एडवांस्ड सर्च

आसाराम के आश्रम की काली हकीकत

ऊंचे, रसूखदार लोगों से मित्रता के बावजूद देश का सबसे चर्चित स्वयंभू संत इस वक्त जेल की सलाखों के पीछे है. कभी गुलजार रहने वाले उसके आश्रम उजाड़ पड़े हुए हैं. आसाराम के रातनैतिक अनुयायी भी उसे बचा नहीं सके और एक-एक कर किनारे हो लिए. अटल बिहारी वाजपेयी से लेकर आडवाणी, नरेंद्र मोदी, दिग्विजय सिंह, फारूक अब्दुला और जॉर्ज फर्नांडिस तक उसके साथ देखे गए थे.

Advertisement
उदय माîरकर और असित जॉलीअहमदाबाद, नई दिल्ली, 02 October 2013
आसाराम के आश्रम की काली हकीकत

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर मुहम्मद अता और उनके साथियों द्वारा 11 सितंबर, 2001 को किए हवाई हमले और दुनिया भर के टेलीविजन चैनलों पर विनाश लीला को देख लोग स्तब्ध थे. इस घटना के सिर्फ तीन दिन बाद आसाराम की प्रतिक्रिया थी, ''मैं बिन लादेन को सलाम करता हूं.”

उसके एक सहयोगी का कहना है कि हमले से हुई जानो-माल की क्षति से बेपरवाह स्वयंभू 'भगवान’ आसाराम अलकायदा प्रमुख और उनकी हत्यारी टोली के दुस्साहस से अभिभूत था. अपने अनुयायियों का मानो उपहास उड़ाते हुए आसाराम ने कहा था, ''मुझे इसी तरह के जुनूनी अनुयायियों की जरूरत है.”

लगभग 12 साल बाद जोधपुर के एक पुलिस दल ने आसाराम को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में रहने वाले एक व्यक्ति की 16 वर्षीय बेटी से बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया. लड़की के माता-पिता आसाराम के अनन्य भक्त थे.

जोधपुर की सेंट्रल जेल में बंद आसाराम इससे पहले भी यौन शोषण, वीभत्स तांत्रिक क्रियाएं, हत्या, डराने-धमकाने, जबरन जमीन हथियाने जैसे आरोप से चर्चा में आ चुका  था. अब भारत के सर्वाधिक विवादास्पद 'बाबा’ के गले में फंदा तेजी से कसता जा रहा है

चार दशक पहले उसने एक अनोखा सपना पाला था— भगवान बनने का. कहा जाता है कि आसुमल हरपलानी उर्फ आसाराम बापू कभी तांगा चलाता था, उसने कभी सड़क के किनारे चाय बेचने का धंधा भी किया और अहमदाबाद के मणिनगर में शराब के धंधे में भी हाथ आजमाया.

दावा किया जाता है कि आज उसके पास 1 से 3 करोड़ भक्तों की फौज है, जिनके लिए वह 'पूज्य संत श्री आसाराम बापू’ है. उत्साह से उसके साधक बताते हैं कि अंग्रेजी में उसे सम्मान मिला है, ''हिज डिवाइन होलिनेस.”

आसाराम के अनुयायी उसके प्रति उतने ही जुनूनी हैं, जितने अलकायदा के आत्मघाती दस्ते के जिहादी, जो अपने गुरु के लिए जान तक देने को तैयार हैं. 32 वर्षीय योगेश जब कहता है कि ''मुझे बापू के लिए जेल जाने या मरने से डर नहीं लगता” तो ऐसी ही अंध श्रद्धा दिखाई देती है.

आसाराम के अड्डे

यह दुबला-पतला साधक 18 साल की उम्र में भारतीय सेना में जाना चाहता था, लेकिन आज 'बापूजी की फौज’ का सिपाही बन खुश है. उसे पूरा भरोसा है कि आसाराम ही उसके उद्धारक हैं. जेल में बंद 'भगवान’ पर बलात्कार के आरोपों पर जरा भी यकीन न करने वाले योगेश की राय है, ''सितारों से आगे भी कुछ है.”

योगेश आसाराम के करीबी समझे जाने वाले सात अनुयायियों में से एक है, जिन्हें जुलाई 2008 में 10 वर्ष के दो बच्चों—अभिषेक और दीपेश (दोनों रिश्ते में भाई लगते थे) की हत्या का दोषी पाया गया था. दोनों अहमदाबाद के बाहरी इलाके के मोटेरा गांव में आसाराम के केंद्रीय आश्रम के गुरुकुल के छात्र थे.

ये बच्चे पत्थर का काम करने वाले शांतिभाई और प्रफुल्ल वघेला के पुत्र थे. पुलिस आयुक्त डी.के. त्रिवेदी की रिपोर्ट के आधार पर अगस्त, 2008 में मोदी सरकार ने इन आरोपों की जांच के आदेश दिए थे कि बच्चों की तांत्रिक क्रियाओं के दौरान बलि दी गई है. रिपोर्ट अभी सार्वजनिक नहीं की गई है.

अपने सत्संग में भारी भीड़ आकर्षित करने की कला की बदौलत उसके अनुयायियों की संख्या तेजी से बढऩे लगी और जल्द ही हर पार्टी के नेता भी आसाराम से जुडऩे में होड़ लेते दिखे. 16 साल तक आसाराम के निजी वैद्य रहे 54 वर्षीय अमृत प्रजापति बताते हैं, ''वह बहुत शातिर है.

उसके पास आने वाले ऐसी ही अपेक्षा रखते हैं कि इस शख्स को औपचारिक स्कूली शिक्षा भी नहीं मिली. आज सिर्फ एक उंगली उठाकर आसाराम 50,000 लोगों को जुटा सकता है.”

अक्तूबर, 2001 में विधानसभा चुनाव जीतकर गुजरात का मुख्यमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी ने अपने चुनाव अभियान की शुरुआत आसाराम के साथ मंच पर बैठकर की थी. उसके बाद तो बापू के पास हर रंग, हर विचारधारा, हर धर्म के नेताओं का तांता ही लग गया.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह, पूर्व राष्ट्रपति आर.के. नारायणन तथा केंद्रीय मंत्री कमलनाथ और कपिल सिब्बल, एच.डी. देवेगौडा और जॉर्ज फर्नांडिस और फारूक अब्दुल्ला भी उसके अभिनंदन और उसका आशीर्वाद पाने के लिए आसाराम आश्रम में गए.

आसाराम के राजनैतिक अनुयायी

नहीं मिली दोस्तों से मदद
जुलाई, 2008 में आश्रम में बच्चों की मौत के बाद उठे जनाक्रोश के बाद नरेंद्र मोदी ने आसाराम से दूरियां बना ली थीं, लेकिन उनके पार्टी सहयोगियों ने उससे संपर्क जारी रखा. दिसंबर, 2012 में जब गोधरा में आसाराम एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में बाल-बाल बचा तो बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने इसे संत की 'दैवीय शक्तियों’ का चमत्कार बताया.

कथित तौर पर चार फर्जी मुठभेड़ों के आरोप में निलंबित गुजरात के डीआइजी डी.जी. वंजारा इन दिनों जेल में हैं. कहा जाता है कि नेताओं और नौकरशाहों के बीच अपना प्रभाव बढ़ाने में वंजारा ने आसाराम की बहुत मदद की थी. अहमदाबाद के एक वरिष्ठ पत्रकार का कहना है कि ''गुरु पूर्णिमा पर आसाराम हमेशा मोटेरा आश्रम में आता था. उसके साथ कोई-न-कोई बड़ी शख्सियत जरूर होती.”

पत्रकार यह भी जोड़ देते हैं कि आसाराम ने इस ताकतवर पुलिस अधिकारी से नजदीकी का जमकर फायदा उठाया और इसी वजह से जमीन हथियाने जैसे मामलों में उसके अनुयायियों पर पुलिस कार्रवाई नहीं हुई. आसाराम की गिरफ्तारी के बाद अहमदाबाद और गांधीनगर में तो यह चर्चा भी है कि ''ऐसे मामलों में वंजारा और आसाराम की मिलीभगत होती थी.”

शांतिभाई और प्रफुल्ल वाघेला को तो यकीन है कि वर्ष 2007 में डीआइजी के जेल जाने के बाद उसके चेले पुलिस को अपने प्रभाव में लेते रहे और उन्होंने मोटेरा आश्रम से कुछ ही मीटर की दूरी पर स्थित साबरमती आश्रम से बच्चों के क्षत-विक्षत शव मिलने के बावजूद किसी के खिलाफ पुलिस कार्रवाई नहीं होने दी.

भगवान बनने का सपना पालने वाला आसाराम उन भौतिक सुख-सुविधाओं और विलासिता के बीच जी रहा था, जिसे जानकर एक आम आदमी को शर्म महसूस होगी. वर्ष 1999 में अमृत प्रजापति को मलेरिया से पीड़ित आसाराम के इलाज के लिए बुलाया गया तो उनकी पहुंच अंदर तक हो गई. पहली बार वहां गए प्रजापति आसाराम की 'शांति कुटीर’ और 'ध्यान की कुटिया’ का वर्णन कुछ इस तरह करते हैं, ''आसाराम एक विशालकाय पलंग पर पसरा था. उन्हें होश नहीं था.”

लेकिन आज रोगी की बजाए उसके आवास की भव्यता और विलासिता उन्हें याद है, ''एयरकंडीशनिंग, अत्याधुनिक बाथरूम, यहां तक कि एक डिह्यूमिडिफायर (उमस को  संतुलित करने वाली मशीन) भी वहां मौजूद था, जो भारी बारिश के दिनों में ह्यूमिडिटी का सामान्य स्तर बनाए रखती थी.” वे बताते हैं कि इसके अलावा और किसी तरह की सजावट आसाराम के आश्रम में नहीं देखी गई. क्रीम रंग की दीवारों पर खुद आसाराम की कोई फोटो नहीं थी. हालांकि गिरफ्तारी के बाद जारी आश्रम की तस्वीरों में आसाराम के पोट्रेट जगह-जगह नजर आते हैं.

आसाराम के सताए

सनकी हो गया है आसाराम
नाम न छापने की शर्त पर आसाराम के एक सहायक ने इंडिया टुडे को बताया कि, ''उसे हमेशा डर लगता है कि किसी महिला के साथ उसकी फिल्म बना ली जाएगी. यहां तक कि वह डरा रहता है कि छत पर लगे पंखों में कहीं गुप्त कैमरे न लगा दिए गए हों. वह इसलिए अपने कमरे में पंखा भी नहीं रहने देता.”

प्रजापति बताते हैं कि उन्होंने 1999 में जब आसाराम का इलाज शुरू किया तो वह रक्त में अधिक कोलेस्ट्राल, थॉयरॉयड और मोटापे की समस्या से परेशान था. कभी आसाराम की भगवान की तरह पूजा करने वाले प्रजापति अब कहते हैं, ''राक्षसों जैसा चेहरा हो गया था उसका.”

आज उनकी नजर में आसाराम एक बेहद भ्रष्ट और लंपट किस्म का शख्स है, जिसके लिए रोज तीन घंटे की मालिश और गुलाब से सुगंधित जल में घंटों तक स्नान करना बहुत जरूरी होता था. वह नहाने के लिए केसर से बने हुए साबुन का इस्तेमाल करता था.”

लेकिन अमृत प्रजापति, राजू चंडक (आश्रम के पूर्व प्रबंधक), आसाराम के दामाद हेमंत बुलानी, उसके संकटमोचक कहलाने वाले दिनेश भागचंदानी और समर्पित अनुयायियों का अब आसाराम की सम्मोहित करने वाली छवि से मोहभंग हो गया है. इस मोहभंग की सबसे बड़ी वजह आसाराम की युवा महिलाओं के प्रति आसक्ति थी, जिस पर आसाराम का कोई नियंत्रण नहीं था. यही प्रवृत्ति उसे सलाखों के पीछे ले गई है.

1986 में मोटेरा आश्रम में आसाराम के अनुयायियों में शामिल हुई 52 वर्षीया सुनीता पटेल कहती हैं कि एक दशक बाद वे वहां से भागने को मजबूर हो गईं. वह कहती हैं, ''अब वह आश्रम नहीं रह गया था, जहां आप भगवान या संत की तलाश में जाते हैं.”

आश्रम में चल रही काली करतूतों के बारे में वे बताती हैं कि किस तरह दो युवा महिलाओं के दो कूट नाम रखे गए थे 'डेहल’ (गुजराती में डेहल का अर्थ है मोरनी) और 'बंगला’. ये दोनों महिलाएं सम्मेलनों में युवा लड़कियों के ताक में रहती थीं. सुधा बताती हैं कि आसाराम को जो लड़की पसंद आ जाती, वह उसकी ओर कोई फल या कैंडी फेंक देता था.

यह इस बात का संकेत होता था कि लड़की को राजी किया जाए. सुधा खुलासा करती है, ''यह रोज की बात थी. आसाराम की साधिकाएं लड़की के माता-पिता को राजी करतीं कि उनकी बेटी भाग्यशाली है. वे लड़की को आसाराम की कुटीर में ले जाने का अनुरोध करतीं कि वहां लड़की के लिए विशेष अनुष्ठान किया जाएगा.

लेकिन सुधा और अमृत प्रजापति, दोनों ही मानते हैं कि इसका शायद ही कभी विरोध हुआ. अधिकतर लड़कियां और उनके परिवार वाले यह मानते थे कि उनके ऊपर विशेष कृपा हुई है. आखिरकार भगवान ने स्वयं उन्हें चुना है. आसाराम कृष्ण हैं और वे उनकी गोपिकाएं हैं. प्रजापति एक घटना याद करते हैं कि एक दिन लड़कियों में इस बात पर बहस हो रही थी कि एक खास दिन कुटीर में कौन जाएगी.

अहमदाबाद में आयुर्वेदिक दवाएं बेचकर सामान्य-सी कमाई करने वाली सुधा बताती हैं कि वे मोटेरा आश्रम की उन गिनी-चुनी महिलाओं में एक हैं, जो आसाराम के अनुरोध को ठुकराकर वहां बनी रहीं. वे बताती हैं कि उन्होंने मुझे राजी करने वाले शख्स को एक लाख रु. का इनाम देने का वादा किया था. सत्संग के दौरान आसाराम घोषणा करता, ''जो सुधा को सुधारकर दिखावे, उसे एक लाख रु. इनाम दूंगा.”

आसाराम का वैभव

निराश हुए उनके प्रशंसक
मोटेरा आश्रम में निराशा साफ नजर आती है. लोगों का आना-जाना बहुत कम हो गया है. आश्रम जाने वाली सड़क के छोर पर एक ऑटोचालक बताता है, ''वहां पर अब कोई नहीं है. बापू को पुलिस पकड़कर ले गई.” वह आपकी मदद करने के लिए तैयार है, लेकिन साथ ही यह आभास भी करा देता है कि उसे तो पहले से ही पता था कि यह होकर रहेगा.

कड़ी सुरक्षा वाली ऊंची दीवारों के पीछे सघन हरियाली है— पीपल, नीम, बरगद के पेड़ आश्रम के इर्द-गिर्द उगे हैं. दीवारों पर आसाराम के बड़े-बड़े चित्र और उसके 'उपदेशों’ के अंश लिखे हुए हैं. उसके अनुयायियों का कहना है कि यहीं पर 42 साल पहले आसाराम पहली बार 'ध्यान’ लगाकर बैठा था. इसी स्थान से साबरमती नदी एक दूसरे आश्रम की ओर बहती है, जो इस आश्रम से बिलकुल अलग है. आसाराम आश्रम की भव्यता के सामने वह एकदम सामान्य-सी जगह है यानी महात्मा गांधी स्मारक.

मोटेरा आश्रम की देखभाल का जिम्मा अब योगेश को सौंप दिया गया है. आश्रम के वरिष्ठ कार्यकर्ता जोधपुर में अपने 'भगवान’ के निकट ठहरे हैं. गुरुजी पर बलात्कार के आरोप से योगेश बुरी तरह टूट गया है. उसका कहना है, ''वे उनके साथ ऐसा क्यों कर रहे हैं. गुरुजी बहुत धार्मिक इंसान हैं, जो हर किसी के कल्याण में भरोसा रखते हैं.”

युवा साधक योगेश चांडक और प्रजापति जैसे पूर्व अनुयायियों के बापू पर लगाए आरोपों का खंडन करते हैं, ''प्रजापति जब यहां थे तो ऐशोआराम का जीवन जीते थे. हवाई जहाज से सफर करते. उन्हें एक कार और ड्राइवर मिला हुआ था.” उन्होंने यहां का काम इसलिए छोड़ा क्योंकि आसाराम के निजी चिकित्सक के रूप में काम करने के बाद वे बाहर जाकर ज्यादा पैसा कमा सकते थे.” योगेश का कहना है कि चांडक ने यह जगह तब छोड़ी, जब वे पैसों में हेराफेरी करते पकड़े गए.

योगेश और मोटेरा आश्रम में बचे रह गए अनुयायियों को यकीन है कि बापूजी साफ बच निकलेंगे. लेकिन बलात्कार के आरोप का दाग तो रह ही जाएगा? इस पर योगेश का जवाब है, ''हम मजबूत होकर उभरेंगे. आप जानते हैं कि दर्द हमेशा लोगों को मजबूत ही बनाता है.” उनका यह भी दावा है कि आसाराम की गिरफ्तारी के बाद लोगों का आना बढ़ा है, ''जो लोग पहले नहीं आते थे, अब वे भी आने लगे हैं.”

पर आश्रम में भक्तों की घटती संख्या योगेश के दावों की पुष्टि नहीं कर पाती. दो युवा सफेद धोती-कुर्ते में मंत्रोच्चार कर रहे हैं. उनके पास ही एक जोड़ा हवन कुंड के सामने हाथ जोड़े बैठा हुआ है. वे बस एक ही प्रार्थना कर रहे हैं— जेल से आसाराम की रिहाई की.

इस पर प्रजापति उपहास करते हैं— ''मूर्ख हैं वे.” उनका इशारा उन लोगों की तरफ है, जो कई बार आसाराम का असली चेहरा सामने आने के बाद भी उसके प्रति अटूट आस्था रखते हैं.

16 दिसंबर को दक्षिण दिल्ली की एक ठिठुरती हुई रात में फिजियोथैरेपी की एक छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद जब देश भर में लोगों में काफी आक्रोश फैल गया था तो 7 जनवरी को आसाराम ने कहा था कि ''पीड़िता भी उतनी ही दोषी थी, जितने कि बलात्कारी. यदि वह उन्हें 'भाई’ का संबोधन देकर उनसे ऐसा न करने का अनुरोध करती तो शायद उसका जीवन बच जाता.”

जिस 16 साल की लड़की से बलात्कार का उस पर आरोप है, यदि वह उन्हें भाई कहती तो क्या आसाराम रुक जाता? प्रजापति कहते हैं, ''नहीं, बिलकुल नहीं. अगर वह उन्हें पिता कहकर बुलाती तब भी वह नहीं रुकता. क्योंकि आसाराम का मानना है कि वह भगवान है और वह जो कुछ भी करता है, वह 'भगवान का कार्य’ ही होता है.”

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay