एडवांस्ड सर्च

आयुर्वेद-पंचकर्मः स्वस्थ रहने का समग्र उपचार

पारंपरिक चिकित्सा की हजारों साल पुरानी पद्धति से कई तरह की भ्रांतियां जुड़ी हैं लेकिन वास्तव में यह व्यक्ति के शरीर को रोग से मुक्ति दिलाने का बेहतरीन विकल्प है

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 24 October 2017
आयुर्वेद-पंचकर्मः स्वस्थ रहने का समग्र उपचार यासिर इकवाल

सुबह के 9 बजे प्रति दिन मैं होली फैमिली हॉस्पिटल, नई दिल्ली के आयुर्वेद विभाग में अपने परामर्श कक्ष में रोगियों से मिलने तथा उनकी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के निवारण का काम शुरू करती हूं. वहां त्वचा, सांस, आर्थराइटिस,  माइग्रेन, डाइजेशन से जुड़ी बीमारियों से परेशान अनगिनत रोगी अपनी चिकित्सा आयुर्वेद पद्धति से करवाने आते हैं.

ऐसे ही एक दिन एक 26 वर्षीया नवविवाहिता अपनी मां के साथ मुझसे परामर्श लेने आई. उसके पूरे शरीर की त्वचा पर बड़े-बड़े चकत्ते थे जिनके ऊपर से चमड़ी उधड़ रही थी तथा वह खुजली तथा जलन से बेहद परेशान थी. उसकी मां ने मुझे बताया कि उसका विवाह अभी एक साल पहले ही हुआ है और छह महीने पहले यह त्वचा की बीमारी शुरू हुई है. तभी से वह लड़की अपने मायके में रह रही है क्योंकि ससुराल के लोग कहते हैं कि विवाह से पहले उन्हें लड़की की इस बीमारी के बारे में नहीं बताया गया. दोनों मां-बेटी यह सब बताते-बताते रोने लगीं. मैंने उसकी त्वचा के चकत्तों और विभिन्न जांच रिपोर्ट को देखकर पाया कि आयुर्वेद के अनुसार उसे किटिभ है. इसके बाद मैंने दवा लिखकर उसका इलाज शुरू किया. साथ ही मैंने उसकी पंचकर्म क्रियाएं भी अपने आयुर्वेद-पंचकर्म विभाग में शुरू करवाईं. एक माह में उस लड़की की त्वचा लगभग साफ हो गई. लड़की का परिवार तथा उसका ससुराल पक्ष इतनी जल्दी इतना लाभ देखकर आश्चर्यचकित हुए. सभी ने कहा कि आयुर्वेद में इतने जल्दी लाभ की उन्हें आशा ही नहीं थी.

आयुर्वेद को लेकर लोगों में तरह-तरह की भ्रांतियां हैं. जैसे आयुर्वेद की दवाएं गर्म होती हैं, उनमें स्टिरॉयड्स होते हैं, उनमें धातुओं की भस्मों का प्रयोग बहुतायत से होता है. आयुर्वेद पद्धति में रिसर्च पूरी तरह से नहीं हुई तथा आयुर्वेद प्राचीन पद्धति है और युवा पीढ़ी आयुर्वेद की धीरे-धीरे असर करने वाली दवाइयां नहीं चाहती.

इस लेख के माध्यम से मैं आपकी सारी भ्रांतियां दूर करना चाहती हूं तथा आपको बताना चाहती हूं कि आयुर्वेद भारतवर्ष की अमूल्य धरोहर है. आयुर्वेद की औषधियां गर्म नहीं होतीं. अगर रोगी की प्रकृति के अनुसार नाड़ी परीक्षा करके दी जाएं. आयुर्वेद चिकित्सा की विशेषता यही है कि रोग की प्रकृति तथा रोगी की प्रकृति की जांच ठीक-ठीक वैद्य द्वारा हो जाने के बाद औषधियां तय की जाएं.

आयुर्वेद तथा एलोपैथी चिकित्सा पद्धति में एक विशेष अंतर यही है कि एलोपैथी में चिकित्सा रोग के अनुसार होती है लेकिन आयुर्वेद में रोग की प्रकृति को जांचना भी बराबर से महत्वपूर्ण है. आयुर्वेद चिकित्सा में सफलता इसी से मिलती है. अब आप कहेंगे कि आयुर्वेद दवाओं में स्टिरॉयड्स होते हैं तो मैं आपको यह बता दूं कि स्टिरॉयड्स तो हमारा शरीर भी बनाता है. परंतु आयुर्वेद दवाओं में कोई केमिकल स्टिरॉयड्स नहीं मिलाए जाते बल्कि कुछ औषधीय पौधों में स्वजनित फाइटोस्टिरॉयड्स होते हैं जो कि अत्यंत अल्प मात्रा में तथा शरीर को स्वस्थ बनाने में लाभप्रद होते हैं. इसलिए यह भ्रांति मन से निकाल देनी चाहिए कि आयुर्वेद दवाओं में रासायनिक स्टिरॉयड्स मिलाए जाते हैं.

भस्मों तथा धातुओं को लेकर लोगों में बहुत शोर है कि आयुर्वेद की औषधियां भस्मों से युक्त होती हैं तथा ये शरीर में जाकर किडनियों (वृक्कों) की कार्यशक्ति को समाप्त कर देती हैं. इसमें मैं यह स्पष्ट करना चाहूंगी कि कुछ औषधियों में अवश्य भस्मों का प्रयोग होता है और वह इसलिए होता है कि यदि जड़ी-बूटियों के साथ भस्मों को मिलाकर किसी जीर्ण रोग में दिया जाता है तो वह शरीर में जाकर रोग का निवारण शीघ्र करती है. परंतु इसमें वैद्य की जिम्मेदारी यह है कि वह ठीक तरह से जांच-परख कर रसौषधि (भस्मों से युक्त औषधि) का प्रयोग करे तथा यह संतुष्टि अवश्य करे. यह भी जान लें कि 70-80 प्रतिशत औषधियां जड़ी-बूटियों से ही बनी होती हैं तथा इन्हीं का प्रयोग आजकल अधिकतर होता है.

आयुर्वेद एक अत्यंत प्राचीन पद्धति है परंतु इसका मतलब यह नहीं है कि यह आज के वैज्ञानिक मापदंडों पर खरी नहीं उतर सकती. 3,000 वर्ष पूर्व जो नीम का वृक्ष त्वचा के रोगों में प्रयुक्त होता था, आज सीएसआइआर ने परीक्षण कर प्रमाणित किया है कि इसमें ऐंटी-बैक्टीरियल, ऐंटी-फंगल आदि गुण पाए गए हैं जो कि त्वचा के रोगों को दूर करने के लिए आवश्यक होते हैं. आज ऐसे खोज हो रही हैं जिनमें आयुर्वेद में वर्णित औषधियों के प्रभावों को आधुनिक वैज्ञानिक पद्धतियों से पुनर्स्थापित किया जा रहा है.

आयुर्वेद वैज्ञानिक होने के साथ-साथ प्रकृति के नियमों पर आधारित है जिनमें प्राथमिक सिद्धांत हैं. पंचमहाभूत (जल, वायु, अग्नि, आकाश तथा पृथ्वी) और त्रिदोष (वात, पित्त, तथा कफ). आज हम जो विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्वास्थ्य की परिभाषा सुनते तथा पढ़ते हैं उसका शब्दशः वर्णन आयुर्वेद में किया है—समदोषः समाग्निश्च समधातुमलक्रियाः। प्रसन्नामेंद्रिय मनरू स्वस्थ इत्यभिधीयते॥ (सुश्रुत संहिता 15/38) शारीरिक दोषों (वात, पित्त, कफ), अग्नि (मेटाबोलिज्म), धातुओं (रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा तथा शुक), तथा मल (मल, मूत्र तथा स्वेद) इन सभी का तारतम्य तथा इनके साथ-साथ इंद्रियों (ज्ञानेंद्रियां तथा कर्मेंद्रियां), मानसिक (सत्व, रज, तम) बौद्धिक तथा आध्यात्मिक सामंजस्य को संपूर्ण स्वास्थ्य कहा गया है. आयुर्वेद ने आहार, निद्रा तथा ब्रह्मचर्य के महत्व को व्रणित करते हुए इसे त्रिदंड कहा है कि जिस पर हमारा स्वास्थ्य टिका है. जीवन शैली के महत्व को दर्शाते हुए दिनचर्या तथा ऋतुचर्या का विस्तार से वर्णन किया गया है. इनका सम्यक् रूप से पालन करने वाले लोगों की रोगों से स्वतः ही रक्षा हो जाती है तथा स्वस्थ जीवन यापन करते हैं. आयुर्वेद का उद्देश्य कहा गया हैः

''स्वास्थ्य" स्वास्थ्य रक्षणम् आतुरस्य रोगप्रशमनम् च।" (स्वस्थ व्यक्ति के स्वास्थ्य की रक्षा करना तथा रोगी मनुष्य के रोग को दूर करना.)

स्वास्थ्य के नियमों का पालन न करने तथा बाहरी कारणों से रोगों की उत्पत्ति होती है तथा उनका निवारण औषधियों तथा शोधन क्रियाओं अर्थात् पंचकर्म से किया जाता है. इसके बाद स्वस्थ रहने के लिए रसायन औषधियों का भी प्रयोग किया जाता है जिससे हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति बनी रहे.

शारीरिक दोष वात, पित्त, कफ तथा मानसिक दोष रज और तम. इनमें विकृति होने से रोग की उत्पत्ति होती है तथा रोग की चिकित्सा दो प्रकार की वॢणत है—शोधन (पंचकर्म द्वारा) तथा संशमन (औषधियों द्वारा). पंचकर्म का आयुर्वेद में विशिष्ट स्थान है. इसमें पांच क्रियाओं का वर्णन है, जिससे विकृत दोषों को शारीरिक शुद्धिकरण करके निकाल दिया जाता है और रोगोत्पत्ति के फलस्वरूप एकत्रित विषाक्त पदार्थों को भी शरीर से निकालकर संपूर्ण शुद्धिकरण किया जाता है.

पांच शोधन प्रक्रियाएं

वमन कर्मः प्रकुपित कफ दोष का मुख्यद्वार से उल्टी के रूप में निष्कासन.

विरेचन कर्मः प्रकुपित पित्त दोष को गुदामार्ग से मल के साथ निष्कासन करना.

बस्ति कर्मः गुदामार्ग अथवा मूत्रमार्ग द्वारा औषधियों को विशेष यंत्र द्वारा प्रविष्ट करवाना. यह प्रकुपित वात दोष का शोधन करती है. यह दो प्रकार की होती हैः

1. निरुह अथवा आस्थापन बस्ति—यह औषधियुक्त कषायों से दी जाती है तथा अत्यधिक रूप में प्रकुपित वात दोष का निष्कासन करके शुद्धि करती है.

2. अनुवासन अथवा स्नेह बस्ति—यह औषधियुक्त तेल, घी अथवा दोनों को मिलाकर रोगानुसार प्रकुपित वायु दोष के निष्कासन के लिए गुदामार्ग द्वारा दी जाती है.

नस्य कर्मः औषधियुक्त स्नेह अथवा चूर्ण को नासा मार्ग से देने को नस्य कहा जाता है. नासा को सिर का द्वार माना गया है तथा इस मार्ग से दी गई औषधि सिर तथा संपूर्ण शरीर से दोषों का निष्कासन करती है. यह पंचकर्म का एक कर्म है जो कि सिर, गला, आंख, नाक तथा कान की व्याधियों में विशेषतया लाभ पहुंचाती है.

नस्य कर्म शिरः शूल, माइग्रेन, अकाल बालों का सफेद होना, बाल गिरना, पक्षाघात, सर्दी-खांसी, पुराना जुकाम, मिर्गी के दौरे की बीमारी, सर्वाइकल स्पॉन्डलाइटिस, नाक में पॉलिप होना, आदि रोगों में लाभकारी होता है.

नस्यकर्म अपच, खांसी, नशे की हालत में, बच्चों को, गर्भिणी को तथा जिन्हें नाक के अंदर चोट लगी हो. नहीं करना चाहिए. नस्य कई प्रकार के होते हैं. इसमें प्रयुक्त औषधियां एवं पूर्ण रूप में औषधीय तेल, घृत आदि का उपयोग रोग तथा रोगी की प्रकृति के अनुसार किया जाता है.

रक्तमोक्षणः दूषित रक्त को शरीर से निकालने की विधि को रक्तमोक्षण कहा गया है. शस्त्र अथवा जलौका से दूषित रक्त को रोग के अनुसार शरीर के विशिष्ट भाग का चयन करके निकाला जाता है. त्वचा तथा रक्तवाहिनी के रोगों में रक्तमोक्षण से लाभ होता है. पंचकर्म करने से पहले स्नेहन तथा स्वेदन किए जाते हैं. स्नेहन तथा स्वेदन पंचकर्म से पहले करना आवश्यक ही नहीं बल्कि बहुतायत में तो इन्हीं दो पूर्वकर्मों को करके हम दोषों का सात्क्वय शरीर में ला सकते हैं तथा शरीर को स्वस्थ बना सकते हैं. ये दोनों पूर्वकर्म पंचकर्म का अभिन्न अंग हैं तथा शरीर में बाह्य रूप में आभ्यंतर रूप में दिए जाते हैं.

1. स्नेहनः जिस कर्म से शरीर में स्निग्धता, मृदुता और द्रवता आती है उसे स्नेहन कहा जाता है. स्नेहन में बाह्य तथा अभ्यंतर दो प्रकार होते हैं. बाह्य स्नेहन में अभ्यंग, शिरोधारा, नेत्र तर्पण, कटिबस्ति, उरोवस्ति, जानुवस्ति आदि क्रियाएं आती हैं जो भिन्न-भिन्न रोगों में लाभकारी होती हैं. आभ्यंतर स्नेहन में औषधि युक्त घी या तेल रोगी को पिलाया जाता है. शास्रोक्त क्रमबद्ध मात्रा में देने से शरीर पुष्ट और मजबूत होता है तथा पंचकर्म के जरिए प्रकुपित दोषों को शरीर का शोधन करते हुए निकालने में सहायक होता है.

2. स्वेदनः स्वेदन कर्म भी पंचकर्म से पूर्व की जाने वाली अत्यंत आवश्यक क्रिया है. इस प्रक्रिया से शरीर से स्वेद अथवा पसीना निकलता है तथा दोषों का निष्कासन त्वचा मार्ग से होता है. इस प्रक्रिया में औषधि युक्त काढ़े से वाष्प दिया जाता है अथवा कपड़े, पत्थर या रेत से गर्मी देकर स्वेदन कर्म कराया जाता है. ये दोनों पूर्णकर्म करने से भी दोषों का तथा शरीर में संचित रोग रूपी विष का निष्कासन होता है.

अभ्यंगः शास्त्रोक्त विशिष्ट पद्धति से शरीर पर घी अथवा औषधियुक्त तेल की मालिश करने को अभ्यंग कहा जाता है. यह त्वचा की रुक्षता, कमजोर व्यक्ति, अत्यंत शारीरिक श्रम किया हुआ अथवा मानसिक तनाव से युक्त, अनिद्रा रोग, वात रोग जैसे संधिवात, पक्षाघात, कंपवात, अवबाहुक (सरवाइकल स्पॉन्डिलाइटिस या लंबर स्पॉन्डिलाइटिस) में लाभकारी है. इसके अतिरिक्त स्वेद कर्म से पहले तथा पंचकर्म से पहले भी पूर्वकर्म के रूप में भी अभ्यंग किया जाता है.

ज्वर, अपच, गर्भिणी तथा विकृत कफ दोष जैसे कास, श्वास आदि में अभ्यंग नहीं करना चाहिए. रोग के अनुसार महानारायण तैल, क्षीरबला तैल, धनवंतरम तैल, महामाषतैल अथवा गौघृत आदि से अभ्यंग प्रशिक्षित परिचारक द्वारा करना चाहिए.

शिरोधाराः सिर-माथे पर दूध, औषधियुक्त तेल आदि तरल पदार्थ डालना शिरोधारा कहलाता है. इससे सिर में दर्द, मस्तिष्क रोग, शिरोरोग, नाड़ी दौर्बल्य, अनिद्रा, मानसिक तनाव, उच्च रक्तचाप, पक्षाघात, अर्दित (फेशियल पैरालिसिस) अपस्मार (मिर्गी) तथा अकाल बालों का पकना या सफेद होना इत्यादि रोगों में लाभ होता है. शिरोधारा कोमा, ज्वर, निम्न रक्तचाप तथा सर्दी-खांसी में नहीं करना चाहिए.

नेत्र तर्पणः आंखों पर औषधियुक्त घृत अथवा तेल डालने को नेत्रतर्पण कहा जाता है. यह क्रिया आंखों से धुंधला दिखना, आंखों का दुखना, रूक्षता, रतौंधी तथा वात व पित्ज अक्षि रोगों में अत्यंत लाभकारी है. रोगानुसार इस नेत्र तर्पण क्रिया में त्रिफलाधृत आदि का प्रयोग किया जाता है. यह क्रिया दृष्टिवर्धन का कार्य भी करती है.

कटिबस्तिः कटिबस्ति क्रिया में रोगी की कमर के निचले हिस्से (कटिप्रदेश) में उड़द की दाल के आटे का एक गोल यंत्र बनाकर रखा जाता है तथा उसमें औषधि युक्त सुखोष्णा तैल डालकर रखा जाता है. कटिबस्ति क्रिया स्नेहन तथा स्वेदन की मिश्रित क्रिया है. इससे कमर में दर्द, कटिशूल (लंबर स्पॉन्डिलाइटिस), स्लिप डिस्क, गृध्रसी (सियाटिका) आदि रोगों में लाभ होता है. इस क्रिया को कमर की टी.बी. अथवा कैंसर में नहीं करना चाहिए.

उपरोक्त सभी पंचकर्म की क्रियाएं रोगी के शरीर से प्रकुपित दोषों को निकालने का कार्य करती हैं. सामान्यतः आयुर्वेद में यह कहा गया है कि शोधन के बाद जब औषधियों का सेवन किया जाता है तो शरीर में रोगों का शमन शीघ्र होता है तथा रसायन औषधियों के सेवन से शरीर बलशाली हो जाता है तथा शरीर की रोगरोधी क्षमता (इम्युनिटी) बढ़ती है.

(डॉ. ऋतु सेठी दिल्ली के होली फैमिली हॉस्पिटल के आयुर्वेदिक विभाग में सीनियर कंसल्टेंट हैं)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay