एडवांस्ड सर्च

सिमी: चरित्र निर्माण से अपराध तक

चरित्र निर्माण की बात करने वाला सिमी अपराध की ओर मुड़ा. इसका घोषित मकसद पश्चिम के भौतिकवादी प्रभाव को कम कर युवाओं को इस्लाम की परंपराओं की ओर प्रवृत्त करना था.

Advertisement
जय नागड़ामध्य प्रदेश, 28 October 2013
सिमी: चरित्र निर्माण से अपराध तक

बदनाम हो चुके स्टुडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया यानी सिमी की स्थापना उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 25 अप्रैल, 1977 को हुई थी. संस्थापक थे मो. अहमदुल्ला सिद्दीकी. सिमी के गठन के पीछे मकसद असल में 1956 में शुरू हुए इस्लामी छात्र संगठन (एसआइओ) को नई जिंदगी देना था.

शाहिद बद्र फलाही


सिमी का घोषित मकसद इस्लामी समाज पर पश्चिम के भौतिकवादी सांस्कृतिक प्रभाव को कम करके खासकर युवाओं को इस्लामी परंपराओं की ओर प्रवृत्त करना था. 9 सितंबर, 2001 को सिमी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. शाहिद बद्र फलाही ने मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में मीडिया से बातचीत में कहा था की सिमी की बजरंग दल या विश्व हिंदू परिषद् से तुलना ठीक नहीं है. उनका दावा था कि सिमी मुस्लिम छात्रों का शरीयत के मुताबिक, चरित्र निर्माण में जुटा है. तब उनका दावा था कि देश के 17 राज्यों में संगठन के 950 अंसार (सक्रिय सदस्य) हैं.

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में इसके साधारण सदस्यों की संख्या लाखों में है. फलाही ने सिमी पर पाबंदी पर कड़ा एतराज जताते हुए इसे गैर-लोकतांत्रिक कहा था. 27 सितंबर 2001 को सिमी पर प्रतिबंध लगाए जाने वाली रात ही फलाही को गिरफ्तार कर लिया गया था. उनके ऊपर लगाए गए आरोप सही न पाए जाने पर 7 अप्रैल, 2004 को उन्हें बरी कर दिया गया. हालांकि कुछ मुकदमों में वे अब भी आरोपी हैं. हालांकि, अगस्त 2008  में एक विशेष न्यायाधिकरण ने सिमी पर से प्रतिबंध हटा लिया लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने 6 अगस्त 2008 को प्रतिबंध उचित ठहराया.

सिमी से ही इंडियन मुजाहिदीन संगठन उपजा, जो देश में आतंक का एक नया चेहरा बना. इसकी कमान, बताते हैं मध्य प्रदेश के सफदर नागौरी ने संभाली और इसे ज्यादा हिंसक बनाया. मुंबई के डॉ. अबू फैजल को संगठन में मध्य प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी गई. इसने एटीएस जवानों के साथ निर्दोष नागरिकों की हत्या कर अपने इरादे जता दिए. संगठन चलाने के लिए पैसों की खातिर बैंक भी लूटे गए. सितंबर 2010 में इन्होंने भोपाल में मणप्पुरम फाइनेंस लि. में डकैती डालकर 13 किलो सोना और 40,000 रु. नगदी भी लूटी. मंदसौर की पीपल्या मंडी में स्टेट बैक ऑफ इंदौर और जावरा में पंजाब नेशनल बैंक में भी डकैती डाली. छात्रों के चरित्र निर्माण के नाम पर खड़ा किया गया संगठन इस तरह अपराधी चरित्र का बन बैठा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay