एडवांस्ड सर्च

सहमे छात्रः जगह-जगह पर कश्मीरी छात्रों पर हमले

कश्मीरी छात्र-छात्राओं के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में सामने आए हिंसा के मामले

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर/ संध्या द्विवेदी 26 February 2019
सहमे छात्रः जगह-जगह पर कश्मीरी छात्रों पर हमले हंगामाः हरियाणा के गुरुग्राम में एसजीटी यूनिवर्सिटी में कश्मीर छात्रों के खिलाफ प्रदर्शन

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले के बाद उत्तराखंड और हरियाणा में कश्मीरी छात्र-छात्राओं के खिलाफ हिंसा के कुछ वीडियो वायरल हुए तो घाटी में हलचल मच गई. देहरादून में जहां 12 कश्मीरी छात्रों की पिटाई की खबर आई, वहीं अंबाला के मुलाना में स्थानीय पंचायत ने वहां किराए के मकान में रहकर पढ़ाई कर रहे कश्मीरी छात्रों को 24 घंटे में कमरा खाली करने का अल्टीमेटम दे दिया. इन घटनाओं ने घाटी में रह रहे अभिभावकों में दहशत पैदा कर दी. ऐसे में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) का एक चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल कश्मीरी बच्चों की परिस्थितियों का जायजा लेने 19 फरवरी को उत्तराखंड पहुंचा.

देहरादून पहुंचे प्रतिनिधिमंडल के सदस्य और पीडीपी के प्रवक्ता वहीद-उर्र-रहमान पारा ने बताया कि पुलिस व्यवस्था चाकचौबंद है, लेकिन बच्चों में डर और असुरक्षा की भावना है. वे कहते हैं, ''हमने हॉस्टल और देहरादून के मुहल्लों में किराए पर रह रहे बच्चों से बातचीत की. हॉस्टल प्रबंधन और स्थानीय लोग बच्चों की सुरक्षा को लेकर डरे हुए हैं. वे चाहते हैं कि कुछ दिनों के लिए बच्चे यहां से चले जाएं." पारा के मुताबिक, कश्मीरी छात्र-छात्राओं के खिलाफ जहर उगल रहे लोगों के विरोध में स्थानीय लोग भी खड़े होने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं.

वहीं, स्थानीय राजनेता भी खुलकर ऐसे अराजक तत्वों के खिलाफ नहीं बोल रहे हैं. हालांकि प्रशासन ने कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा का आश्वासन दिया है. प्रतिनिधिमंडल ने उन छात्रों की निंदा भी की जिन्होंने पुलवामा हमले के बाद आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं. यह दल करीब 150 से ज्यादा कश्मीरी बच्चों को लेकर वापस लौट गया. कश्मीर वापस नहीं गए बच्चों के लिए प्रतिनिधिमंडल ने एक व्हाट्सऐप ग्रुप बनाया है, जिसमें उनकी खबर रखी जा रही है.

हालांकि प्रतिनिधिमंडल ने छात्र-छात्राओं से मुलाकात के बाद यह भी कहा कि सोशल मीडिया में चीजों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने की कोशिश हो रही है, जमीनी हालात उतने खराब नहीं हैं. प्रतिनिधिमंडल में शामिल पीडीपी के पूर्व विधायक एजाज अहमद मीर कहते हैं, ''सोशल मीडिया के जरिए माहौल बनाने की कोशिश हो रही है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में रह रहे कश्मीरी बच्चों पर हिंसा की जा रही है. लेकिन इसमें हकीकत से ज्यादा अफवाह है."

दरअसल, पुलवामा हमले के बाद देहरादून में कुछ छात्रों के आपत्तिजनक बयान सोशल मीडिया पर सामने आए थे. फिर कुछ छात्रों ने सोशल मीडिया पर कश्मीरी छात्र-छात्राओं पर निशाना साधना शुरू कर दिया.

कश्मीरी छात्रों की पिटाई के वीडियो भी वायरल हुए. हरियाणा के मुलाना में पंचायत की ओर से छात्रों को कश्मीर वापस भेजने के फरमान के बाद करीब 70 कश्मीरी छात्र यमुनानगर के गणपति इंस्टीट्यूट में दाखिला लेने नहीं आए. वहीं, पुलवामा के शहीदों के खिलाफ टिप्पणी करने के मामले में रुड़की के भगवानपुर क्षेत्र में क्वांटम ग्लोबल यूनिवर्सिटी के सात कश्मीरी छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ है. इन कश्मीरी छात्रों पर इंस्टाग्राम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने और पाकिस्तान के पक्ष में नारेबाजी का आरोप है.

हालांकि, इस बीच हमलों से भयभीत कश्मीरी छात्रों के लिए दिल्ली समेत देश की विभिन्न जगहों पर कुछ स्थानीय लोग उनकी मदद को आगे आए. लेकिन मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय का देशवासियों से कश्मीरियों को सबक सिखाने के लिए वहां की अर्थव्यवस्था को चौपट करने की खुलेआम अपील करना और इस पर केंद्र सरकार की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay