एडवांस्ड सर्च

कश्मीर की खबरों पर ही जंग

इस मामले में भारत दुनिया में सबसे आगे है और ऐसा ज्यादातर कश्मीर में होता है. श्रीनगर में बंद कर दी गई एक मस्जिद के बाहर खड़े आमिर अहमद कहते हैं, ''सब कुछ बंद था. मैं अपने परिवार के साथ त्योहार मनाने दुबई से घर आया था.''

Advertisement
aajtak.in
सौगत दासगुप्ता नई दिल्ली, 19 August 2019
कश्मीर की खबरों पर ही जंग जमीनी हकीकत ईदुज्जुहा की नमाज के बाद श्रीनगर में प्रदर्शन करते कश्मीरी

इंटरनेट का उपयोग करने वाला कोई भी शख्स—भारत का कोई भी व्यक्ति जो कश्मीर में न रहता हो—इससे अनजान नहीं होगा कि कश्मीर को लेकर जो कुछ हमारी सरकार (हमारे मीडिया का बड़ा वर्ग भी) बता रही है और जो विदेशी प्रेस तथा भारतीय मीडिया के कुछ हिस्से में बताया जा रहा है, उसमें कितना अंतर है. एक ओर शांति की सरकारी कहानी है कि लोग राज्य को केंद्रशासित प्रदेश बनाकर उसके दर्जे को कम किए जाने को स्वीकार कर रहे हैं और भविष्य (अगर जम्मू और लद्दाख के लोगों की तरह उत्साहित नहीं हैं तो भी) को लेकर आशावादी हैं.

इस विवरण में धीरे-धीरे सामान्य स्थिति बहाल होने की बात कही जा रही है. कहा जा रहा है कि ऐसा कोई प्रदर्शन नहीं हुआ जिसमें 20 से ज्यादा लोगों का जमावड़ा हुआ हो. दूसरी ओर, प्रतिष्ठित विदेशी मीडिया ने खबर दी है कि प्रदर्शनकारियों की 10,000 से ज्यादा की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस और पेलेट गन का प्रयोग किया गया. कुछ भारतीय पत्रकारों ने भी पेलेट गन के प्रयोग की बात कही है और ऐसे युवाओं की तस्वीरें दिखाईं जिन्हें पेलेट गन के कारण आंख में गंभीर चोटें आई हैं और वे अस्पतालों में हैं.  

लगता है, कश्मीर घाटी में ईदुज्जुहा पर शांति दिखी तो इसलिए क्योंकि (पूर्व) राज्य को सुरक्षा के महाजाल में बंद रखा गया था. एक हफ्ते से सड़कें वीरान हैं जिन पर सुरक्षाबलों ने कांटेदार तारों की बाड़ लगा दी है. विदेशों में या भारत के अन्य हिस्सों में रहने वाले परिजनों से टेलीफोन पर चंद मिनट बात करने के लिए लोगों को घंटों कतार में लगना पड़ रहा है. इंटरनेट तो पहले से बंद किया जाता रहा है.

इस मामले में भारत दुनिया में सबसे आगे है और ऐसा ज्यादातर कश्मीर में होता है. श्रीनगर में बंद कर दी गई एक मस्जिद के बाहर खड़े आमिर अहमद कहते हैं, ''सब कुछ बंद था. मैं अपने परिवार के साथ त्योहार मनाने दुबई से घर आया था.'' श्रीनगर की एक मस्जिद के मौलवी ने कहा कि ईद के एक दिन पहले, उन्हें बताया गया कि ''लोगों को नमाज़ अदा करने दी जाएगी. फिर देर रात आदेश आए कि किसी को भी अंदर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी.'' वहीं प्रशासन के एक बयान में कहा गया है कि ''लोंगों को नमाज की सुविधा के लिए व्यापक इंतजाम किए गए थे.''

वहीं, नियंत्रण रेखा (एलओसी) की ओर सुरक्षा व्यवस्था कम सख्त है. तंगधार सेक्टर में ईद से पहले की रात ग्रामीण शुक्रवार की नमाज के लिए जमा हुए. अधिकतर गुज्जर, बकरवाल और पहाड़ी हैं, जो घाटी से कटा हुआ महसूस करते हैं. वे कहते हैं कि उनकी पहचान अलग है, उनकी भाषा भी अलग 'पहाड़ी' है. उनकी चिंताएं भी राजनीति से कम, अस्तित्व से ज्यादा जुड़ी हैं. उनकी चिंता गरीबी और पाकिस्तान की ओर से दागे जाने वाले गोले अधिक हैं.

दुकानदार मोहम्मद मकबूल का कहना है कि अनुच्छेद 370 ''रहे या खत्म हो जाए, इसका हमारे जीवन पर कोई ज्यादा प्रभाव नहीं होगा. हमें गोलाबारी से बचाने के लिए ज्यादा बंकरों की जरूरत है.'' वे लंबे वक्त से इसकी मांग कर रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि 3,000 बंकरों के निर्माण को मंजूरी तो दी गई है पर एक भी बंकर बनाया नहीं गया है. एलओसी के टिटवाल गांव के 60 वर्षीय शब्बीर अहमद शाह कहते हैं, ''अनुच्छेद 370 को हटा देने से हमारे युवाओं को बेहतर शिक्षा और रोजगार मिलता है तो उसे हटा दिया जाना बेहतर है.''

वे बताते हैं कि एलओसी के नजदीक रहने वाली आबादी ''बेहद गरीब है और उसे अक्सर कश्मीरियों के भेदभाव का सामना करना पड़ता है.'' विधानमंडल के पूर्व सदस्य ए.आर. बड़ाना कहते हैं, ''गुज्जर हमेशा भारत के समर्थन में रहे हैं. हमें इस पर गर्व है. धारा 370 को हटाना स्वागत योग्य है पर पूर्ण राज्य का दर्जा बने रहना चाहिए.''

इस तरह की कोई भी चर्चा, राजनीति और प्रोपगेंडा की वजह से दूर हो गई. श्रीनगर स्थित 15 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल के.जे.एस. ढिल्लों कहते हैं, ''पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर से आतंकी हर रात घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं, पर हम उनको खोज निकालने और रोकने में सक्षम हैं.'' तो क्या आतंक के खतरे को वजह बताकर आम कश्मीरियों को संचार के सभी साधनों से वंचित करना और घूमने-फिरने की उनकी आजादी को छीन लेना उचित है? सेवाओं को सामान्य रूप से बहाल करने की क्या कोई मियाद तय की गई है? केंद्र ने इस पर चुप्पी साध रखी है और सूचनाओं के इन प्रतिबंधों के बीच, खबरों-विचारों को देशभक्ति की परीक्षा के चश्मे से देखा जा रहा है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay