एडवांस्ड सर्च

आयुर्वेद-सेहत के लिए आयुर्वेद

दरअसल, फसलों-सब्जियों में रसायनिक कीटनाशकों के इस्तेमाल से उपभोक्ताओं की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है और वे रोगों का शिकार हो जाते हैं.

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 28 March 2019
आयुर्वेद-सेहत के लिए आयुर्वेद यासिर इकबाल

राजस्थान के जोधपुर में स्थापित आरोग्यम् आयुर्वेदिक पंचकर्म हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा का विश्वसनीय संस्थान है. इसके निदेशक डॉ. अरुण कुमार त्यागी राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जोधपुर में कायाचिकित्सा एवं पंचकर्म चिकित्सा के विभागाध्यक्ष रह चुके हैं.

पिछले 13 से अधिक वर्षों से इस क्षेत्र में कार्यरत डॉ. त्यागी करीब 35,000 लोगों का मोटापा संबंधी इलाज कर चुके हैं. वे कहते हैं, ‘‘आधुनिक जीवनशैली हमारे स्वास्थ्य को सर्वाधिक प्रभावित कर रही है. अनियमित आहार और श्रम के अभाव के कारण मोटापा बढ़ रहा है.’’ यह लोगों के मानसिक-शारीरिक संतुलन को प्रभावित कर कई रोग उत्पन्न कर रहा है. वे कहते हैं, ‘‘मोटापे की समस्या में अमेरिका एवं चीन के बाद भारत का तीसरा स्थान है, जो चिंेता का विषय है.’’

डॉ. त्यागी शारीरिक स्वास्थ्य संरक्षण में आयुर्वेदीय पंचकर्म को अहम मानते हैं. उनके मुताबिक, निक्वन दो रूपों में अपनाया जाता है:

1. दिनचर्या में पंचकर्म: उत्तम स्वास्थ्य के लिए रोजाना नियमित रूप से पंचकर्मीय उपक्रमों को करना चाहिए. ये हैं—

अभ्यंगः यानी शरीर पर तैलादि स्ïनेहों को लगाना.

पादाभ्यंग: यानी प्रतिदिन पैरों का अभ्यंग भी करना चाहिए.

सिर पर तैल धारण: नियमित रूप से शिर पर तैल अभ्यंग करना चाहिए.

स्नेहगण्डूष: यानी स्ïनेह से मुंह को भरना.

प्रतिमर्श नस्य: नाक में दो-दो बूंद स्नेह की डालना.

कर्णपूरण: यानी कान में तैल डालना.

मात्रा वस्ति: वस्ति यंत्र की मदद से स्नेह की अल्पमात्रा को पक्वाशय में प्रविष्ट कराया जाता है.

2. ऋतुचर्या में पंचकर्म: हर ऋतु के अनुकूल आहार-विहार करने से ऋतुजन्य व्याधियां नहीं होतीं. आयुर्वेद में वर्ष को दो काल, आदान काल और विसर्ग काल तथा छ: ऋतुओं में बांटा गया है.

वहीं, विट्रो नेचुरल्स के संस्थापक जे.के. बैद जैविक उत्पादों को लेकर काफी काम किया है. दरअसल, फसलों-सब्जियों में रसायनिक कीटनाशकों के इस्तेमाल से उपभोक्ताओं की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है और वे रोगों का शिकार हो जाते हैं.

इसके उपाय के तौर पर जैविक खेती और उत्पादों पर लोगों का ध्यान गया है. बैद कहते हैं, ‘‘आने वाला समय जैविक उत्पादन के लिए बहुत उत्साहवर्धक है और इसके 10 से 20 फीसदी बढऩे की संभावना है.’’ बैद एलोवेरा, आंवला, त्रिफला के आर्गेनिक जूस और क्रीम, जैल आदि का उत्पादन और निर्यात कर रहे हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay