एडवांस्ड सर्च

सिनेमा-बाईजी, तवायफ या फिर देवी

हिंदी फिल्मों में तवायफों को दीन-हीन और इकहरे किरदार के रूप में दिखाया जाता है, पर इतिहास गवाह है कि वे कहीं ज्यादा इंकलाबी और जोशीली हुआ करती थीं

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 08 May 2019
सिनेमा-बाईजी, तवायफ या फिर देवी माधुरी दीक्षित

कलंक (2019) की कहानी बंटवारे से पहले के हिंदुस्तान की पृष्ठभूमि में 1945 में घटित होती है. यह वह वक्त था जब राष्ट्रीय एकता से ज्यादा धर्म की अहमियत थी. इस फिल्म में एक मुस्लिम तवायफ बहार बेगम (माधुरी दीक्षित) पहली सेकुलर नायिका के तौर पर सामने आती है. वह राम की जीत के गीत गाती और अपने कोठे को नटराज की मूर्ति से सजाती है. वह बदनसीब नहीं, अपनी नियति की मालिकन है. माधुरी ने देवदास (2002) में गणिका चंद्रमुखी का किरदार किया था और खलनायक (1993) में 'चोली के पीछे' पर डांस करके 'सबसे मशहूर तवायफ' बन गई थीं. इस काम में खुद अपनी ही पूर्वज माधुरी को शायद तवायफों पर बनी फिल्मों—मुगले आजम (1960), पाकीजा (1972), उमराव जान (1981) —से प्रेरणा लेने की जरूरत न थी.

पूरी 235 फिल्मों में पेश तवायफों को देखने के बाद डांसिंग विद द नेशनः कोर्टिजंस इन बॉम्बे सिनेमा की लेखिका रुथ वनिता मानती हैं कि हिंदी फिल्मों ने तवायफों को शायद ही कभी पतित और अबला के तौर पर पेश किया है. उन्हें ''पढ़ी-लिखी, अपने हुनर में डूबी, यहां तक कि अमीर, आधुनिक औरत की तरह दिखाया गया है, जो मन मुताबिक काम करती हैं और अक्सर बिनब्याही मां हैं."

कनाडा में रहने वाली प्रोफेसर टेरेसा हुबेल और नंदी भाटिया एक प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं, जो साहित्य, फिल्म और ऐतिहासिक दस्तावेजों में तवायफों और देवदासियों के चित्रण पर केंद्रित है. हुबेल कहती हैं, ''हिंदी फिल्मों में उन्हें बुनियादी तौर पर त्रासद और दुखी शख्सियतों के तौर पर दिखाने का रुझान है." उन्हें रात्रिसंगी चुनने, खुलेआम नाचने-गाने, मुंहफट बोलने की आजादी दूसरी स्त्रियों से ज्यादा दी जाती है, पर साथ ही उन्हें समाज सुधार के एजेंडे का हिस्सा बना लिया जाता है.

पिछले हफ्ते मुंबई के रॉयल ओपेरा हाउस में कथक नृत्यांगना मंजरी चतुर्वेदी ने बॉलीवुड की 'बेगमों और बाईजी' को अपनी आदरांजलि पेश की. उन्हें लगता है कि हाल की फिल्मों में तवायफें ''या तो तरस खाने की चीज रही हैं या नफरत करने की". इतिहास दूसरी ही कहानी बयान करता है. ''वे तवायफें न होतीं, जो बॉलीवुड की पहली अदाकारा, गायिकाएं, निर्देशिकाएं और निर्माता थीं, तो हिंदी फिल्म इंडस्ट्री भी न होती." चतुर्वेदी अपने मौजूदा 'कोर्टिजन प्रोजेक्ट' की कहानियां अक्सर कथक में भी शामिल करती हैं.

निर्देशक मुजफ्फर अली ने 79 वर्षीया तवायफ जरीना बेगम से 1996 की अपनी टीवी सीरीज हुस्ने जाना के लिए गाने की गुजारिश की थी. मगर 2009 में जब चतुर्वेदी लखनऊ गईं, तो उन्हें लकवाग्रस्त, किराए के तंग घर में बैठे पाया. वे याद करती हैं, ''मैंने उनसे पूछा उनकी कोई ख्वाहिश है, उन्होंने इतना ही कहा कि वे बनारसी साड़ी पहनकर मंच पर गाना चाहती हैं." चतुर्वेदी उन्हें अपने खर्चे पर दिल्ली के कमानी ऑडिटोरियम लेकर आईं. वे कहती हैं, ''तवायफ, कोठा और मुजरा लफ्ज लोग हिकारत के साथ ही बोलते हैं." उन्हें अंदाज ही नहीं कि गणिकाओं ने 400 साल तक ठुमरी और कथक सरीखी परंपराएं जिंदा रखी हैं.

पिछले हफ्ते मुंबई में गणिकाओं की संस्कृति पर 'तहजीब-ए-तवायफ' का आयोजन हुआ था जिसमें चतुर्वेदी के साथ हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायिका शुभा मुद्गल भी एक पैनल में थीं. वे कहती हैं, ''ठुमरी गायकी की एक शैली थी जिसे तवायफों ने अपनी उम्दा गायकी से इस कदर लोकप्रिय बनाया कि यह पूरी तरह उनके साथ जुड़ गई." इस जुड़ाव का फायदा बदकिस्मती से ठुमरी को नहीं मिला. बकौल मुद्गल, ठुमरी के अंतरंग और शृंगारिक तत्वों को हल्का ठहराया जाता है और इस तरह ''इसे ज्यादा तुच्छ, सतही गायकी और दिल को छू लेने वाली शानदार खूबियों से महरूम मान लिया जाता है जो सिद्धेश्वरी देवी और रसूलन बाई सरीखी महान गायिकाओं ने इसमें पैदा की थीं."

बताते हैं कि 1948 में मुजरे को तिलांजलि देने के दो दशक बाद रसूलन बाई इलाहाबाद में ऑल इंडिया रेडियो की बिल्डिंग के बाहर टी स्टॉल चलाती थीं. जिन दिनों उन्हें गाने के लिए भीतर बुलाया जाता, वे अपने वक्त की जानी-मानी गायिकाओं के साथ अपनी तस्वीर टंगी हुई देखतीं और कहतीं, ''वे सब देवियां हैं. मैं ही एक बाई बची हूं." साफ है कि तवायफों के इंकलाब को भी साफ-सुथरा नहीं बनाया जा सकेगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay