एडवांस्ड सर्च

एक सही योजना सेहत के नाम

एक उपयुक्त और पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी का चुनाव टेढ़ा काम है, लेकिन उसका फायदा होता है.

Advertisement
aajtak.in
लोवाई नवलाखीनई दिल्ली, 04 August 2014
एक सही योजना सेहत के नाम

अकसर हम छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज कर देते हैं और यह सामान्य-सा नियम भूल जाते हैं कि बारीकियों पर ध्यान देना जरूरी है. स्वास्थ्य बीमा के मामले में यह बात खासतौर पर ध्यान देने की है. हम अपनी सेहत को भी खुदा की नेमत मानकर निश्चिंत रहते हैं. अपने शरीर का ख्याल नहीं रखते, बहुत तनाव लेते हैं और पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा भी नहीं कराते.
आजकल स्वस्थ रहना सबसे महंगा है और इसका एहसास तब होता है, जब हम बीमार पड़ते हैं. आजकल मल्टी स्पेशलिटी और सुपर स्पेशलिटी अस्पतालों में बेहतरीन चिकित्सा मिलती है, लेकिन उसका खर्च आसमान छूने वाला होता है. इससे पार पाने के लिए जरूरी है कि एक उपयुक्त स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी ली जाए.
पुराने जमाने में लोग टैक्स बचाने के लिए स्वास्थ्य बीमा कराते थे. तब पांच लाख रु. की सीमा थी और ज्यादातर लोग उसे पर्याप्त मान लेते थे. अधिकांश लोग यह नहीं समझते कि स्वास्थ्य बीमा कवर तो उतना ही रहता है. उसमें महंगाई का ख्याल नहीं रखा जाता.
महंगाई बढ़ती जाती है और उसके साथ-साथ चिकित्सा का खर्च भी. इसलिए यह ध्यान रखना पड़ता है कि बढ़ती महंगाई के मुताबिक कवर पर्याप्त हो. स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखना चाहिए:
आयु अगर आपकी आयु कम है तो आपका शुरुआती प्रीमियम कम होगा. उम्र के साथ-साथ बीमा कंपनी का स्लैब पार करने पर यह बढ़ जाएगा. पॉलिसी कभी भी ली जा सकती है. कोई पॉलिसी न लेने से तो देर से ली गई पॉलिसी भली है.
पुरानी बीमारियों का ब्यौरा अगर आपके परिवार में कुछ बीमारियां हैं तो आपको भी उनके होने का खतरा है.
ऐसे में आपको तुरंत पॉलिसी खरीदनी चाहिए. अगर आपको पहले से कोई बीमारी है तो बीमा कंपनी उसके इलाज को आपकी पॉलिसी में शामिल नहीं करेगी. खासकर अगर वह बीमारी आपके परिवार में भी है. ऐसी स्थिति में ऐसी पॉलिसी चुनें, जिसमें वह बीमारी कवर होती हो.
नौकरी का स्वरूप आपके काम से जुड़ी गतिविधियों के कारण तनाव से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं. आपकी पॉलिसी में इस बात का ख्याल रखा जा सकता है.
प्रीमियम आप जो पॉलिसी खरीदना चाहते हैं, अगर उसका प्रीमियम बहुत अधिक लगता है तो उतनी ही रकम की पॉलिसी लें, जिसका प्रीमियम आप दे सकें या फैमिली फ्लोटर जैसा कोई सस्ता विकल्प चुनें. अपने और अपने पूरे परिवार के लिए ऐसा प्लान चुनें, जो आपके या आपकी पत्नी के नियोक्ता या कंपनी से मिले बीमा लाभ के अतिरिक्त हो. इससे आपको लाभ होगा.
आजकल तरह-तरह के हेल्थ प्लान मिलते हैं. व्यक्तिगत, टॉपअप, फैमिली फ्लोटर, वरिष्ठ नागरिक आदि. आप उलझन में पड़ जाते हैं कि कौन-सा प्लान लें. अपनी अपेक्षाएं और चिंताएं अपने सलाहकार के सामने रखें. इससे आपको यह तय करने में मदद मिलेगी कि पॉलिसी से आप क्या लाभ लेना चाहते हैं. अगर आकर्षक छूट मिल रही हो तो तत्काल आकर्षण पूरे परिवार के बीमे का होता है.
लेकिन जरा इस बारे में सोचिए कि क्या होगा, जब आपके बच्चे की उम्र 21 या 25 साल हो जाएगी. किस आयु तक आपके बुजुर्ग माता-पिता को इसका लाभ मिल सकता है. बीमा उद्योग अभी अपने शुरुआती चरण में है, इसलिए लोगों को यह भरोसा दिलाना चाहता है कि सभी प्रोडक्ट एक जैसे हैं. मगर यह अच्छी तरह जांच लें कि प्रोडक्ट आपके लायक है या नहीं. आखिर में पॉलिसी दस्तावेज को अपने सलाहकार के साथ अवश्य पढ़ें. उसके नियम, शर्तों और सीमाओं को अच्छी तरह समझ लें.                     

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay