एडवांस्ड सर्च

आवरण कथा-अकेले होने का सुख

वह अकेली अपनी मर्जी से है, इसलिए नहीं कि कोई मनपसंद शख्स नहीं टकराया और समाज की कथित नैतिक मर्यादाओं और पाखंडों को किनारे रखकर अपनी स्वतंत्रता का जश्न मना रही है.

Advertisement
aajtak.in
चिंकी सिन्हा नई दिल्ली, 15 October 2019
आवरण कथा-अकेले होने का सुख नित्या वालिया

नई दिल्ली के तंग लाजपत नगर की गली के अपने घर की बालकनी में खड़ीं वे कई बार उन चीजों के बारे में सोचकर ही उचाट हो जाती हैं, जो कभी उनकी आंखों में चमक ला दिया करती थीं. जैसे धूल फांक रहा उनका गिटार, जिसके तारों को लंबे समय से छेड़े जाने का इंतजार है. प्यार का टूटना दर्दनाक है लेकिन उससे भी दर्दनाक है वफा निभाना. 39 साल की उम्र में चांदनी (कहने पर नाम बदल दिया गया), ने पक्का कर लिया है कि वे कभी शादी नहीं करेंगी. कला और संस्कृति सलाहकार चांदनी उस अकेली औरत आबादी का हिस्सा हैं जो तेजी से आर्थिक और राजनैतिक ताकत बन रही है.

2011 की जनगणना में एक तथ्य हैरान करने वाला है कि 35-44 वर्ष आयु वर्ग की ऐसी महिलाओं की संख्या में 68 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जिन्होंने कभी शादी नहीं की. 2001 के मुकाबले इस आयु वर्ग में कुल महिला आबादी में वृद्धि 27 प्रतिशत दर्ज की गई. अब साधारण लगने वाले इस आंकड़े का मर्म समझने के लिए तैयार हो जाइए. ये आंकड़े उन अविवाहित, स्वतंत्र महिलाओं की बढ़ती तादाद और उनके विवाह के सामाजिक बंधन को सिरे से खारिज करने की नई हकीकत की तस्दीक करते हैं, जिसके कुछेक किस्से हम सभी के पास हैं.  

यह भारत में शहरी अकेली औरत का दौर है. वह अपने सिवाए किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है और अपनी पढ़ाई-लिखाई और करियर के बल पर जिंदगी का पूरा लुत्फ उठा रही है. वह पैसे कमाने के लिए खूब मेहनत करती है और अगर पार्टियां पसंद हैं तो कुछ और मेहनत करती है. उसका कोई पार्टनर भी हो सकता है या फिर कोई  कभी-कभार का दोस्त, या फिर कोई भी नहीं. वह खूब सैर-सपाटे करती है, अकेली या अजीज दोस्तों के साथ. उसे अकेलापन महसूस होता है, लेकिन उसे लगता है, शादी उसकी आजादी की बड़ी कीमत वसूलती है. उसे जीवन की संपूर्णता या बच्चों के लिए विवाह की आवश्यकता नहीं है, मातृत्व सुख के लिए वह बच्चे गोद ले सकती है या आइवीएफ की मदद ले सकती है.

हैदराबाद विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. पुष्पेश कुमार कहते हैं, ''मैं अकेली महिलाओं की बढ़ती संख्या को शहरों के विस्तार और उनमें प्रवासियों की बढ़ रही तादाद से जोड़ कर देखता हूं, जिसमें अपने स्वभाव के लोगों के साथ मेल-जोल के अवसर बढ़ गए हैं. बेशक कई महिलाएं विभिन्न मजबूरियों के कारण अकेले रहने को विवश होती हैं लेकिन कई के लिए यह सोचा-समझा विकल्प है.''

मर्जी से अकेली

कल्पना शर्मा के संकलन सिंगल बाइ च्वायस: हैपिली अनमैरिड वूमन में 27 से 70 वर्ष की आयु की 11 महिलाओं के लेख हैं. इसमें नारीवादी प्रकाशन संस्थान काली की संपादक 37 वर्षीया अदिति बिश्नोई अपने लेख 'स्लॉचिंग टुवर्ड्स सिंगलहुड' में लिखती हैं, ''मैंने कभी शादी नहीं की.. न ही कभी उन लाखों लोगों के सामने अटूट प्यार के लिए वादे (या करीब-करीब एक दासी जैसी सेवा का वादा, अगर आप औसत भारतीय महिला हैं) की जरूरत महसूस हुई, जिनकी रुचि बस शादी के मेन्यू और दुलहन के वजन और उसके रंग-रूप की चर्चा में रहती है. मैंने कभी भी गुप्त रिश्तों या यहां तक कि किसी स्थाई प्रेमी (पुरुष हमेशा, हमेशा डेटिंग की शुरुआती रस्मों के बाद निराश करते हैं) के लिए कभी बहुत कशिश महसूस नहीं की है... संक्षेप में, अपने आप से मिलें, एक सच्ची संगिनी, एक यकीनन अकेली लड़की, जो अपने अंदर 'भव्य प्रेम' या फिर 'शाश्वत दांपत्य सुख' की भूख को नहीं जगा सकी.''

ऋषिकेश और दिल्ली के बीच वक्त बिताने वाली और रहस्य-रोमांच की दुनिया में गहरी रुचि रखने वाली 37 वर्षीया मीरा भोजवानी ने बचपन में ही तय कर लिया था कि वे कभी शादी नहीं करेंगी. अपनी मां को दो त्रासद विवाहों में जीते देख मीरा और उनकी बहन, दोनों का शादी पर से विश्वास तो बचपन में ही टूट हो गया. वे कहती हैं, ''बचपन में ही एक बड़ा बदलाव हुआ था. आज मैं आर्थिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप से स्वतंत्र हूं.''

बिहार में पली-बढ़ीं और अब बॉलीवुड में बतौर लेखिका सक्रिय अनुकृति पांडे के लिए अविवाहित रहना सोच-समझकर लिया गया फैसला है, जिसका अर्थ है खुद की देखभाल, अपनी मान्यताओं, आत्म-सम्मान का ख्याल रखना. वे कहती हैं, ''अकेली महिला के मेरे जीवन में एक लय है—चाहे स्वयं के साथ शांति से रहना हो या फिर किसी और के प्रति कोई कड़वाहट न रखना हो. मुझे अपने फैसलों पर किसी और की मुहर नहीं चाहिए.''

अस्तित्व की आजादी

तो, अकेले रहने के फैसले के अलावा इन महिलाओं को सामाजिक मान्यताओं वाले रोमांस से क्या विरक्त करता है? दिल्ली के भोगल में एक 'फेमिनिस्ट टेरेस पार्टी' की बातचीत से शायद इसका जवाब मिल सकता है. महिलाएं कह रही हैं कि ज्यादातर 30 और 40 साल की उम्र के बीच के मर्द और उनमें से भी शादीशुदा मर्दों को पता ही नहीं है कि प्यार किया कैसे जाना है. उनमें से कुछ ने कहा कि क्या वे अपनी अकेली जिंदगी के प्रति पक्का हैं या फिर उससे जूझ रही हैं.

ज्यादा महिलाएं अब अकेले रहना पसंद कर रही हैं, इसलिए नहीं कि उन्हें कोई पुरुष साथी नहीं मिला, बल्कि इसलिए कि वे खुद को और अपने जीवन को ऐसे रिश्ते और विवाह से परे भी देखती हैं. यहां आर्थिक स्वतंत्रता से ज्यादा अपनी जिंदगी की आजादी अकेली औरतों को आकर्षित करती है. मसलन, सोमा भौमिक ने अपने प्रेमी के साथ रिश्ते तोडऩे का फैसला किया जब वह दूसरे पुरुषों से बातचीत पर ऐतराज उठाने लगा. द आर्टसएकड़ म्युजियम की 40 वर्षीया निर्देशक का कहना है, ''जिस दिन मेरे प्रेमी ने मेरे इतने अधिक उदार होने पर आपत्ति जताई, मुझे पता था कि मैं किसी को अपने तौर-तरीके तय करने की इजाजत नहीं दे सकती.''

फिर भी बहुतों ने डेटिंग ऐप्स आजमाए हैं और अनुभव कड़वा नहीं तो उत्साह जगाने वाला भी नहीं रहा. कोलकाता की लेखिका श्रीमोई पियू कुंडू कहती हैं, ''यह ढोंगियों से भरा पड़ा है.'' जब चांदनी ने एक अंतराल के बाद दो डेटिंग एप्स—हिंज और बंबल-को फिर से इंस्टॉल किया तो वही पुरुष मिले, जो उन्हें दो साल पहले दिखे थे. उन्होंने तुरंत उन ऐप्स को अनइंस्टॉल कर दिया. एक अंतरराष्ट्रीय एयरलाइन में काम करने वाली 43 साल की फ्लाइट एटेंडेंट दिल्ली की नित्या वालिया ऑनलाइन तय की डेट्स पर जाती हैं जब वे भारत के बाहर होती हैं. वालिया कहती हैं, ''मैं इस कैजुअल डेटिंग सीन को पसंद नहीं करती. दिल्ली में तो मुझे इसे लेकर बहुत संदेह रहता है.''

सोनिया कपूर को एकाकीपन स्वाभाविक रूप में मिला है. अपना ज्यादातर वक्त दिल्ली और गुवाहाटी के बीच बिताने वाली 48 साल की इस वकील ने यह ठान तो नहीं रखा था कि उन्हें अविवाहित ही रहना है लेकिन युवावस्था में उनका ज्यादा ध्यान करियर पर था, बनिस्बत कोई साथी तलाशने के.

लेकिन जैसे-जैसे बड़ी होती गईं, उन्हें अपनी आजादी रास आने लगी. उन्हें अकेले यात्राएं पसंद थीं, अपने शौक को पूरा करना, दोस्तों के समूह के साथ घूमना. वे बताती हैं, ''मुझे यह सब अच्छा लगता था, इसलिए मुझे अपने लिए कभी पुरुष साथी खोजने की आवश्यकता नहीं महसूस हुई. बाद में, जब मैंने आधे-अधूरे मन से प्रयास किया भी, तो जो पुरुष मिले उन्होंने मेरे विचार को पुख्ता कर दिया कि अकेले रहना अच्छा है.''

उन्होंने कुछ समय के लिए ऑनलाइन डेटिंग को भी आजमाया, लेकिन जब वहां मिले पुरुषों को अपनी सफलता से ईर्ष्या  करते देखा तो वह विचार भी छोड़ दिया.

इन अकेली महिलाओं के जीवन में किसी पुरुष के न होने का अर्थ जिंदगी का खत्म हो जाना नहीं है.

मसलन, आशिमा छिब्बर को लें. 2013 में आई सफल फिल्म मेरे डैड की मारुति और लोकप्रिय वेब सीरीज लेडीज रूम की निर्देशक 44 वर्षीया छिब्बर ने 40 वर्ष की उम्र में आइवीएफ (इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन) भी कराया.

43 साल की उम्र में उन्हें एक बेटा हुआ और वे कहती हैं कि पिछला साल उनकी जिंदगी का सबसे खुशनुमा और उपलब्धियों भरा साल रहा. वे बताती हैं, ''बच्चा पैदा करने की मेरी उम्र निकली जा रही थी और मैं किसी आदमी के इंतजार में नहीं बैठी रह सकती थी कि वह आएगा और मुझे एक बच्चा देगा. मैं हमेशा से मां बनना चाहती थी, इसलिए मैं इस निर्णय के साथ आगे बढ़ी.'' उन्होंने इस साल मई में मुंबई में सिंगल मदर्स के जश्न मां हूं ना के सेशन 'बॉक्स ऑफ लड्डू' में अपने अनुभव साझा किए.

व्यापक सामाजिक और पारिवारिक ताने-बाने में आर्थिक और भावनात्मक रूप से स्वतंत्र शहरी महिला के उत्थान का क्या मतलब है? हैदराबाद विश्वविद्यालय के डॉ. पुष्पेश कुमार कहते हैं, ''मैं अकेली औरतों की बढ़ती संख्या को शहरीकरण और बड़े शहरों में प्रवासियों के साथ आई नई संभावनाओं के साथ जोड़कर देखता हूं. एलजीबीटीक्यूआइए+ बिरादरी को मिली कानूनी आजादी से बहुत लोग अकेले रहना पसंद करेंगे. दोस्ती शादी का विकल्प बन सकती है.'' हालांकि, वे इसमें वर्ग का पहलू भी देखते हैं. वे कहते हैं, ''अगर आप सुविधासंपन्न या उच्च मध्यम वर्ग से हैं, तो आप अपनी मर्जी से अपने तरीके से रह सकते हैं और अपनी विशिष्ट जीवन शैली को आपको छुपाने की भी जरूरत नहीं होगी लेकिन लिव-इन-रिलेशनशिप जैसे अन्य विकल्पों के चलन में आने के बावजूद, विवाह ही अब भी ज्यादातर लोगों के लिए प्रमुख विकल्प बना हुआ है. सभी 'भटकावों' को शादी के जरिए ठीक किया जाता है.''

पितृसत्तात्मक भारतीय सामाजिक व्यवस्था में विवाह ही अधिकांश महिलाओं के लिए सबसे उचित विकल्प माना जाता है जो उन्हें पूरी सुरक्षा देता है. शादी करने के लिए माता-पिता का दबाव अक्सर अपने बच्चों की अधेड़ उम्र और उससे आगे के जीवन को लेकर डर या चिंता से प्रेरित होता है. 35 साल की उम्र से अविवाहित रहने की ठान चुकीं प्रज्ञा लाल को अपने माता-पिता को नियमित रूप से समझाना पड़ता है. लेकिन 41 साल की उम्र में, खुद उनके दिमाग में कभी-कभी यह चिंता आने लगी कि पिता के मरने के बाद उनका क्या होगा. वे कहती हैं, ''फिर सोचती हूं कि यह मेरे निर्णय का हिस्सा है.''

कोलकाता की वास्तुविद् 35 वर्षीया रुनझुन गुप्ता कहती हैं, समाज लड़कियों को ''सफेद घोड़े पर सवार एक सुंदर राजकुमार आकर तुम्हें ब्याह ले जाएगा'' जैसी कहानियां सुनाकर छोटी उम्र से ही शादी के लिए तैयार करना शुरू कर देता है. ''एक बच्चे के रूप में, मुझे भी मेरी दादी ने ऐसी बहुत-सी प्यारी-प्यारी कहानियां सुनाईं और मैं भी उन कहानियों को सच समझकर सपने संजोती थी क्योंकि जिनके मुंह से मैंने वे कहानियां सुनी थीं, वे मुझे बहुत प्यार करती थीं.'' फिर विवाह से परिचय एक उद्योग की शक्ल में हुआ जो यह बताता है कि शादी ही सारी खुशियों की कुंजी है. भारत में अधिकांश वस्त्र फैशन, दुलहन के कपड़ों की सबसे ज्यादा बातें करता है, उसका जश्न मनाता है.

यह पता चला है कि जापान में अकेली महिलाएं शादियों का सारा उत्सव करती हैं लेकिन दूल्हे के बिना. इसमें एक वास्तविक शादी का झंझट नहीं है और ड्रेसिंग अप, फोटोशूट का पूरा रोमांच है. भारत में कुंडू ने कुछ ऐसा ही किया. उन्होंने हमेशा शादी का सपना देखा था. उन्होंने एक सफेद और गोल्ड साड़ी पहनी थी, गले में अपनी दादी का हार डाला था.

बॉलीवुड संगीत ने शादी वाले धूमधाम की भरपाई की. बस यह उनका 40वां जन्मदिन था, न कि उनकी शादी का आयोजन.

उनको ताने दिए गए कि वे जरूरत से ज्यादा दिखावा कर रही हैं, लेकिन वे अपने फैसले पर अडिग रहीं. वे कहती हैं, ''जब मैं 35 साल की हुई तब तक मैंने पक्का इरादा कर लिया था कि शादी जैसी चीज मेरे लिए नहीं है.''

उनकी 2018 की किताब स्टेटस सिंगल: द ट्रुथ अबाउट बीइंग ए सिंगल वुमन इन इंडिया में 3,000 अकेली महिलाओं के अनुभवों का वर्णन है. कुंडू अगले साल बेंगलूरू में, अकेली महिलाओं का पहला सम्मेलन आयोजित करेंगी.

कोई रोके नहीं, कोई टोके नहीं

हालांकि, कई सकारात्मक बदलावों के बावजूद, अकेली अविवाहित औरत आज भी बहुत से लोगों की आंखों में खटकती है. 'उसके साथ कुछ तो गलत है', 'शायद वह मानसिक रूप से बीमार है' और 'एक उम्र' के बाद अकेली महिला 'कहीं की नहीं रही!'

आर्किटेक्ट गुप्ता कहती हैं, ''यह एक यातना कक्ष में विभिन्न स्तरों से गुजरने जैसा होता है. लोग लगातार पूछते हैं, सब ठीक तो है? कोई बीमारी तो नहीं? कोई मानसिक समस्या तो नहीं?''उनके माता-पिता को लगातार कहा जाता था कि उन्हें अपनी बेटी को 'बहुत ज्यादा' नहीं पढ़ाना चाहिए था. गुप्ता अपने परिवार के लिए शर्मिंदगी का कारण बन गईं और अविवाहित बेटी को लेकर पूछे जाने वाले सवालों से घबराए और लज्जित उनके माता-पिता ने किसी भी पारिवारिक कार्यक्रम में जाना बंद कर दिया.

''मेरी व्यक्तिगत सफलता मेरी अपनी ही आंखों में बेमानी हो गई. मेरे रिश्तेदारों ने मुझे दूसरे लोगों की शादियों में जश्न मनाने और नाचने के कारण बेशर्म कहा और जैसे ही मैंने 30 साल की उम्र पार की थी, मुझे यह बताना शुरू कर दिया गया कि अब तो मुझे केवल कोई 'सेकंडहैंड तलाकशुदा या विधुर' ही मिल सकता है. जैसे ही मैं 35 की हुई, उनकी नजरों में मैंने पति, बच्चों और वास्तव में एक खुशहाल जीवन का सारा मौका ही गंवा दिया.''

दिल्ली में स्कूल ऑफ डेवलपमेंट ऐंड इंपैक्ट में संसाधन प्रबंधन की सलाहकार अर्चना मित्तल कहती हैं कि समाज अकेली महिलाओं को असफल घोषित कर देता है. मित्तल एक थेरेपिस्ट भी हैं. वे कहती हैं कि अकेली महिलाओं, जिन्हें अक्सर 'चुड़ैलें' कहा जाता है, को रहने के लिए घर खोजने में कितना संघर्ष करना पड़ता है और जीवन के हर मोड़ पर उन्हें दुव्र्यवहार झेलना पड़ता है. मसलन, कोलकाता में अपार्टमेंट किराए पर लेने या खरीदने के लिए भौमिक को उनके निजी जीवन से जुड़े तीखे सवालों को जवाब देना पड़ा और अब उन्हें इसकी आदत हो चुकी है.

वे बताती हैं, ''लोग यह जानना चाहते थे कि क्या यह फ्लैट मैं अपने खुद के पैसे से खरीद रही हूं या मेरा कोई गॉडफादर है जो आर्थिक रूप से मुझे सहारा दे रहा है. और जब मैं एक किराए की जगह में रह रही थी, तो मुझे सख्ती से कहा गया कि मैं अपने माता-पिता या [पुरुष] दोस्तों को अपने घर में नहीं ला सकती.'' एक और समय, जब भौमिक ने अपने स्थानीय अभिभावक और शहर में अपने संरक्षक से मदद मांगी, तो उसने उसे भौमिक के निमंत्रण के रूप में लिया. मित्तल के अनुसार, एक सामान्य धारणा यह है कि अकेली महिलाओं के या तो बहुत से साथी होंगे या फिर वे समलैंगिक होंगी. ''या फिर वे झोलावाली, नारी मोर्चा (नारीवादी, कार्यकर्ता) टाइप की औरतें होंगी. लोग यह भी मानते हैं कि उन्हें अकेलापन खटक रहा होगा और उनका जीवन एकदम उचाट होगा.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay