एडवांस्ड सर्च

थक गए विमान

उच्च ईंधन लागत, प्रतिस्पर्धा और कमजोर रुपए ने जेट एयरवेज की योजनाएं चैपट कर दीं

Advertisement
श्वेता पुंजनई दिल्ली,मुबंई, 02 January 2019
थक गए विमान अनिंदितो मुखर्जी/रॉयटर

ऐसा लगता था कि भारत के इस विमानन उद्यमी का सूरज कभी अस्त नहीं होगा. 1991 में इस क्षेत्र को निजी खिलाडिय़ों के लिए खोले जाने के बाद नरेश गोयल इसमें कूदने वाले पहले लोगों में से थे. तब से लेकर, बाजार हिस्सेदारी के आधार पर यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी एयरलाइन के संस्थापक की आसमान को छूने वाली यात्रा रही है.

उद्यमिता के एक प्रमुख उदाहरण गोयल ने भारतीयों को एक बेहतरीन उड़ान के अनुभव से परिचित कराया और धीरे-धीरे जेट एयरवेज बहुत से लोगों की पसंदीदा एयरलाइन बन गई. 2010 में यात्री बाजार में 20 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी के साथ जेट देश की सबसे बड़ी एयरलाइन बन गई. जेट को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कदम रखे कुछ महीने ही हुए थे कि इसकी माली हालत खराब होने की खबरें आने लगीं. इस साल मई में, एयरलाइन ने अपनी 25वीं वर्षगांठ मनाई और गोयल भविष्य के बारे में आशावादी लग रहे थे. कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट में उन्होंने कहा है, "संभावनाएं उज्ज्वल हैं.''

लेकिन तीन महीने बाद जो खबरें आ रही थीं उनके अनुसार, एयरलाइन के पास केवल 60 दिनों की जरूरतों के लिए ही पर्याप्त नकदी बची थी. इसका शेयर 52 हक्रते के निचले स्तर पर पहुंच गया. वित्त वर्ष 2016 और 2017 में लगातार मुनाफे के बाद कंपनी को वित्त वर्ष 2018 में लगभग 72 करोड़ रुपए का नुक्सान हुआ. ईंधन की बढ़ती कीमतों, रुपए में गिरावट और प्रतिस्पर्धी टैरिफ के कारण विîा वर्ष 2019 की पहली तिमाही में कंपनी को 1,323 करोड़ रु. का नुक्सान और दूसरी तिमाही में 1,297 करोड़ रु. का नुक्सान हुआ. जेट को अब पैसे की सख्त जरूरत है. गोयल जब तक पूंजी के इंतजाम में सफल नहीं होंगे, एयरलाइंस की हालत सुधारना मुमकिन नहीं होगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay