एडवांस्ड सर्च

राज्यों की दशा-दिशा 2014: जम्मू-कश्मीर भी दिखाने लगा जलवा

जम्मू और कश्मीर में 1961 में पुरुष साक्षरता दर 16.97 फीसदी थी, जबकि महिला साक्षरता दर तो सिर्फ 4.26 फीसदी. पांच दशक बाद 78.26 फीसदी कश्मीरी पुरुष और 58.01 फीसदी महिलाएं साक्षर हैं.

Advertisement
नसीर गनईनई दिल्ली, 04 November 2014
राज्यों की दशा-दिशा 2014: जम्मू-कश्मीर भी दिखाने लगा जलवा

जम्मू और कश्मीर में 1961 में पुरुष साक्षरता दर 16.97 फीसदी थी, जबकि महिला साक्षरता दर तो सिर्फ 4.26 फीसदी. पांच दशक बाद 78.26 फीसदी कश्मीरी पुरुष और 58.01 फीसदी महिलाएं साक्षर हैं. राज्य में कई दशक से जारी संघर्ष के बावजूद यह कामयाबी हासिल हुई है.

शिक्षा में अव्वल जम्मू-कश्मीरराज्य के पूर्व शिक्षा आयुक्त और सचिव नसीमा लंकर ने इसका श्रेय सरकार और निजी स्तर पर किए गए अनेक प्रयासों को दिया. केंद्र सरकार प्रायोजित और स्थानीय स्तर पर अपनाई गई योजनाओं जैसे सर्व शिक्षा अभियान, मिड डे मील योजना और राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान से बहुत मदद मिली.

मौजूदा शिक्षा सचिव निर्मल शर्मा के अनुसार, इन योजनाओं से छात्रों की भर्ती में काफी सहायता मिली है. मिड डे मील योजना में 7,43,946 प्राइमरी और 3,62,920 मिडल स्कूल बच्चे शामिल हैं.

क्षेत्रीय स्तर पर स्पर्धा की राजनीति से भी राज्यों को लाभ हुआ है. मसलन, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पिछली
यूपीए सरकार के कार्यकाल में जब कश्मीर घाटी के लिए

केंद्रीय विश्वविद्यालय घोषित किया तो जम्मू के निवासी भी उसके लिए आंदोलन करने लगे. आखिरकार केंद्र में वहां अलग विश्वविद्यालय मंजूर कर दिया. इस तरह एक पस्त माने जाने वाला राज्य कई क्षेत्रों में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद अपने हाथ खोल रहा है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay