एडवांस्ड सर्च

एक और 'अयोध्या' की तैयारी

दक्षिण में पैठ बनाने और ध्रुवीकरण के लिए भाजपा ने केरल में सबरीमाला आस्था को हवा देने की पटकथा तैयार की.

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर 09 November 2018
एक और 'अयोध्या' की तैयारी केरल के दौरे पर पहुंचे अमितशाह कुन्नुर एयरपोर्ट पर

शनिवार, 27 अक्तूबर को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह वैसे तो केरल के कुन्नूर में बने पार्टी के नए जिला कार्यालय का उद्घाटन करने गए थे लेकिन वहां उन्होंने धर्म, संस्कृति और परंपराओं की रक्षा के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को डट जाने का फरमान जारी किया. उन्होंने कहा, "आस्था के सवाल पर, भाजपा के कार्यकर्ता, भक्तों के साथ चट्टान की तरह खड़े रहेंगे.'' आस्था को लेकर भाजपा का यह संकल्प अपनी स्थापना (1980) के बाद पहली बार उत्तर भारत (अयोध्या) से आगे बढ़कर दक्षिण भारत (सबरीमला) में पहुंच गया है. असल में भगवा ब्रिगेड ने दक्षिण में अपने विस्तार की योजनाओं की रूप-रेखा अप्रैल 2017 में ओडिशा में भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में ही तैयार कर ली थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट के सबरीमला फैसले ने उसे अपने सियासी चाक पर दक्षिण में एक और "अयोध्या'' गढऩे का मौका दे दिया.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारी जीत से उत्साहित भाजपा ने भुवनेश्वर में 15-16 अप्रैल, 2017 को दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अपने विस्तार की रणनीति बनाई. तय किया गया कि 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा उन राज्यों पर फोकस करेगी जहां पर पार्टी का जनाधार कमजोर है. ऐसी 117 संसदीय सीटों की पहचान कर उन्हें जीतने का लक्ष्य रखा गया. केरल की 20 सीटें भी इन्हीं 117 सीटों में शामिल हैं.

भाजपा महासचिव अरुण सिंह कहते हैं, "ओडिशा कार्यकारिणी में तय किया गया कि जिन राज्यों में पार्टी कम मजबूत है, वहां पार्टी कार्यकर्ताओं की तैनाती की जाए. 15 दिनों के लिए 3,68,000 कार्यकर्ताओं को इन राज्यों में तैनात किया गया. फिर, छह माह से लेकर एक साल के लिए 4,000  कार्यकर्ताओं की तैनाती हुई.'' सूत्रों के मुताबिक, इन कार्यकर्ताओं में 680 कार्यकर्ता केरल भेजे गए. बैठक के बाद अगले दिन अमित शाह ने "मिशन केरल'' का खाका तैयार किया.

मिशन केरल के तहत यह तय किया गया कि अगामी शिवरात्रि (13 फरवरी, 2018) को अयोध्या से रामेश्वरम तक 41 दिनों की रामराज रथयात्रा की शुरू की जाएगी. 6,000 किमी की यह यात्रा 6 राज्यों—उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु से गुजरी जिसके तहत 224 लोकसभा सीटें आती हैं. रामेश्वरम में यात्रा पूर्ण होने से पहले भाजपा, आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के लोगों ने तिरुवनंतपुरम में यात्रा का भव्य स्वागत किया.

सूत्रों के मुताबिक, भाजपा यह मानकर चल रही थी कि केरल सरकार यात्रा को रोकने की कोशिश करेगी और फिर भाजपा को मुद्दा मिल जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो योजना धरी रह गई. लेकिन पार्टी उचित मौके की तलाश में डटी रही. आखिरकार भाजपा और इसके पितृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को 28 सितंबर को वह अवसर हाथ लगा जिससे उसे केरल में एक और "अयोध्या'' गढऩे का आस्थारूपी औजार मिल गया.

सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर को सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश की अनुमति दे दी. केरल की वाममोर्चा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू करने का ऐलान किया तो भाजपा और आरएसएस और संघ के आनुषंगिक संगठन विरोध में उतर गए.

फैसला आने के बाद चार हक्रते तक संघ परिवार और भाजपा के नेता सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ तो कुछ नहीं बोले लेकिन आस्था का वास्ता देकर यह कहते रहे कि सबरीमला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं का प्रवेश नहीं होने देंगे. इसके बावजूद सबरीमला को अयोध्या के राम मंदिर जैसा सियासी पैनापन नहीं मिल पा रहा था. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्रीधरन पिल्लै का कहना है, "हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानते हैं लेकिन यह मुद्दा कानून का नहीं, बल्कि आस्था का है.'' जब उनसे पूछा गया कि केंद्र सरकार अदालत के फैसले के खिलाफ अध्यादेश क्यों नहीं ला रही है तो उन्होंने कहा, "आगे की रणनीति केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा. हम तो अभी प्रदेश की वाम मोर्चा सरकार से मांग कर रहे हैं कि राज्य सरकार खुद ही अध्यादेश लाए जैसा कि जलीकट्टू को लेकर तमिलनाडु सरकार अध्यादेश लेकर आई थी.''

भाजपा दो कदम आगे और एक कदम पीछे की रणनीति पर तब तक चलती रही जब तक अमित शाह ने खुद केरल का रुख नहीं किया. कुन्नूर में 27 अक्तूबर को अमित शाह ने सबरीमला प्रकरण को वह पैनापन देने की कोशिश कि जिससे आस्था के नाम पर न सिर्फ केरल बल्कि आसपास के राज्यों के हिंदू वोटरों को भाजपा के पक्ष में किया जा सके. कुन्नूर में अमित शाह ने कहा, "केरल की जनता देश के महान धर्म, संस्कृति, आस्था और परंपराओं की रक्षा के लिए भाजपा का समर्थन करे.''

शाह यहीं नहीं रुके. उन्होंने आस्था के मुद्दे पर हिंदू वोटों के ध्रुवीकरण को लक्ष्य में रखते हुए यहां तक कहा कि "केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन सुप्रीम कोर्ट के मस्जिदों में माइक पर अजान के फैसले को लागू करेंगे! क्या उनमें ऐसा कर पाने का साहस है. जब विजयन ऐसा नहीं कर सकते तो फिर भगवान अयप्पा के भक्तों पर अत्याचार क्यों कर रहे हैं.'' शाह यह कहने से भी नहीं चूके कि कोर्ट के कई फैसले ऐसे हैं जिन पर आज तक अमल नहीं हुआ है, फिर भगवान अयप्पा के भक्तों पर अत्याचार क्यों किया जा रहा है. शाह ने संघ और भाजपा के उन कार्यकर्ताओं को भी श्रद्धांजलि दी जिनकी हत्या केरल में पिछले कुछ साल में हुई है.

बाकी पार्टियां भाजपा की इस रणनीति को नहीं समझ पा रही हैं, ऐसा नहीं है. केरल कांग्रेस के प्रमुख एम. रामचंद्रन कहते हैं, "भाजपा सबरीमला को भी अयोध्या बनाना चाह रही है लेकिन हमारी पार्टी भाजपा की सफल नहीं होने देगी.'' अब देखना है, किसकी रणनीति और कोशिश सफल होती है.

उत्तर बनाम दक्षिण की "अयोध्या''

अयोध्या की रणनीति

सोमनाथ से अयोध्या तक रथ यात्रा का आयोजन हिंदू वोटों के ध्रुवीकरण के लिए भाषण कानून बनाकर मंदिर बनाने का तर्क

मारे गए कारसेवकों को श्रद्धांजलि देनाविहिप और आरएसएस का सहयोग

सबरीमला की रणनीति

अयोध्या से रामेश्वरम तक रामराज रथ यात्रा आयोजित

आस्था के नाम पर केरल में हिंदुओं को एकजुट करना

अध्यादेश लाकर आस्था को बहाल करने की मांग

विचारधारा के प्रचार में मारे गए कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि

संघ और विहिप का सहयोग

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay