एडवांस्ड सर्च

क्या संभव है एड्स का इलाज?

एक महत्वपूर्ण उपलब्धि के तहत वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने संभवत: एड्स का इलाज खोज निकाला है.

Advertisement
भाषालंदन, 04 February 2011
क्या संभव है एड्स का इलाज? संभव है एड्स का इलाज

एक महत्वपूर्ण उपलब्धि के तहत वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने संभवत: एड्स का इलाज खोज निकाला है.

आस्ट्रेलियाई और कनाडाई सरकार द्वारा वित्तपोषित अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान दल ने दावा किया कि संभवत: उन्होंने उस आनुवांशिक तरीके को खोज निकाला है जिससे शरीर स्वयं एड्स का इलाज कर लेगा.

डेली मेल की खबर के अनुसार, चूहों पर किये गये अनेक प्रयोगों से वैज्ञानिकों ने यह प्रदर्शित किया कि प्रतिरक्षण प्रणाली को अपने लिए इस कदर इस्तेमाल किया जा सकता है कि यह विषाणु को निष्क्रिय कर देता है और पूरी तरह से इसे शरीर से निकाल बाहर करता है.

यह उपलब्धि एसओसीएस-3 नामक एक गुणसू़त्र पर केन्द्रित है जो एचआईवी जैसे संक्रमण से संक्रमित हेाने के बाद अत्यंत सक्रिय हो उठता है और प्रतिरक्षा तंत्र को निष्क्रिय कर देता है ताकि विषाणु शरीर में मौजूद रहे.

जब वैज्ञानिकों ने आईएल-7 नामक हारमोन को बूस्ट किया तो यह गुणसूत्रो निष्क्रिय हो गया और चूहे अपने शरीर से धीरे धीरे एचआईवी विषाणु को बाहर निकाल सकते थे.

हालांकि इस स्थिति के इलाज में तरक्की हुई है लेंकिन प्रतिरक्षी तंत्र को निष्क्रिय करने की विषाणु की क्षमता का अर्थ है कि इस रोग के इलाज के तरीके पर वैज्ञानिकों का अब तक ध्यान ही नहीं गया था.

चूहों पर किये गये ताजातरीन प्रयोगों के आधार पर दल का मानना है कि न केवल इससे एड्स के इलाज की संभावना पैदा होती है बल्कि हिपेटाइटिस बी और सी तथा तपेदिक जैसे दीर्घावधि वाले रोगों के इलाज की भी संभावना पैदा हो गयी है.

इन रोगों के लिए इलाज खोजने के लिए किये गये तमाम प्रयोगों में प्रतिरक्षा तंत्र को विषाणु या जीवाणु को शरीर से बाहर निकालने के लिए इस्तेमाल करना है. लेकिन ताजातरीन अनुसंधान से यह प्रदर्शित होता है कि कम अवधि वाला तगड़ा झटका रोग के इलाज में कहीं अधिक प्रभावी हो सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay