपा उम्मीदवार और भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष भानू भूरिया के खिलाफ मैदान में उतारा है. कांतिलाल भूरिया रतलाम से डामोर के खिलाफ लोकसभा चुनाव हार गए थे.

कांग्रेस को पूरा एहसास है कि झाबुआ में जीत बेहद जरूरी है. 230 सदस्यीय विधानसभा में उसके 114 विधायक हैं और सरकार चार निर्दलीय, दो बसपा तथा एक सपा विधायक के समर्थन पर टिकी है. झाबुआ में जीत से कांग्रेस की संख्या 115 हो जाएगी और एक निर्दलीय विधायक प्रदीप जायसवाल मंत्री हैं, इसलिए पार्टी को 116 विधायकों का समर्थन मिल जाएगा.

इससे उसे सामान्य बहुमत हासिल हो जाएगा. लेकिन विरासत के पचड़े, अंदरुनी कलह और झाबुआ में पिछली हार के कारण इस बार भी जीत इतनी आसान नहीं है. हालांकि झाबुआ में आदिवासी वोटरों की अच्छी तादाद है और कभी इसे कांग्रेस का गढ़ माना जाता था.

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कलह पर सबसे पहले ध्यान दिया. इसकी जड़ में पूर्व विधायक जेवियर मेडा और कांतिलाल भूरिया के बीच प्रतिद्वंद्विता है. पिछले विधानसभा चुनाव में मेडा झाबुआ सीट से लडऩा चाह रहे थे पर टिकट कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया को मिला. उस चुनाव में विक्रांत डामोर से 10,000 वोटों से हार गए जबकि निर्दलीय लड़े मेडा को करीब 35,000 वोट मिले.

इस बार उपचुनाव में भी मेडा ने उम्मीदवार बनाने की मांग की थी पर अब वे कांतिलाल के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. इससे पता चलता है कि पार्टी नेतृत्व ने पुख्ता दखल दिया है. कांतिलाल के प्रचार में उनकी भतीजी कलावती भूरिया भी जोर लगा रही हैं, जो पास की जोबट सीट से विधायक हैं.

भाजपा उम्मीदवार भानू भूरिया का संबंध भी एक पूर्व कांग्रेसी परिवार से है. उनके पिता कांग्रेस के विधायक रहे हैं. भानू को इलाके के युवाओं का भी समर्थन प्राप्त है. भाजपा को उम्मीद है कि उनकी लोकप्रियता और लोकसभा चुनाव में मिले शानदार नतीजों का इस चुनाव में लाभ मिलेगा. इस जीत से भाजपा की स्थिति तो पहले जैसी ही रहेगी, पर इससे पार्टी के उन लोगों में उत्साह आ जाएगा, जो यह मानते हैं कि दलबदल कराके राज्य सरकार को गिराया जाए और सत्ता हासिल की जाए.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay