एडवांस्ड सर्च

फिर मिलेगी जीत

हमेशा की तरह भाजपा के तुरुप के पत्ते मोदी, शाह और योगी आदित्यनाथ हैं. तीनों मिलकर राज्य में करीब 150 सार्वजनिक सभाएं करेंगे. विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में मोदी की रैलियों में लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है.

Advertisement
उदय माहूरकरनई दिल्ली, 02 May 2019
फिर मिलेगी जीत कमल की छाप मेरठ में 28 मार्च को भाजपा की एक रैली में पार्टी के समर्थक

उत्तर प्रदेश की चुनावी जंग समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी गठबंधन के यादव, दलित और मुस्लिम मतदाताओं के मजबूत गठजोड़ बनाम बालाकोट हवाई हमले को उपलब्धि बताने के प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय सुरक्षा के कथ्य के इर्दगिर्द ही सिमटी है. भाजपा का दावा है कि वह इस साल भी 2014 की जीत दोहराएगी. पर चुनावी अंकगणित इस बात का समर्थन नहीं करता. अगर 2014 के लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा को मिले वोटों को जोड़ दिया जाए, तो भाजपा को 2019 में 37 से ज्यादा सीटें नहीं मिलेंगी.

पर उसे भरोसा है कि मोदी का करिश्मा दूसरी सभी चुनौतियों पर भारी पड़ रहा है और पार्टी उसी जीत की ओर बढ़ रही है. अलीगढ़ जैसी जगहों पर प्रधानमंत्री की रैलियों में उत्साही भीड़ देखी गई. मोदी अपनी चुनावी रैलियों में जगह और श्रोताओं के हिसाब से भाषण में बदलाव करते हैं, फिर भी राष्ट्रीय सुरक्षा हर जगह उनका केंद्रीय विषय रहता है. उन्होंने सपा और बसपा के बीच अतीत की आपसी रंजिश और दोनों दलों के 'मुसलमानों के लिए विशेष प्रेम' की चर्चा करके, भाजपा का सांप्रदायिक रणनीतिक कार्ड खेलने का कोई अवसर नहीं गंवाया है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को भरोसा है कि उनकी चुनावी रणनीति सही चल रही है. उनका मानना है कि कांग्रेस अलग से चुनाव लड़कर (कांग्रेस ने 2014 में 7.5 फीसदी वोट हासिल किए थे) सपा-बसपा गठबंधन के वोट काट रही है. 2014 में, सपा को 22.2 प्रतिशत और बसपा को 19.6 प्रतिशत वोट मिले थे. पर दोनों का संयुक्त वोट भी भाजपा के 42.3 प्रतिशत (एनडीए का 43.3 प्रतिशत वोट था) से कम था. अगर कांग्रेस भी गठबंधन का हिस्सा होती, तो भाजपा मुश्किल में पड़ सकती थी.

शाह उम्मीद कर रहे हैं कि सत्ता विरोधी लहर और कृषि संकट जैसे अन्य मुद्दों के कारण भाजपा को जितने वोटों का नुक्सान होगा, उसकी भरपाई मोदी की केंद्रीय योजनाओं के करीब 3 करोड़ लाभार्थियों से धन्यवाद के रूप में मिले वोटों से हो जाएगी. बालाकोट हमले का भी असर रहेगा क्योंकि पुलवामा हमले से यूपी में सबसे ज्यादा उबाल था. मारे गए 40 जवानों में से 12 यूपी से थे. मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कट्टर राष्ट्रवाद भी कई लोगों को आकर्षित करेगा.

भाजपा का कहना है कि यूपी में उसके 2 लाख बूथस्तर के कार्यकर्ता हैं जो प्रदेश के कुल 1,63,000 बूथों में से 1,48,000 बूथों को कवर करते हैं. उनका मुख्य लक्ष्य पीएम की केंद्रीय योजनाओं के लाभार्थी होंगे. 12 लाभार्थियों तक पहुंचने के लिए औसतन एक कार्यकर्ता की तैनाती की गई है. 2014 में लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को दो ऐतिहासिक जीत दिलाने वाले शाह कहते हैं, ''बूथ स्तर पर हमारे कार्यकर्ता लाभार्थियों तक पहुंचकर उन्हें पार्टी के पक्ष में लाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे.''

हमेशा की तरह भाजपा के तुरुप के पत्ते मोदी, शाह और योगी आदित्यनाथ हैं. तीनों मिलकर राज्य में करीब 150 सार्वजनिक सभाएं करेंगे. विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में मोदी की रैलियों में लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है. ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी जातिगत समीकरणों का बोलबाला है, फिर भी प्रधानमंत्री ग्रामीण मतदाताओं के बीच एक प्रमुख कारक बने हुए हैं. राहुल गांधी की पारंपरिक सीट अमेठी में भी—जहां भाजपा ग्राम सड़क योजना जैसी केंद्रीय योजनाओं के साथ बहुत सक्रिय रही है. फिर भी अमेठी पर गांधी परिवार की पकड़ स्पष्ट दिखती है.

हालांकि, 20 अप्रैल को मैनपुरी में हुई सपा दिग्गज मुलायम सिंह यादव और बसपा प्रमुख मायावती की एक संयुक्त रैली से भाजपा चिंतित है. दोनों का सार्वजनिक रूप से एकसाथ दिखना, जमीनी स्तर पर गठबंधन करने की भाजपा की कोशिशों की हवा निकाल सकता है. भाजपा को उम्मीद थी कि सपा-बसपा के कार्यकर्ताओं में पुरानी अदावत रही है, जिससे आपस में उनके वोटों का पर्याप्त हस्तांतरण नहीं होगा. कयास लगाया जा रहा था कि सपा के वोट बसपा को स्थानांतरित होने में परेशानी आएगी. पर मैनपुरी की सभा और मुलायम की ओर से मायावती की खूब प्रशंसा करना, बसपा को कट्टर दुश्मन समझने वाले सपा कार्यकर्ताओं की कटुता दूर कर सकता है.

भाजपा की चिंता का एक अन्य कारण है, सपा-बसपा के पक्ष में मुस्लिम वोटों का लामबंद होना. भाजपा मुसलमानों को आकर्षित करने तक में नाकाम रही है पर पार्टी का मानना है कि इसका असर सिर्फ 20 सीटों पर ही होगा. बाकी जगहों पर शाह ने भाजपा के महासचिव सुनील बंसल के साथ मिलकर जो जातीय समीकरण बनाया है, वह पार्टी के हक में जाएगा. अनुसूचित जातियों में, पार्टी ज्यादातर गैर-जाटवों जैसे धोबी, कोली और वाल्मीकि जाति के उम्मीदवारों को उतार रही है. जाटव मायावती के मुख्य समर्थक हैं.

आदित्यनाथ और बंसल के बीच पुराने मतभेद रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि दोनों ने अपने मतभेदों को दफन कर दिया है. आरएसएस के भरोसेमंद बंसल ने संगठन को चुनाव अभियान में सफलतापूर्वक उतार दिया है. भाजपा का तो यही मानना है कि राज्य की चुनावी जंग में उसने अच्छी पकड़ बना रखी है. यह जरूरी भी है क्योंकि दिल्ली के तक्चत का रास्ता यूपी से होकर जाता है. ठ्ठ

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay